गहनो कर्मणा गति

बिस्नोयी सम्प्रदाय का नाम सुना है क्या?
20 नियम है…ये जप, ये ध्यान, ये जप करना है आदि..उन के गुरू ने 20और 9 नियम बताये उन को बोलते.. 20 और 9 = बिस्नोयी सम्प्रदाय चल पडा…

ये बिस्नोयी सम्प्रदाय के जम्भेश्वर जी महाराज जम्भोला तालाब खुदवा रहे थे…उस में जैसलमेर नरेश भी वहाँ  उपस्थित था..थोडा बहोत सेवा में मन लगता था उन का..
तो नरेश रावल एक माई के तरफ देख के पूछे की कौन है…तो लोगो ने बताया की ये बाई घूँघट में ही रहेती…
तालाब खोदने की सेवा करती… मिट्टी उठाती… लेकिन कौन है, कहा की है पता नहीं चलता…
तो जम्भेश्वर जी महाराज ने कहा की , ‘इस बाई के 3 जन्मो के बात तो बता दूँ मैं  अभी..’

तो जैसलमेर के राजा  रावल ने आदर सहित महाराज जम्भेश्वर जी से पूछा की , “कौन है ये माई?”

ये पूर्व जनम में मथुरा की पट्टरानी  थी… राजा मरने के बाद ये पट्टरानी  के हाथ में हुकमत आ गयी..
गुजरात के कुछ यात्री मथुरा में आये…. उन के पास गहने-गांठे, रुपये-पैसे ज्यादा थे..अधिकारियों ने टैक्स आदि बोल के उन से उन का धन छीन लिया और रानी को वो धन दे कर खुश किया…रानी की और आदत बिगाड़ी..

धरम की जगह जानेवाले की सेवा करने से पुण्य होता है लेकिन उन का शोषण करने से क्या पतन होता ये बाई को देख कर पता चलेगा…

रानी की आदत बिगड़ी तो अधिकारियों को कहे दिया ऐसा ऐसा भले करो और राज्य के कोष में जमा करो..तो वसूली तो होने लगी..खानदानी तो होने लगी..लेकिन उस वसूली के अन्दर ऐसी गड़बड़ चली की रानी का मन बिगड़ गया..
गहने गांठे हार सिंगार ऐशो आराम मौज मजा करने लगी..

प्रजा के पैसो से जो ऐशो आराम करते, मौज मजा करते उन को उस समय तो मजा आती है.. लेकिन जम्भेश्वर महाराज ने बता दिया की आगे चल कर उन की क्या हालत होती है..
के रानी मर गयी…और गधी बनी…खूब डंडे खाने लगी…
गधी का शरीर छूटा  तो बद में खचरी बनी…घोडा उस का बाप और गधी उस की माँ..ऐसी खचरी बनी…

उस खचरी पर लाद  लाद के पानी एक प्याऊ में ले जाते…. भगवान के रस्ते जानेवाले यात्री वो पानी पीते  … यात्री के लिए खचरी की सेवा लगी तो अब वो ही खचरी मरने के बाद मनुष्य बनी है…वो ही बाई मजूर के रूप में घूँघट निकाल के आती ….तालाब की सेवा करती, उस के करम काट रही है …

ऐश आराम अगर पसीने के पैसे से करता तो भी घाटा  है, ज्यादा नहीं…लेकिन दुसरे का शोषण कर के जो ऐश-आराम करता है तो बहोत जन्मो तक भोगना पड़ता है…. अगर संत और भक्त को सता कर उस पैसों से ऐश आराम किया जाता है तो उस की दुर्गति खूब होती है…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

KARM KAA PHAL

bisnoyi sampradaay ka naam suna hai kya?
20 niyam hai…ye jap ye dhyan ye jap karanaa hai aadi..un ke guru ne 20aur 9 niyam bataaye un ko bolate.. 20 aur 9 = bisnoyi sampradaay chal padaa…

ye bisnoyi sampradaay ke jambheshwar ji mahaaraj jambholaa taalaab khudawaa rahe the…us me jaisalmer naresh bhi wahaa upsthit tha..thoda bahot sewa me man lagataa tha un ka..
to naresh raawal ek maayi ke taraf dekh ke puchhe ki kaun hai…to logo ne bataayaa ki ye baai ghunghat me hi raheti…
taalaab khodane ki sewa karati… mitti uthaati… lekin kaun hai, kahaa ki hai pataa nahi chalataa…
to jambheshwar ji maharaj ne kahaa ki is baai ke 3 janamo ke baat to bataa dun mai abhi..

to jaisalmer ke raja raawal ne aadar sahit maharaj jambheshwar ji se puchhaa ki , “kaun hai ye maayi?”

ye purv janam me mathuraa ki pattraani thi… raaja marane ke baad ye pattrani ke haath me hukamat aa gayi..
gujarath ke kuchh yaatri mathuraa men aaye…. un ke paas gahene-gaanthe, rupaye-paise jyada the..adhikaariyo ne tax aadi bol ke un se un ka dhan chhin liyaa aur raani ko de kar khush kiyaa…rani ki aur aadat bigaadi..

dharam ki jagaha jaanewale ki sewa karane se punya hotaa hai lekin un ka shoshan karane se kya patan hota ye baai ko dekh kar pataa chalegaa…

raani ki aadat bigadi to adhikaariyon ko kahe diya aisa aisa bhale karo aur raajy ke kosh me jamaa karo..to vasuli to hone lagi..khandani to hone lagi..lekin us vasuli ke andar aisi gadbad chali ki raani ka man bigad gayaa..
gahene gaanthe haar singaar aisho aaraam mauj majaa karane lagi..

praja ke paiso  se jo aisho aaraam karate, mauj majaa karate un ko us samay to majaa aati hai.. lekin jambheshwar maharaj ne bataa diya ki aage chal kar un ki kya haalat hoti hai..
ke rani mar gayi…aur gadhi bani…khub dande khane lagi…
gadhi ka sharir chhuta to baad me khachari bani…ghoda us kaa baap aur gadhi us ki maa..aisi khachari bani…

us khachari par laad laad ke pani ek pyaau me le jaate…. bhagavan ke raste janewale yatri vo paani pite… yatri ke liye khachari ki sewa lagi to ab vo hi khachari marane ke baad manushy bani hai…vo hi bai majur ke rup me ghunghat nikaal ke aati ….taalaab ki sewa karati us ke karam kaat rahi hai …

aish aaraam agar pasine ke paise se karataa to bhi ghata hai, jyada nahi…lekin dusare ka shoshan kar ke jo aish-aaraam karataa hai to bahot janamo tak bhoganaa padata hai…. agar sant aur bhakt ko sataa kar kiyaa jata hai to us ki durgati khub hoti hai…

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: