औरंगजेब का भाई दाराशिको


( परम पूज्य आसाराम बापूजी के सत्संग से )

जिस के जीवन में द्वेष पूर्ण धर्म का प्रचार है वो धर्मांध  औरंगजेब था..लेकिन उस का भाई दाराशिको जब हिन्दू धर्म के उपनिषदे  पढ़ता है तो नत-मस्तक हो जाता है…
मरने के बाद कबर में
गाड़ दिए जायेंगे, फिर जब क़यामत होगी तब मोहमद शाह जिस की शिफारिश करेंगे उस को बिश्त  मिलेगा..बिश्त में शराब के जशने  होंगे और हूरे होंगी—इस बात से दाराशिको का मन संतुष्ट नहीं हुआ…
औरंगजेब का भाई दाराशिको विचारवान था..एक हूर मिलती अपनी पत्नी के सिवाय तो जीवन खोकला हो जाता है..1-2 शराब की बोतल मिलती है तो आदमी बांवरा हो जाता है…शराब के जशने  और हूरे मिलेगी ये प्रलोभन देकर  संयम सिखाने की बात हो सकती है …वरना शराब के जशने  और हूरे इंसान का क्या भला करेगी? दाराशिको उपनिषदों  और गीता का अध्ययन कर के ऐसे ऊँचे आत्म- अनुभव में पहुंचा की उस ने ठान लिया की मरने के बाद कोई हमारी सिफारिश करे और हम को बिश्त में भेजे इस का इंतज़ार  न करते हुए जीते जी अपना आत्मा-परमात्मा का वैभव पा लेना चाहिए…ये हिन्दू धर्म का अमृत-खजाना मुसलमान समाज को भी मिलना चाहिए…इसलिए उस ने हिन्दू उपनिषदों  का अनुवाद किया..
उर्दू फारसी और संस्कृत   का मिश्रण कर के उस ने कई उपनिषदे  रची..

दाराशिको का रचा इल्लोह उपनिषद है ..इस इल्लोह उपनिषद का एक श्लोक :-

हेच फिकर मत कर्त्यव्यम
कर्त्यव्यम जिकरे  खुदा
खुदाताला प्रसादेन
सर्व कार्यं फतेह भवेत्…

तुम संसार की -इस की – उस की फिकर न करो, अपने परमात्म स्वरुप का ज्ञान पाओ , उस का चिंतन करो..

ये बात शुकदेव जी महाराज ने 5240 वर्ष पहेले राजा  परीक्षत को कहा है :-
तस्मात् सर्वो आत्मन राजन
हरि अभिधीयते श्रोतव्य किर्तिताव्यस्य
स्मृतव्यो भगवत गणम

राजा  परीक्षित ने शुकदेव जी महाराज को प्रश्न किया था की मनुष्य को अपने जीवन काल में मनुष्य को क्या सिख लेना चाहिए, क्या पा लेना चाहिए..
क्यों की संसार का जो कुछ भी पायेंगे तो मृत्यु  के झटके से सब छुट जाएगा…तो मनुष्य का भला करनेवाली ऐसी कौन सी चीज है ? ऐसी कौन सी विद्या है?
तो शुकदेव जी महाराज ने कहा की मनुष्य को अपने जीवन काल में अपने आत्मा-परमात्मा का ज्ञान पा लेना चाहिए..और भगवान की मधुमय कीर्ति और भगवान के मधुमय गुणों का स्मरण कर के अपने आत्मा में भगवान के मधुर स्वभाव का आस्वादन  कर लेना चाहिए..दुनिया के बाते सीखोगे तो मित्र-शत्रु की बात होगी…शत्रु की बात  ह्रदय में जेलसी -इर्षा  पैदा करेगी..जलन पैदा करेगी..मित्र की बात ह्रदय में आसक्ति और अँधा राग पैदा करेगी..लेकिन भगवान की बात ह्रदय में भागवत रस , भगवत-ज्ञान, भगवत -शांती  और भगवत माधुर्य  देकर मुक्तात्मा बना देगी..निर्दुख आत्मा बना देगी..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

(Param Pujya Asaram Bapuji ke Satsang se..)

jis ke jeevan me dwesh purn dharm ka prachaar hai vo dhramaandh aurngjeb tha..lekin us ka bhai darashiko jab hindu dharm ke upnishade padhataa hai  to nat-mastak ho jata hai…
marane ke baad  kabar me gaad diye jayenge, phir jab kayaamat hogi tab mohmad shaah jis ki shifarish karenge us ko bisht milegaa..bisht me sharaab ke jashne honge aur hoore hongi—is baat se darashiko ka man santusht nahi huaa…
aurangajeb ka bhai darashiko vichaarwaan tha..ek hoor milati apani patni ke siwaay to jeevan khokalaa ho jata hai..1-2 sharaab ki botal milati hai to aadami baanwaraa ho jata hai…sharaab ke chasne aur hoore milegi ye pralobhan dekar thda sanyam sikhane ki baat ho sakati hai …varanaa sharaab ke chasne aur hoore insaan ka kya bhalaa karegi? darashiko upnishado aur gita ka adhyayan kar ke aise unche aatm- anubhav me pahunchaa ki us ne thaan liya ki marane ke baad koyi hamaari sifaarish kare aur ham ko bisht me bheje is ka injaar na karate huye jite jee apana aatma-paramaatma ka vaibhav paa lenaa chahiye…ye hindu dharm ka amrut-khajana musalmaan samaaj ko bhi milanaa chahiye…isliye us ne hindu upnishado ka anuwaad kiyaa..
urdu phaarsi aur sankrut ka mishran kar ke us ne kayi upnishade rachi..

darashiko ka rachaa illoh upnishad hai ..is illoh upnishad ka ek shlok :-

hech phikar mat kartyavyam
kartyavyam jikare khudaa
khudaatalaa prasaaden
sarv kaaryam phateh bhavet…

tum sansaar ki is ki us ki phikar na karo, apane paramaatm swarup ka gyan paa, us ka chintan karo..

ye baat shukdev ji maharaj ne 5240 varsh pahele raja parikshat ko kahaa hai :-
tasmaat sarvo aatman raajan
hari abhidhiyate shrotavy kirtitavyasy
smrutavyo bhagavat ganaam

raja Parikshit ne shukdev ji maharaj ko prashn kiya tha ki manushy ko apane jeevan kaal me manushy ko kya sikh lena chahiye, kya paa lena chahiye..
kyo ki sansaar ka jo kuchh bhi paayenge to murtyu ke jhatake se sab chhut jaayegaa…to manushy ka bhalaa karanewali aisi kaun si chij hai ?aisi kaun si vidya hai?
to shukdev ji maharaj ne kahaa ki manushy ko apane jeevan kaal me apane aatma-paramaatma ka gyan paa lena chahiye..aur bhagavan ki madhumay kirti aur bhagavan ke madhumay gunon ka smaran kar ke apane aatma me bhagavan ke madhur swabhaav ka aaswasadan kar lena chahiye..duniya ake baate sikhoge to mitr-shatru ki baat hogi…shatru ki baat se hruday me jelasy paida karegi..jalan paida karegi..mitr ki baat hruday me aasakti aur andha raag paida karegi..lekin bhagavan ki baat hruday me bhagavatras, bhagavat-gyan, bhagavat -shanti aur bhagavat madhury dekar muktatmaa banaa degi..nirdukh aatma banaa degi..

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: