अकबर को सबक सिखाने वाली किरणदेवी

ओंकार की साधना करने वाले चाहे युवक हो या युवती हो, मौत से डरते नही लेकिन मौत के घाट उतारने वाले को ठीक कर देते है.
महाराणा प्रताप का नाम तो तुम लोग जानते हो..महाराणा  प्रताप का भाई था शक्ति सिंह ..शक्ति सिंह की बेटी का नाम किरण देवी था..किरण देवी को सत्संग में ऐसा कुछ दिव्य ज्ञान  मिला था की ओंकार का गुंजन करती..ऐसा कुछ  सीखने को मिल गया की किरण बड़ी बहादुर हुई..और लोग तो किरण को देख कर बोलते थे की ये तो देवी का रूप है..क्यों की  ओंकार का जप करने से अधी भौतिक और अधी दैविक शक्तियां   विकसित हो गयी थी..
उन दिनों  अकबर बादशाह के यहा खुशरोज मेला लगता था..खुशरोज मेला में नौवे दिन सिर्फ़ महिलाओं को प्रवेश होता था.. पुरुष नही आते थे..तो सारी महिलायें  महिलायें  होती तो दिल खोल के मेले में घूमती थी…घूँघट की ज़रूरत नही..
तो अकबर जितना प्रसिध्द  राजा था उतना ही हवस का भी गुलाम था…रानियों से उस का पेट नही भरता, हवस पूरी नही होती  तो कोई भी सुंदर युवती को देखता तो उस को फसाने के लिए साजिश करता…अब मेले में नवमे दिन कोई पुरुष नही जाए..अकबर भी औरत के कपड़े पहेंन  कर जाता..और उस की रखी हुई जो बदमाश वेश्याए भी उस के साथ में रहेती उस मेले में..अकबर जिस लड़की की तरफ इशारा कर देवे वो कुलटाए उस लड़की को समझा के बुझा के उस को प्रलोभन देकर..साम दाम दंड भेद  कैसे भी कर के लड़की को ले आती..जब राजा चाहे तो उन की रखी हुई बदमाश  औरते कुछ  भी कर सकती थी राजा के लिए..
तो मेला देखने गयी शक्ति सिंह की कन्या किरण देवी.. और अकबर ने उस का रूप लावण्य प्रभाव देख कर ऐसा हो गया की जैसे दीपक के आगे  पतंगा कुर्बान हो जाता है, ऐसे किरण देवी का रूप सौंदर्य प्रभाव देख कर अकबर के साथ में जो कुलटा बदमाश औरते थी उन को बोला की कुछ  भी हो जाय बीसो उंगलियों का ज़ोर लगा कर इस को मेरे महेल में हाजिर कर दो..
अब किरण देवी तो उन के साजिश मे फंसी और उन के साथ हो गयी..किरण देवी को क्या क्या बाते कर के प्रलोभन दिखा के फ़सा के उस को अकबर मे महेल में ले गयी..कुलटायें तो चली गयी..किरण को देख कर अकबर का तो काम विकार एकदम अंधे घोड़े पर हावी हो गया…किरण देवी समझ गयी की वो औरते इन्ही की भेजी हुई कुलटायें थी और मेरे को फँसा कर यहा लाया गया है..ये हवस का शिकार है…क्षण भर के लिए चुप हुई और आज्ञा  चक्र में ओंकार स्वरूप का ध्यान किया.. हे अंतरात्मा परमात्मा तू मेरे साथ है..तू ही आद्य  शक्ति के रूप में और तू ही कृष्ण और राम जी के रूप में , तू ही संत और भगवंत के रूप सब के दिल में प्रगट होता है.. मेरी सहायता करना और मुझे सामर्थ्य देना तेरी ही कृपा है..ओम ओम… मन में जपा..कमर से कट्यार  निकाली..और जैसे शेरनी हाथी पर झपटती है ऐसे अकबर का हाथ पकड़ा एक…कट्यार  को संभालते हुए ऐसा कुछ  दाँव मारा की अकबर नीचे गिर पड़ा..किरण देवी जंप मार के अकबर के छाती  पर चढ़ बैठी और  कट्यार गर्दन  पर रख के बोली अभी तेरी मृत्यु की घड़ी है नालायक..भगवान ने तुझे राजा बनाया..बहू बेटियों की इज़्ज़त बचाने का राजा का काम होता है..और तू औरते के कपड़े पहेंन  कर सुंदर लड़कियों को फसाने के लिए मेले में ये साजिश करता है..अब तेरी मृत्यु निकट है..बोल क्या चाहिए?..
अकबर बोला, ‘मुझे प्राणो का दान दे दे देवी….’
किरण देवी बोली, ‘तू हवस का शिकार..इस खुषरोज  मेले को बंद करेगा की नही?’
अकबर बोला, ‘अल्लाह की कसम मैं  बंद कर दूँगा..’
किरण देवी ने तो गर्जना की  ‘ओम ओम ओम ओम ..’
अकबर के नीचे कपड़े गीले हो गये..अकबर कापने लगा..बोला, ‘मैं  मेला बंद कर दूँगा और दुबारा तुम्हारी जैसी युवतियों को नही फसाउंगा     ..’
किरण देवी दहाडी, “हमारी जैसी नही, दूसरी कोई भोलीभाली हो तो भी..किसी भी कन्या की इज़्ज़त नही लूटेगा..बोल वचन देता है की कट्यार  गले से आरपार कर दूं?”
अकबर बोला, “नही नही!  ..”   ..क्या अकबर की दुर्दशा हुई..बच्चा भी इतना कपड़ा गीला नही करता…आगे  कपड़ा गीला होता तो पिछे  नही होता..लेकिन अकबर के तो पिछे  भी रंगीन कपड़े हो गये.. ऐसी बुरी हालत हुई..
अकबर ऐसा कापने लगा..किस से? एक कन्या से!..
कन्यायें  अपने को अबला ना समझे..महिलायें  अपने को दुर्बल ना समझे..ओम स्वरूप अंतरात्मा परमात्मा की शक्तियां  सब के अंदर छूपी है…ओम ओम ओम ओम ओम…
(बहुत सुंदर ओंकार का कीर्तन हो रहा है..)
ओंकार के गुंजन ने ऐसी शक्ति जगाई किरण देवी में…अकबर ने माफी माँगी..अकबर के मुँह पर थूकती हुई किरण देवी उस के महेल से निकल गयी..अकबर ने वो मेला बंद कर दिया..और सुंदर युवतियों को फ़सा के हवस का शिकार बनाने का दुष्कर्म छोड़ दिया की नही पता नही लेकिन कम तो ज़रूर किया होगा..
ॐ शांती 
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

 

 

omkaar ki saadhanaa karane waale chaahe yuwak ho yaa yuwati ho, maut se darate nahi lekin maut ke ghaat utaarane waale ko thik kar dete hai.

maharana prataap ka naam to tum log jaanate ho..maharan prataap ka bhaai tha shakti sinh ..shakti sinh ki beti ka naam kiran devi tha..kiran devi ko satsang men aisaa kuchh divy gyaan mila tha ki omkaar ka gunjan karati..aisaa kuchh sikhane ko mil gayaa ki kiran badi bahaadur hui..aur log to kiran ko dekh kar bolate the ki ye to devi ka roop hai..kyo ki omkaar ka jap karane se adhi bhautik aur adhi daivik shaktiyaa vikasit ho gayi thi..

un dino akbar baadshaah ke yahaa khushaaroj mela lagataa thaa..khushaaroj melaa men nauve din sirf mahilaaon ko pravesh hotaa tha.. purush nahi aate the..to saari mahilaaye mahilaaye hoti to dil khol ke mele men ghumati thi…ghunghat ki jarurat nahi..

to akabar jitanaa prasidhd raja thaa utanaa hi havas ka bhi gulaam thaa…raniyon se us ka pet nahi bharataa, havas puri nahi hoti  to koyi bhi sundar yuwati ko dekhataa to us ko phasaane ke liye saajish karataa…ab mele men navame din koyi purush nahi jaaye..akabar bhi aurat ke kapade pahen kar jaataa..aur us ki rakhi huyi jo badamaash veshyaaye bhi us ke saath men raheti us mele men..akabar jis ladaki ki taraf ishaaraa kar deve vo kulataaye us ladaki ko samajhaa ke bujhaa ke us ko pralobhan dekar..saam daam dand bhed  kaise bhi kar ke ladaki ko le aati..jab raja chaahe to un ki rakhi huyi badamaash  aurate kuchh bhi kar sakati thi raja ke liye..

to melaa dekhane gayi shakti sinh ki kanyaa kiran devi.. aur akabar ne us ka roop laavanya prabhaav dekh kar aisaa ho gayaa ki jaise dipak ke aage patangaa kurbaan ho jata hai, aise kiran devi ka rup saundary prabhaav dekh kar akabar saath men jo kulataa badamaash aurate thi un ko bolaa ki kuchh bhi ho jaay biso ungaliyon ka jor lagaa kar is ko mere mahel men haajir kar do..

ab kiran devi to un ke saajish me phansi aur un ke sath ho gayi..kiran devi ko kya kya baate kar ke pralobhan dikhaa ke phasaa ke us ko akabar me mahel men le gayi..kulataayen to chali gayi..kiran ko dekh kar akabar ka to kaam vikaar ekadam andhe ghode par haavi ho gayaa…kiran devi samajh gayi ki vo aurate inhi ki bheji huyi kulataaye thi aur mere ko phansaa kar yahaa laayaa gayaa hai..ye havas ka shikaar hai…kshan bhar ke liye chup huyi aur aagyaa chakr men omkaar swarup ka dhyaan kiyaa.. hey antaraatmaa paramaatmaa tu mere saath hai..tu hi aadya shakti ke rup men aur tu hi krushn aur ram ji ke rup men , tu hi sant aur bhagavant ke rup sab ke dil men pragat hotaa hai.. meri sahayataa karanaa aur mujhe saamarthy denaa teri hi krupaa hai..om om man men japaa..kamar se katyaar nikaali..aur jaise sherani haathi par jhapatati hai aise akabar ka haath pakadaa ek…katyaar ko sambhaalate huye aisaa kuchh daanv maaraa ki akabar niche gir padaa..kiran devi jump maar ke akabar ke chhati par chadh baithi aur katyaar gardan par rakh ke boli abhi teri mrutyu ki ghadi hai nalayak..bhagavaan ne tujhe raja banaayaa..bahu betiyon ki ijjat bachaane ka raja ka kaam hotaa hai..aur tu aurate ke kapade pahen kar sundar ladakiyon ko phasaane ke liye mele men ye saajish karataa hai..ab teri mrutyu nikat hai..bol kya chaahiye?..

akabar bola, mujhe prano ka daan de de devi….

kiran devi boli, tu havas ka shikaar..is khushroj mele ko band karegaa ki nahi?

akabar bola, allaah ki kasam mai band kar dungaa..

kiran devi ne to garjanaa ki om om om om ..

akabar ke niche kapade gile ho gaye..akabar kaapane lagaa..bola, mai mela band kar dungaa aur dubaaraa tumhaari jaisi yuwatiyon ko nahi phasaaungaa..

kiran devi dahaadi, “hamaari jaisi nahi, dusari koyi bholibhaali ho to bhi..kisi bhi kanyaa ki ijjat nahi lutegaa..bol vachan detaa hai ki katyaar gale se aarpaar kar dun?”

akabar bola, “nahi nahi!  ..”  kya akabar ki durdashaa huyi..bachchaa bhi itanaa kapadaa gila nahi karataa…aage kapadaa gilaa hotaa to pichhe nahi hotaa..lekin akabar ke to pichhe bhi rangin kapade ho gaye aisi buri haalat huyi..

akabar aisa kaapane lagaa..kis se? ek kanyaa se!..

kanyaaye apane ko abalaa naa samajhe..mahilaaye apane ko durbal naa samajhe..om swarup antaraatmaa paramaatmaa ki shaktiyaa sab ke andar chhupi hai…om om om om om…

omkaar ke gunjan ne aisi shakti jagaayi kiran devi men…akabar ne maaphi maangi..akabar ke munh par thukati huyi kiran devi us ke mahel se nikal gayi..akabar ne vo mela band kar diyaa..aur sundar yuwatiyon ko phasaa ke havas ka shikaar banaane ka dushkarm chhod diyaa ki nahi pataa nahi lekin kam to jarur kiyaa hogaa..

 

om shaanti .

 

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: