mrityu ke samay kya hota hai?

 ये पोस्ट हिंदी में पढ़ने के लिए कृपया यहाँ पधारे :-   http://wp.me/pZCNm-mo

Ujjain Gurupoonam Satsang, 1 July2011

dudh mahenga huaa chalaa jaa raha hai ye durbhaagy ki baat hai gaumaans niryaat karo to us par subsidi milati ye kitani badi saajish hai!jahaa anyaay hota hai mera hriday pidit hota hai , to mai to bolungaa!mera kisi se raag athavaa kisi se dwesh nahi hai..mai to sabhi ka mangal chaahataa hun..

ishwar ke pyare santo ke liye jo anargal bolate un ko kudarat se bahot jurmaanaa bharanaa padataa hai..

aap kisi ka buraa chaahe us ka buraa ho naa ho ; lekin buraa chaahane wale ka jarur buraa ho jata hai.

rajendr babu ke liye buraa kahenewale bahot patrakaar the…kuchh achhe patrakaaro ne puchhaa aap kuchh pratikriyaa nahi dete..raajendr baabu bole, hathi kahi jaa raha ho aur us ko dekh kar kutte bhaukane lage aur hathi un ko chup karaane jaaye to kutton ki kimat badh jati hai aur hathi ka samay vyarthy ho jata hai..

is baat ko doharaane se hi mere bhi sab kaam ho gaye!

kartaa ka uddeshy kya hai ye bahot mahatv rakhataa hai.. sales man mithi baat bolataa lekin us ka uddesh halakaa hotaa hai..jis ke paas paise hai, us se paise nikalwaane ke liye us se mitha bolane se, us ko khilane pilane se kartaa unchaa nahi hotaa.. kyo ki uddesh nichaa hai.. lekin kartaa kitana bhi daante kadawaa bartaav karate huye dikhe lekin heet ki bhaavanaa se hai to un ko paap nahi lagataa jaise guru shishya ke liye aur maa bachche ke bhale ke liye daantate hai, kadawaa vyavhaar karate huye dikhate hai lekin uddeshy unchaa hai..bachche ki bewkufi mitaane ke liye maa baap ko kitana kuchh karanaa padataa hai ..maa baap ko dosh nahi lagataa kyo ki bachche ke liye heet ki bhaavanaa se karate hai..

narayan hari narayan hari

kartaa ka uddeshy jab unchaa hotaa hai to phal unchaa hotaa hai

uddeshy nicha hotaa hai to phal nichaa milataa.

 kartaa bhagavan se ekaakaar ho kar bolata hai to us ka phal param pad par pahunchanewala ho jata hai.

bole bhagavan krupa karenge..to jaao le lo krupaa!mahatmaa nahi honge to bhagawan kis par krupa karenge? bhagavan ke sakshi pan, mahaatmaa ke bina jaanoge kaise?ahankari aur abhakt par bhagavan dayaa karate kya?bhagavan dayaa karate lekin mahaatmaa nahi honge to bhakt kahaa se pahunchenge bhagavan tak?

marate samay 4 taklife hoti hai

sharir ki bimari..shaaririk taklifo  ke sath nahi judo, aap sharir nahi ho..

mere shishyo ko marate samay pida apane me aaropit nahi karani hai.

jis se aap ne bura saluk kiya hai, jis se jyada bura saluk kiya wo yaad aati hai jaise aurangjeb ne apane bhai darashiko ko sataayaa, apane pita ko jail me dala aur sharamad phakir ki hatyaa karavaayi- ye 3 pidaaye aurangjeb ko marate samay bahot tapaati rahi…

to ek hoti hai shaaririk pida aur dusari hoti hai man ki pida- dushkruty ki pida marate samay sataati hai.

mere satsangi aur shishy itanaa dushkrit nahi karenge jitanaa nigure log karate hai..to mere shishyon ko dushkrit ki pida sataaye yaa marane ke baad sath me pida le jaaye aisi sambhavanaaye kam ho jaati hai..

mai meri naani ka drushtant detaa hun ki meri naani mar gayi thi, samshaan me le gaye the ..lekin samshaan me heelchaal huyi to rassiyaan kholi to paidal ghar ghar aayi! phir 39 saal jinda rahi..hum 12 saal ke the..puchhate ki naani tum mar gayi thi phir kya huaa?

naani ne to usi samay bataayaa ki, kya pataa kya huaa..lekin maine dekha ki yamdut ,narak aadi…to maine puchhaa, mujhe idhar kaise le aaye? maine to naam daan liyaa hai…(sant ka naam bhi bataa diya: saai tevaram)..

to bole ki tumhara naam hemibai hai na?…haa , naam hemibai to hai lekin aage bhi to kuchh hota hai..hamaare gaanv me aur bhi to hemibaai naam ki baaiyaan hai..kaun si hemibai?

dekho!marate samay bhi hausalaa buland hai naani ka!yampuri me ymduton ko daant diyaa…

to yamdut bole, tum hemibai pohumal ho na?

boli nahi nahi

to kya hai tumhare pati ka naam?

boli hamaare me pati ka naam nahi lete.. ‘pa’ pe hai.. tum bolo.. yamdut bole pohumal?pritamdas? purushottam? premkumar?

haa, kumar hataa de chand lagaa de!

premchand?

haa , tumhara bhalaa ho!

yamdut bole, arre ye to hemibai premchand hai!hemibai pohumal ko lana tha..jaao jaldi in ko chhod ke aao

to nani boli phir mere ko is sharir me chhod ke gaye..to mai uth ke chal ke aayi!

ye kapolkalpit baat maanoge to paap lagega ye saty ghatana suna rahaa hun ..us jamaane ke saakshi maa,mama, maasi to mar gaye jo saakshi the.. lekin is ghatana ka mai swayam saakshi hun!

mujhe pata nahi ki mujhe satsnag karana padega nahi to mai biodata likh ke rakhataa!

narayan hari hari om hari!

3 ri pida jis vastu me, vyakti me aasakti hai us ki pida hoti hai..beti ka kya hoga? bete ka kya hoga?…jo kaam adhuraa rahe gaya jis me waasanaa rahe gayi us me atakate..

raman maharshi ke aashram me maharshi jab satsang karate tab un ke paas ek gaay aati aur bhar bhar aansu roti.. maharshi us ko sneh karate..chara-wara khilaate…ek din puchha gayaa ki aap gaay ko sneh karate aur ye bhar bhar aansu roti?…maharshi bole ye agale janam ki mahaan saadhu thi..kisi kaaran gaay me mamataa chali gayi to gaay ban gaayi bechaari..ab is ki sadgati hogi..aaj bhi raman maharshi ke aashram me us gaay ki samaadhi hai..

to marate samay jis ka chintan hotaa us chole me jeev ko jaanaa padataa hai..

to ek marate samay sharirik pida,

dusaraa marate samay jeevan me kiye huye dushit karmo se tapanaa

tisaraa marate samay jis ka chintan priti aasakti hai udhar bhatakanaa

chauthaa mar kar kahaa jayenge ye pataa nahi is kaa bhay..

ye 4 chije saamaany aadami ko sataati hai, bhakt ko bhi sataati hai..

lekin jis ne diksha li hai, bramhgyani guru ke shishya ban gayaa hai us ke aage ye 4 baate chhu hoti hai aur vo muktaatmaa ho jata hai!

 daivim prakritim aashritaa!

kitanaa badaa phaayadaa hai!

guru ke sankalpo ka phayada hota hai.

murti ki ham puja karate hai to hamaaraa ek tarfi sankalp hota hai ..lekin guruji ka aadar aur gurupoonam ke nimitt guru ka satkaar karate hai to guruji ka bhi sankalp hamaare saath hotaa hai!ham ko duguna phaayadaa hotaa hai!!

agar maine jitanaa aadar guruji ke liye kiya utanaa pujan murti me karataa to mujhe chhoti-moti sidhhiyaa milati..bramhgyaan nahi hota..guruji ka maine aadar kiya to guruji ke sankalp se mera jo bhalaa huaa hai us bhale ko mai tol nahi sakataa hun!bol bhi nahi sakataa hun!!

guruji ke aagyaa me rahene se,guruji ka aadar satkaar pujan karane se

 mujhe jo phayda huaa …mai puja karu to guruji ko kya phaayadaa hoga? 2phul chandan se guruji ko kya laabh hona hai?..pujan, aadar satkaar se mera antkaran dravit huaa aur guruji se sankalp utha ki ye yogya hai, paatr hai..ye dharm ka prachaar kare aisa bachchaa hai ye sankalp uthaa…to guruji ke sankalp ne hi muhe achha banaa diyaa!.. ham koyi dudh ke dhule huye thodi the..jaise aur log janamate aise ham ne janam liya.. lekin uruji ke sankalp se mere ko phaaydaa hi phaayadaa hai!

murti sankalp nahi karati..aur murti sankalp kare to vo saakshaat jeev ho gayaa! chalataa- phirataa dev ho gayaa!

murti pujan se ek-gunaa phaydaa hotaa hai..lekin sadguru ka aadar-satkaar-pujan karane se shishya ka dugunaa phaayadaa hotaa hai..jitanaa unchaa vyakti utanaa us ka unchaa sankalp!abhi mai swasth ghum rahaa hun us me mere paune 4 karod shishyo ka sankalp kaam kar rahaa hai!…baapu swasth rahe ye aap ka sankalp mujhe 72 saal me tandurust rakhataa hai..to mera sankalp aap ka nahi bhala karega kya?

paraspar bhavyanto!

sataanewale ko marane ke baad bahot sataayaa jata hai..isliye apane ko burayi raheet banaa lo!apane ko ahankaar raheet banaa lo!apane ko dwesh raheet banaa lo!apane ko chintaa rahit banaa lo!apane ko dosh rahit banaa lo..

aap chintit hai to log puchhenge kyo chintit ho?lekin aap nischint ho to log thodi hi bolenge ki kyo nischint ho?

to jo a-swabhavik hai us ko hataa do aur jo swaabhaavik hai us ko hone do ! baas !itani ho to baat hai!

26 daivi sadgun swaabhaavik hai gita ke 16 ve adhyaay me bataaye haiye sadgun apane me badhaao….aur baaki sab a-swabhavik hai.. apane me ye daivi sadgun badhaao …us ke viparit jo hai vo apane naadaani ke hai, apane kusang ke hai un ko mahatv naa do..

lekin kya karu bolate…to bure karm apane ko maarane se nahi hatenge , un ko mahatv naa do, bhagavan ko mahatv do..to bure vichar bure karm hatenge..bhagavaan ka gyan apane me bharo to bure sanskaaron kaa gyan shant ho jaayegaa..

suhurdam sarv bhutaanaam!

tum prani maatr ke suhurd ho..tum chaityany ho..tum saakshi ho…”om” bolane se tum antaraatmaa ka tumharaa naam hai!

paramaatma param suhurd hai..sabhi prani maatr par nirhetuk krupa barasaate hai..antrayami paramaatmaa ne maa ki jer ke sath hamaari naabhi jodi antaryami bhagavan ne maa ke sharir me hamaare liye dudh banaayaa..

sury ka go kiran banaaye, havaaye banaayi ,chandani banaayi jo garbh ko pusht karati, aushadhiyon ko pusht karati..

amerika ke j moragan naam ke vigyani ne ghoshanaa ki ki omkaar ka uchcharan se hajaaro logo ki dimaag ki taklife, pet ki taklife thik kar diya..jigar ko phaaydaa ho gayaa…boston, new york aur californiyaa 3 jagah par centar chalate hai bole..

mai j. morgan par itana prasann nahi ho rahaa hun kyo ki wo to sirf pet, dimag aur jigar ko thik karane ki baat karataa hai..omkaar uchcharan to tumhaare 21 pidhiyon ka bhalaa kar deta aur jeete jee bhagavan se milaa detaa hai!!

( pujyashri sadgurudev ji bhagavan ne omkaar ki 8 min ki saadhanaa roj ghar me karane ke liye kahaa )

om om aanand data…gyan swarupaa…om om ….tum antaryaami ho.. saakshi ho..sharir marane ke baad bhi tumhara hamaaraa sambandh rahetaa hai..man dukhi hota us ko mai janata hun aur tum bhi janate ho to tum aur mai ek hi huye…sruishti pralay ke baad tum rahete ho aur sharir pralay ke baad ham rahete hai to hamaari tumhaari jaat ek hi hai…om om … pani aur tarang ki ek hi jaat hai..gahene aur sone ki ek hi jaat hai aise jivaatma aur paramaatmaa ki ek hi jaat hai..jivaatma thoda bandhataa hai lekin sadaa ke liye mitataa nahi hai..bandha bandh ke chhutataa hai..phir bandhataa phir chhutataa hai lekin nasht nahi ho sakataa hai…paramaatmaa aatma ko nasht nahi kar sakate kyo ki jivaatmaa paramaatmaa ka shaashwat ansh hai..

ghade ko tum mitaa sakate ho, lekin ghade ke aakaash ko nahi mitaa sakate ho kyo ki ghade ka aakaash mahaakaash ka ang hai aise jeev ishwar ka ang hai, swarup hai..om om ..tum shaashwat hai..sharir bimaar hota us ko ham jaanate hai..om om..man dukhi sukhi hota us ko ham jaanate hai..om om…bachapan badal gayaa us ko ham jaanate hai…om om …jawaani ko jaanate..shaadi ke din aaye chale gaye us ko ham jaanate hai..budhaape ki bimaariyon ko bhi ham jaanate hai..maut ko bhi jaanate hai..om om ..jo maut ko jaanataa us ki maut nahi hoti!

marate samay ki 4 vipadaaye aisi gayi ki jaise subah hote raatri chali gayi!!dekho kitanaa phaayadaa hai! elizabeth sab kuchh luta ke ek ghantaa aur jinaa chaahti thi..jeevan me aisaa kuchh kuchh kar lo ki maut baad me aaye to abhi aa jaa!

jogi re kya jadu hai tumhare gyan me..

shiv ki jataa se nikale gangaa, gyaan jogi ke mukh se

dono karate ham ko paawan, mukti dilaaye dukh se..

mahaakaal aur jogi kewal ek hi chaahat rakhate hai

dono hi hai prasann hote bhakt jo unche uthate hai

jogi re..    

 om shanti .  

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!!!!!

 

galatiyon ke liye prabhuji kshamaa karen …..

***********************

मृत्यु के समय क्या होता है?

 


उज्जैन गुरु पूनम  सत्संग, 1 जुलाई2011

 

दूध महँगा हुआ चला जा रहा है ये दुर्भाग्य की बात है… गौमांस निर्यात करो तो उस पर सब सीडी  मिलती ये कितनी बड़ी साजिश है! जहां  अन्याय होता है मेरा ह्रदय पीड़ित होता है , तो मैं  तो बोलूंगा! मेरा किसी से राग अथवा किसी से द्वेष नहीं है.. मैं  तो सभी का मंगल चाहता हूँ..

 

ईश्वर के प्यारे संतो के लिए जो अनर्गल बोलते उन को कुदरत से बहोत जुर्माना भरना पड़ता है..

आप किसी का बुरा चाहे उस का बुरा हो ना हो ; लेकिन बुरा चाहने वाले का जरुर बुरा हो जाता है.

 

राजेन्द्र बाबु के लिए बुरा कहेनेवाले बहोत पत्रकार थे…कुछ अच्छे  पत्रकारों ने पूछा आप कुछ प्रतिक्रया नहीं देते..राजेन्द्र बाबू बोले, हाथी  कही जा रहा हो और उस को देख कर कुत्ते भौकने लगे और हाथी  उन को चुप कराने जाए तो कुत्तों की कीमत बढ़ जाती है और हाथी  का समय व्यर्थ  हो जाता है..

इस बात को दोहराने से ही मेरे भी सब काम हो गए! :) 

 

कर्ता  का उद्देश्य क्या है ये बहोत महत्त्व रखता है.. सेल्स  मन मीठी बात बोलता लेकिन उस का उद्देश हलका होता है..जिस के पास पैसे है, उस से पैसे निकलवाने के लिए उस से मीठा बोलने से, उस को खिलाने पिलाने से कर्ता उंचा नहीं होता.. क्यों की उद्देश नीचा है.. लेकिन कर्ता कितना भी डांटें,   कड़वा बर्ताव करते हुए दिखे   लेकिन हीत की भावना से है तो उन को पाप नहीं लगता.. जैसे गुरु शिष्य के लिए और माँ बच्चे के भले के लिए डांटते है, कड़वा व्यवहार करते हुए दिखते है लेकिन उद्देश्य उंचा है..बच्चे की बेवकूफी मिटाने के लिए माँ बाप को कितना कुछ करना पड़ता है ..माँ बाप को दोष नहीं लगता क्यों की बच्चे के लिए हीत की भावना से करते है..

 

नारायण हरि  नारायण हरि

 

कर्ता का उद्देश्य जब उंचा होता है तो फल उंचा होता है.

उद्देश्य निचा होता है तो फल नीचा मिलता .

 कर्ता भगवान से एकाकार हो कर बोलता है तो उस का फल परम पद पर पहुंचानेवाला हो जाता है.

 

बोले भगवान कृपा करेंगे..तो जाओ ले लो कृपा!महात्मा नहीं होंगे तो भगवान किस पर कृपा करेंगे? भगवान का  साक्षी पन  महात्मा के बिना जानोगे कैसे?अहंकारी और अभक्त पर भगवान दया करते क्या?भगवान दया करते लेकिन महात्मा नहीं होंगे तो भक्त कहाँ  से पहुंचेंगे भगवान तक?

 

मरते समय 4 तकलीफें  होती है.

१) शरीर की बीमारी..शारीरिक तकलीफों    के साथ नहीं जुडो, आप शरीर नहीं हो..

मेरे शिष्यों को मरते समय शरीर की पीड़ा अपने में आरोपित नहीं करनी है.

२)  जिस से बहुत ज्यादा बुरा सलूक किया वो मरते समय याद आती है और जिव को बहोत तपाती है  ..जैसे औरंगजेब ने अपने भाई दाराशिको को सताया, अपने पिता को जेल में डाला और शरमद फकीर की ह्त्या करवाई- ये 3 पीडाएं  औरंगजेब को मरते समय बहोत तपाती रही…

तो एक होती है शारीरिक पीड़ा और दूसरी होती है मन की पीड़ा- दुष्कृत्य की पीड़ा मरते समय बहुत  सताती है.

 

मेरे सत्संगी और शिष्य इतना दुष्कृत नहीं करेंगे जितना निगुरे लोग करते है..तो मेरे शिष्यों को दुष्कृत की पीड़ा सताए या मरने के बाद साथ में पीड़ा ले जाए ऐसी संभावनाए कम हो जाती है..

इस बात के लिए मैं  मेरी नानी का दृष्टांत देता हूँ की मेरी नानी मर गयी थी, सम्शान में ले गए थे ..लेकिन सम्शान में हीलचाल  हुयी तो रस्सियाँ खोली..नानी उठी और   पैदल घर आई! फिर 39 साल जिन्दा रही..हम 12 साल के थे..पूछते की नानी तुम मर गयी थी फिर क्या हुआ?

नानी ने तो उसी समय बताया की, क्या पता क्या हुआ..लेकिन मैंने देखा की यमदूत ,नरक आदि…तो मैंने पूछा, मुझे इधर कैसे ले आये? मैंने तो नाम दान लिया है…(संत का नाम भी बता दिया: साईं तेवाराम)..

तो बोले की तुम्हारा नाम हेमिबाई है न?

…हां , नाम हेमिबाई तो है लेकिन आगे भी तो कुछ होता है..हमारे गाँव में और भी तो हेमिबाई नाम की बाईयां है..कौन सी हेमिबाई?

देखो!मरते समय भी हौसला बुलंद है नानी का!यमपुरी में यमदूतों को डांट  दिया !

तो यमदूत बोले, तुम हेमिबाई पोहुमल हो न?

बोली – नहीं नहीं !

तो क्या है तुम्हारे पति का नाम?

बोली हमारे में पति का नाम नहीं लेते.. ‘प्’ पे है.. तुम बोलो.. 

यमदूत बोले पोहुमल?प्रितम दास ? पुरुषोत्तम? प्रेमकुमार?

हां ! इस नाम में  कुमार हटा दे और  चाँद लगा दे!

प्रेमचंद?

हां , तुम्हारा भला हो! :) 

यमदूत बोले, अरे ये तो हेमिबाई प्रेमचंद है!हेमिबाई पोहुमल को लाना था..जाओ जल्दी इन को छोड़ के आओ !

तो नानी बोली फिर मेरे को इस शरीर में छोड़ के गए..तो मैं  उठ के चल के आई!

 

ये कपोलकल्पित बात मानोगे तो पाप लगेगा . ये सत्य घटना सुना रहा हूँ ..उस जमाने के साक्षी माँ,मामा, मासी तो मर गए जो साक्षी थे.. लेकिन इस घटना का मैं  स्वयं साक्षी हूँ!

मुझे पता नहीं की मुझे सत्संग  करना पड़ेगा नहीं तो मैं  बायोडाटा लिख के रखता!

 

नारायण हरि .. हरि ॐ हरि !

 

3 री  पीड़ा जिस वस्तु में, व्यक्ति में आसक्ति है उस की पीड़ा होती है..बेटी का क्या होगा? बेटे का क्या होगा?…जो काम अधूरा रहे गया या  जिस में वासना रहे गयी उस में अटकते और पीड़ा होती .

रमण महर्षि के आश्रम में महर्षि जब सत्संग करते तब उन के पास एक गाय आती और भर भर आंसू रोती .. महर्षि उस को स्नेह करते..चारा खिलाते…एक दिन पूछा गया की आप गाय को स्नेह करते और ये भर भर आंसू रोती ?…महर्षि बोले ये अगले जनम की महान साधू थी..किसी कारण गाय में ममता चली गयी तो गाय बन गई बेचारी..अब इस की सद्गति होगी..आज भी रमण महर्षि के आश्रम में उस गाय की समाधि है..

 

तो मरते समय जिस का चिंतन होता उस चोले में जीव को जाना पड़ता है..

तो एक मरते समय शारीरिक पीड़ा,

दूसरा मरते समय जीवन में किये हुए दूषित कर्मो से तपना ,

तीसरा मरते समय जिस का चिंतन प्रीति  आसक्ति है उधर भटकना ,

चौथा मर कर कहा जायेंगे ये पता नहीं इस का भय..

ये 4 चीजे सामान्य आदमी को सताती है, भक्त को भी सताती है..

लेकिन जिस ने दीक्षा ली है, ब्रम्हज्ञानी गुरु के शिष्य बन गया है उस के आगे ये 4 बाते छू होती है और वो मुक्तात्मा हो जाता है!

 

 दैविम प्रकृतिम आश्रिता!

कितना बड़ा फ़ायदा है!

 

गुरु के संकल्पों का फायदा होता है.

मूर्ति की हम पूजा करते है तो हमारा एक तरफी संकल्प होता है ..लेकिन गुरूजी का आदर और गुरुपूनम के निमित्त गुरु का आदर सत्कार करते है तो गुरूजी का भी संकल्प हमारे साथ होता है!हम को दुगुना फ़ायदा होता है!!

 

अगर मैंने जितना आदर गुरूजी के लिए किया उतना पूजन मूर्ति में करता तो मुझे छोटी- मोटी  सिद्धियाँ   मिलती.. लेकिन ब्रम्हज्ञान नहीं होता..गुरूजी का मैंने आदर किया तो गुरूजी के संकल्प से मेरा जो भला हुआ है उस भले को मैं  तोल  नहीं सकता हूँ!बोल भी नहीं सकता हूँ!!

गुरूजी के आज्ञा में रहेने से,गुरूजी का आदर सत्कार पूजन करने से मुझे जो फायदा हुआ उस का मैं बयान नहीं कर सकता  … मैं  पूजा करू तो गुरूजी को क्या फ़ायदा होगा? 2फूल चन्दन से गुरूजी को क्या लाभ होना है?..पूजन, आदर सत्कार से मेरा अन्तकरण द्रवित हुआ और गुरूजी से संकल्प उठा की ये योग्य है, पात्र है..ये धर्म का प्रचार करे ऐसा बच्चा है ये संकल्प उठा…तो गुरूजी के संकल्प ने ही मुझे  अच्छा बना दिया!.. हम कोई दूध के धुले हुए थोड़ी थे..जैसे और लोग जनमते ऐसे हम ने जनम लिया.. लेकिन गुरुजी के संकल्प से मेरे को फायदा ही फ़ायदा है!


मूर्ति संकल्प नहीं करती..और मूर्ति संकल्प करे तो वो साक्षात जीव हो गया! चलता- फिरता देव हो गया!

मूर्ति पूजन से एक-गुना फायदा होता है..लेकिन सद्गुरु का आदर-सत्कार-पूजन करने से शिष्य का दुगुना फ़ायदा होता है..जितना उंचा व्यक्ति उतना उस का उंचा संकल्प!अभी मैं  स्वस्थ घूम रहा हूँ उस में मेरे पौने 4 करोड़ शिष्यों का संकल्प काम कर रहा है!…बापू स्वस्थ रहे ये आप का संकल्प मुझे 72 साल में तंदुरुस्त रखता है..तो मेरा संकल्प आप का नहीं भला करेगा क्या?

परस्पर भाव यन्तो !

 

सतानेवाले को मरने के बाद बहोत सताया जाता है..इसलिए अपने को बुराई रहीत बना लो!अपने को अहंकार रहीत बना लो!अपने को द्वेष रहीत बना लो!अपने को चिंता रहित बना लो!अपने को दोष रहित बना लो..

आप चिंतित है तो लोग पूछेंगे क्यों चिंतित हो?लेकिन आप निश्चिंत हो तो लोग थोड़ी ही बोलेंगे की क्यों निश्चिंत हो?

तो जो अ-स्वाभाविक है उस को हटा दो और जो स्वाभाविक है उस को होने दो ! बस !इतनी ही  तो बात है!

 

26 दैवी सद्गुण स्वाभाविक है.. गीता के 16 वे अध्याय में बताये हुए  सद्गुण अपने में बढाओं ….और बाकी सब अ-स्वाभाविक है.. अपने में ये दैवी सद्गुण बढाओं …उस के विपरीत जो है वो अपने नादानी के है, अपने कुसंग के है उन को महत्त्व ना दो..

 

लेकिन  ‘क्या करू बुराई छूटती नहीं ?’  बोलते…तो बुरे कर्म अपने को मारने से नहीं हटेंगे ;  उन को महत्त्व ना दो, भगवान को महत्त्व दो..तो बुरे विचार बुरे कर्म हटेंगे..भगवान का ज्ञान अपने में भरो तो बुरे संस्कारों का ज्ञान शांत हो जाएगा..

भगवान का ज्ञान क्या है ?

सुहुर्दम सर्व भूतानाम!

तुम प्राणी मात्र के सुहुर्द हो..तुम चैत्यन्य हो..तुम साक्षी हो…  “ॐ”  बोलने से तुम  अंतरात्मा का तुम्हारा नाम है!

परमात्मा परम सुहुर्द है..सभी प्राणी मात्र पर निर्हेतुक कृपा बरसाते है..अन्तरयामी परमात्मा ने माँ की जेर के साथ हमारी नाभि जोड़ी.. अंतर्यामी भगवान ने माँ के शरीर में हमारे लिए दूध बनाया..

सूर्य का गो किरण बनाए, हवाए बनायी ,चांदनी बनायी जो गर्भ को पुष्ट करती, औषधियों को पुष्ट करती..कितना ख़याल रखता है वो सुहुर्द ..

 

अमेरिका के जे  मोरगन नाम के विज्ञानी ने घोषणा   की की ओमकार का उच्चारण से हजारो लोगो की दिमाग की तकलीफे, पेट की तकलीफे ठीक कर दिया..जिगर को फायदा हो गया…बोस्टन, न्यू योर्क और कैलिफोर्निया 3 जगह पर सेंटर चलते है बोले..

मैं  जे . मोर्गन पर इतना प्रसन्न नहीं हो रहा हूँ क्यों की वो तो सिर्फ पेट, दिमाग और जिगर को ठीक करने की बात करता है..ओमकार उच्चारण तो तुम्हारे 21 पीढियों का भला कर देता और जीते जी भगवान से मिला देता है!!

 

( पुज्यश्री सदगुरुदेव जी भगवान ने ओमकार की 8 मिनट  की साधना रोज घर में करने के लिए कहा )

 

ॐ ॐ आनंद दाता …ज्ञान स्वरूपा…ॐ ॐ ….तुम अन्तर्यामी हो.. साक्षी हो..शरीर मरने के बाद भी तुम्हारा हमारा सम्बन्ध रहेता है..मन दुखी होता उस को मैं  जानता हूँ और तुम भी जानते हो तो तुम और मैं  एक ही हुए…सृष्टि  प्रलय के बाद तुम रहेते हो और शरीर प्रलय के बाद हम रहेते है तो हमारी तुम्हारी जात एक ही है…ॐ ॐ … पानी और तरंग की एक ही जात है..गहने और सोने की एक ही जात है ऐसे जीवात्मा और परमात्मा की एक ही जात है..जीवात्मा थोडा बंधता है लेकिन सदा के लिए मिटता नहीं है..बाँध  बांध के छुटता है..फिर बंधता फिर छुटता है लेकिन नष्ट नहीं हो सकता है…परमात्मा आत्मा को नष्ट नहीं कर सकते क्यों की जीवात्मा परमात्मा का शाश्वत अंश है..

घड़े को तुम मिटा सकते हो, लेकिन घड़े के आकाश को नहीं मिटा सकते हो क्यों की घड़े का आकाश महाकाश का अंग है ऐसे जीव ईश्वर का अंग है, स्वरुप है..ॐ ॐ ..तुम शाश्वत है..शरीर बीमार होता उस को हम जानते है..ॐ ॐ..मन दुखी सुखी होता उस को हम जानते है..ॐ ॐ…बचपन बदल गया उस को हम जानते है…ॐ ॐ …जवानी को जानते..शादी के दिन आये चले गए उस को हम जानते है..बुढापे की बीमारियों को भी हम जानते है..मौत को भी जानते है..ॐ ॐ ..जो मौत को जानता उस की मौत नहीं होती!

मरते समय की 4 विपदाए ऐसी गयी की जैसे सुबह होते रात्री चली गयी!!देखो कितना फ़ायदा है! एलिज़ाबेथ सब कुछ लुटा के एक घंटा और जीना चाहती थी..जीवन में ऐसा कुछ कुछ कर लो की मौत बाद में आये तो अभी आ जा!

 

 

जोगी रे क्या जादू है तुम्हारे ज्ञान में..

शिव की जटा  से निकले गंगा, ज्ञान जोगी के मुख से

दोनों करते हम को पावन, मुक्ति दिलाये दुःख से..

 

महाकाल और जोगी केवल एक ही चाहत रखते है

दोनों ही है प्रसन्न होते भक्त जो ऊँचे उठते है

जोगी रे..


ॐ शांती .


सदगुरुदेव जी भगवान की महा जय जयकार हो !!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे… 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

About these ads
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

3 Comments on “mrityu ke samay kya hota hai?”


  1. nice to read satsang again , thanks to writer to bring this to us.

  2. ramchandra Says:

    hariom!!

  3. RRW Says:

    Sadhuwad for the wonderful sewa


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 33,683 other followers

%d bloggers like this: