Bhagavan kaise hai?

Bramhagyani Santshri Param Pujya Asaram Bapuji from Rajokari Ashram 29/11/2010

Rajokari Ashram,29/11/2010

Tatv se Ishwar prapti – part -2

(  Bramhgyani Santshri Param pujya Asaram Bapuji ke param krupamayi saral subodh amrutwani se ye kalyankari gyan paa lijiye…Bhagavan ka swabhav kaisa hai?…bhagavan prani matr ke suhurd hai…bhagavan kehete , jo mujh paramaatmaa me aata hai vo mujh-may ho jata hai…to paramaatma me kaise aaye?….divya jeevan kaise banaaye ? ….bhagavan ka yash gaane se kya hoga?..

ye PARAM TATVIK SATSANG ka video dekhane ke liye kruapayaa yahaa padhaare :-

http://www.youtube.com/watch?v=hUrnMpp36ZY&feature=youtube_gdata

aur text ke liye please scroll down ….)

Bhagavan kahete hai :-
mai Ishwar sab ka antaraatma hun lekin jo jis yantr pe baitha hota hai jaise bike pe, cycle pe, bus me , jahaaj me jo jis me baithe waise hi yaatra hoti hai..aaise hi koyi man me baitha hai, koyi budhdi me baitha hai, koyi jaatiwaad me baitha hai..to koyi vikaaro me baitha hai..to phir aisa swabhaav ho jata hai..
mujh paramaatmaa me aa jata hai to mujh-may ho jata hai…

to paramaatmaa me kaise aaye?

paramaamatma ka swabhaav jaan lo…divy  jeevan ho hamaaraa yash tera gaya kare..haad-maans ke sharir ko ‘mai’ maananaa tuchchh jeevan hai..aur waastvik me mai jahaa se uthataa hai us ko ‘mai’ roop me maananaa -jaananaa divy  jeevan hai..

mai sukh ka saakshi hun, dukh ka bhi saakashi hun…bachapan ko jaananewala hun , jawaani aur budhaape ko bhi…to ‘mai’  kaun hun ?  us chaityany ke swarup ko jaano…

divy jeevan kaise ho?

kaise bhi paristhiti aaye  us me sam rahe..ye aane-jaane wala hai, mai sadaa rahenewala hun..aisa chintan priti purvak kare to divy  jeevan ho jaayegaa…
divy jeevan ho hamaaraa yash tera gaya kare..

bhagavan ka yash gaayenge to kya hoga?

bhagavan ka swabhaav jagrut hoga..bhagavan sat roop hai, chetan roop hai , aanand roop hai..hum sabhi ke aatma hai…shwas andar jaaye to “SO”  shwas baahar aaye to   “ham” is prakaar ki upasana kare…

‘wah’ bhagavan , ‘yah’ bhagavan wale to upasana kar kar ke thak jaate…lekin andar ke bhagavan ke paas yun (pal bhar me/ chutaki bajaate)  pahunch jata hai… :)   lekin baahar ke bhagavan aur alla ko , GOD ko to puj puj ke thak jaate- mar jaate bechaare…baahar ke baahar hi rahe jaate…lekin aatm dev ko pujane me phataak se ho jata hai kaam…

jo vastu jahaa khoyi hai wahaa khojane se vo vastu jaldi milati hai..aur jagah khojate phiro to parishram padataa hai…

dekha apane aap ko to mera dil diwana ho gayaa!

na chhedo mujhe yaaro mai khud pe mastaanaa ho gayaa !!

ab swarg ko paa kar mujhe sukhi nahi hona, swarg ko bhi baunaa banaa de aisa sukh swarup mera aatm dev hai..to bhagavan ka yash gaane se bhagavat swabhaav pragat ho jata hai…

uma raam swabhav je hi jana l

taahi bhajan tyaji bhaav na aanaa ll

(Shiv ji bolate) jis ne antaryami RAM ka swabhaav jana hai vo us ko chhod ke aur kisi bhaav me nahi jata…

bhagavan ka swabhaav kya hai?
suhurdam sarv bhutaanaam – prani maatr ke suhurd hai….
gyatvaa maam shanti mruchchhate...
bhoktaaram yagy tapasaa – saare yagy aur tap ke bhokta bhagavan hi hai..
sarv lok maheshwar – ishwar to bahot hai, lekin un sab ishwaro ka aatma ho kar jo baitha hai vo maheshwar hai…
sabhi ke dilon me yagy ka tap ka phal bhoganewala mai hi hun….

maa ki sewa karate to us ki gaherayi me santosh mujhe hi hogaa !
beta sewa kare aisa ashirwaad to mera hi jata hai!
guru ke hruday me jo sadbhaav aayaa vo mera hi hai….mai hi sab yagya tap ka phal denewala aur bhogane wala hun…

agar me prani maatr ka suhurd nahi hota, gyan swarup nahi hota, chetan swarup nahi hota to jeev janamate to  maa ke sharir me dudh kaun banaataa ? jad ki chetan?jad ko pataa chalegaa ki chetan ko?chetan ko !…to sab ke andar mai hi chetan swarup hun..
mujhe kaan nahi , hath nahi, pair nahi… lekin sabhi kaan aur hath pair ko sattaa denewala to mai hi hun…itana mai nikat hun… phir bhi mudh log mujhe door maanate, durlabh maanate, pare maanate, paraayaa maanante…
mamayi waanshu jiv loke jeev bhut sanaatan
jeev lok me sabhi mere vanshaj hai…ansh anshi se alag nahi hai…ghade ka aakash mahaa aakaash se alag nahi hai…tarang pani se alag nahi hai..aise hi jivatma mujh paramaatma se alag nahi hai….
apane ko deh naa maano..sabhi deho me cham cham chamak rahaa hai , wo chaityany mai hun…

OM SHANTI.

SADGURUDEV JI BHAGAVAN KI MAHAA JAYJAYKAAR HO!!!!!

Galatiyon ke liye Prabhuji kshamaa kare…..
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

भगवान कैसे है?

ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी फ्रॉम रजोकरी आश्रम 29/11/2010 


तत्व से ईश्वर प्राप्ति – पार्ट -2

(  ब्रम्हज्ञानी संतश्री परम पूज्य आसाराम बापूजी के परम कृपामयी सरल सुबोध अमृतवाणी  से ये कल्याणकारी ज्ञान पा लीजिये…भगवान का स्वभाव कैसा है?…भगवान प्राणी मात्र के सुहुर्द है…भगवान कहेते , जो मुझ परमात्मा में आता है वो मुझ-मय हो जाता है…तो परमात्मा में कैसे आये?….दिव्य जीवन कैसे बनाए ? ….भगवान का यश गाने से क्या होगा?..

ये परम तात्विक सत्संग का विडियो देखने के लिए कृपया  यहाँ पधारे :-

http://www.youtube.com/watch?v=hUrnMpp36ZY&feature=youtube_gdata

और टेक्स्ट के लिए प्लीज  स्क्रोल डाउन ….)

भगवान कहेते है :-
मैं  ईश्वर सब का अंतरात्मा हूँ लेकिन जो जिस यंत्र पे बैठा होता है जैसे कोई बाईक  पे, साइकिल पे, बस में , जहाज में जो जिस में बैठे वैसे ही यात्रा होती है.. ऐसे  ही कोई मन में बैठा है, कोई बुध्दी में बैठा है, कोई जातिवाद में बैठा है..तो कोई विकारों में बैठा है..तो फिर ऐसा स्वभाव हो जाता है..
मुझ परमात्मा में जो  आ  जाता है तो मुझ-मय हो जाता है…

तो परमात्मा में कैसे आये?

परमामात्मा का स्वभाव जान लो…दिव्य जीवन हो हमारा यश तेरा गाया करे..हाड-मांस के शरीर को ‘मैं ’ मानना तुच्छ जीवन है..और वास्तविक में मैं  जहा से उठता है उस को ‘मैं ’  रूप में मानना -जानना दिव्य जीवन है..

मैं  सुख का साक्षी हूँ, दुःख का भी साक्षी  हूँ…बचपन को जाननेवाला हूँ , जवानी और बुढापे को भी…तो ‘मैं ’कौन हूँ ?  उस चैत्यन्य के स्वरुप को जानो…

दिव्य जीवन कैसे हो?कैसे भी परिस्थिति आये  उस में सम रहे..ये आने-जाने वाला है, ‘मैं ‘  सदा रहेनेवाला हूँ..ऐसा चिंतन प्रीति  पूर्वक करे तो दिव्य जीवन हो जाएगा…
दिव्य जीवन हो हमारा यश तेरा गाया करे..

भगवान का यश गायेंगे तो क्या होगा?

भगवान का स्वभाव जागृत होगा..भगवान सत  रूप है, चेतन रूप है , आनंद रूप है..हम सभी के आत्मा है…श्वास अन्दर जाए तो “सो”  श्वास बाहर आये तो   “हम” इस प्रकार की उपासना करे…

‘वह’ भगवान , ‘यह’ भगवान वाले तो उपासना कर कर के थक जाते…लेकिन अन्दर के भगवान के पास यूँ (पल भर में/ चुटकी बजाते)  पहुँच जाता है… :) …. बाहर के भगवान और अल्ला को , god   को तो पूज पूज के थक जाते- मर जाते बेचारे…बाहर के बाहर ही रहे जाते…लेकिन आत्म देव को पूजने में फटाक से हो जाता है काम…!

जो वस्तु जहां  खोयी है वहाँ  खोजने से वो वस्तु जल्दी मिलती है..और जगह खोजते फिरो तो परिश्रम पड़ता है…

देखा अपने आप को तो मेरा दिल दीवाना हो गया!

न छेड़ो मुझे यारो मैं  खुद पे मस्ताना हो गया !!

अब स्वर्ग को पा कर मुझे सुखी नहीं होना, स्वर्ग को भी बौना बना दे ऐसा सुख स्वरुप मेरा आत्म देव है..तो भगवान का यश गाने से भगवत स्वभाव प्रगट हो जाता है…

उमा राम स्वाभाव जे ही जाना l

ताहि भजन त्यजी भाव न आना ll

(शिव जी बोलते) जिस ने अंतर्यामी राम का स्वभाव जाना है वो उस को छोड़ के और किसी भाव में नहीं जाता…

भगवान का स्वभाव क्या है?
सुहुर्दम सर्व भूतानाम – प्राणी मात्र के सुहुर्द है….
ज्ञात्वा माम शांति मृच्छते…
भोक्तारं यज्ञ  तपसा – सारे यज्ञ   और तप के भोक्ता भगवान ही है..
सर्व लोक महेश्वर – ईश्वर तो बहोत है, लेकिन उन सब ईश्वरो का आत्मा हो कर जो बैठा है वो महेश्वर है…
सभी के दिलों में यज्ञ   का ,  तप का फल देनेवाला , भोगनेवाला मैं  ही हूँ….

माँ की सेवा करते तो उस की गहेरायी में संतोष मुझे ही होगा !
‘बेटा सेवा करे’  ऐसा आशीर्वाद तो मेरा ही जाता है!
गुरु के ह्रदय में जो सदभाव  आया वो मेरा ही है….मैं  ही सब यज्ञ ,  तप का फल देनेवाला और भोगने वाला हूँ…

अगर में प्राणी मात्र का सुहुर्द नहीं होता, ज्ञान स्वरुप नहीं होता, चेतन स्वरुप नहीं होता तो जीव जनमते तो  माँ के शरीर में दूध कौन बनाता ? जड़ की चेतन?जड़ को पता चलेगा की चेतन को?चेतन को !…तो सब के अन्दर मैं  ही चेतन स्वरुप हूँ..
मुझे कान नहीं , हाथ नहीं, पैर नहीं… लेकिन सभी कान और हाथ पैर को सत्ता देनेवाला तो मैं ही हूँ…इतना मैं निकट हूँ… फिर भी मूढ़ लोग मुझे दूर मानते, दुर्लभ मानते, परे मानते, पराया मानते…


ममई वान्शु जिव लोके जीव भुत सनातन
जीव लोक में सभी मेरे वंशज है…अंश अंशी से अलग नहीं है…

घड़े का आकाश महा आकाश से अलग नहीं है…

तरंग पानी से अलग नहीं है..

ऐसे ही जीवात्मा मुझ परमात्मा से अलग नहीं है….
अपने को देह ना मानो..सभी देहो में चम् चम् चमक रहा है , वो चैत्यन्य मैं  हूँ…

ॐ शांति.

सदगुरुदेव जी भगवान की महा जयजयकार हो!!!!!

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…..



About these ads
Explore posts in the same categories: Pujya Bapuji

2 Comments on “Bhagavan kaise hai?”

  1. lokendra Says:

    sadho sadho kya mangal maya gyan he anand madhurya om om pyare ji om om anandeva .kya subh samachar he hamare prabhu itanne paas he ki bhulaye na bhule om mere rab kya baat he .


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 33,686 other followers

%d bloggers like this: