Archive for December 2007

Swapn Shastr ….Chhindwara satsang_live(16/12/07)

December 17, 2007

Sunday, 16 December 2007, IST :5:15PM

Chhindwara (M.P.) Satsang_live 

*********************

Sadgurudev Santshiromani Param Pujya Shri Asaram Bapuji ki Amrutwani :-

********************** 

In Hinglish(Hindi written in English

(for Hindi please scroll down…)

(sabhi uchcharan kar rahe…)

OM NAMO BHAGAVATE VASUDEVAY..…

(sadgurudev ka aagman hua…) 

HARI HARI BOL….

JAY JAY SHRI RADHE …..

HAR HAR MAHADEV..JAY JAY SHIV SHANKAR…KAANTA LAGE NAA KANKAR…..

NARAYAN NARAYAN NARAYAN NARAYAN NARAYAN…. 

Kya haalchal hai deviya? Thik hai?khush ho?(ji haa sadgurdev)

 Gyan badh raha hai? (ji haa sadgurudev)

 Punya badh raha hai? (ji haa sadgurudev) Shanti badh rahi hai?

(ji haa sadgurudev)Bhagavat priti badh rahi hai?

(ji haa sadgururdev)chinta badh rahi hai? ( Ji nahi …..)

“nahi”! shabas…soch samajh kar bolati hai… J

Prabhu ka dhyan , prabhu ka kirtan, prabhu ka bhajan, prabhu ka gyan achha lagata hai? ( ji haa sadgurudev..)

Prabhu ka dhyan, gyan, bhajan , kirtan in mey se kya sab se achha lagata hai? (……)

Prabhu ke nimitt jo bhi hota hai sab kuchh achha hi lagata hai…shabari bhillan ram ram japate jhadoo buhari karati to bhi achha lagata , aur ram naam gati ,dhyan dharati to bhi achha lagata …aisa prabhu ke priti ke liye, bhagavan ke nimitt jo kuchh bhi karate hai achha hi hota hai…..

Om namo bhagavate vasudevay….. 

“HI !” ( bapuji sadhako ko…) 

..Aaj bhi antim satr mey bhi kumbh ka mela hai….kya halchal hai janabe alli ?…jeb rahe naa khali.. roj rahe diwali…. J Dekho ek to wo diwali hoti hai , jo saal ke 12 mahino mey ek baar aati hai…aur ek wo diwali hoti hai , jo jab chaho , jaha chaho aisi ..jaha aatma ka prakash ho jaye, bramh gyan ke dip jagmgaye aisi diwali hoti hai…. 

Sada diwali sant ki aatho prahar aanand l

Akalmata koyi upaja . gine  indr ko rank ll 

…santo ko  indr ka pad bhi rank jaisa lagata hai…aise aatmgyan ke phuahare chhute , aatma ka aanand , paramatma ke madhury mey sada mast aisi sada diwali sant ki …..aatho prahar aanand hota hai… 

**Aap ke ghar mahan aatma bulaye 

Ab sabhi dhyan se is baat ko samjhana…. Agale 2 mahine jo hai, mahan aatmaye dharati pe pragat hone ka season hai….divya aatmaye dharati pe aana chahati hai aisa ye kaal hai….isliye aanewale 2 mahino mey sansar vyavhar karate samay dhyan rakhana…masik ke 5 ve ya 7 ve din bit jaaye us ke baad sansar vyavhaar ho….jo achha din ho , pavitr din ho , pavitr samay ho aise din pavitr aatmao ko aawahan kare……sandhyakal mey sansar vyavahar ashubh hota hai..aise samay mey jo aatmaye garbh mey aati hai , wo ashub karanewali hoti hai …aisa bachcha, badamash bachcha paida hota hai…Isliye sanyam se rahe , baki kaunsi tithi , kaunsa samay..kaise ye sab rushiprasad mey chhapava dunga, padh lena…Dusari baat snan karane ke baad katori mey pani lekar , us pani mey dekhate huye 100 baar hari om om om om bole aur wo pani piye…to sab badhiya ho jayega….

 **Nigura nahi rahena 

Jinho ne mantr diksha nahi li hai wo hath upar karo…baap re itane sare….phir bhi aaj aap satsang mey aaye hai to bahot shubh ghadiya aap ke jeevan mey aayi hai….bhagavan shiv ji ne parvati ko vamdev guru se diksha dilayi thi….aap bhi kisi unche guru se diksha le lena…diksha ke bina manushy janam vyarthy ho jata hai…..jitane uchh guru se diksha lenge utani jaldi kam banata hai….diksha se aap ke kiye huye daivi kary phalate hai….raje maharaje bhi kitane  purusharth kiye aur satsang nahi kiye isliye durgati ko paye …raja ajj ajagar bana, raja nrug kirkit bana, raja bharat hiran bana..kayi mendak to kayi gidh bane…isliye nigura nahi rahana…aap satsang mey pahunche hai isliye aap ko shabas hai….gurumantr se 33 prakar ke phayade hote hai..84 nadiya shudhd hoti hai…rog partikarak shakti badhati hai..akal mrutyu talati hai….aayu-aarogya badhata hai..aise kayi labh hote hai,jisaki ginati nahi…

**Sury bhagavan ko arghy de 

Jo jis kamana se sury bhagavan ko arghy deta hai , usaki wo kamana puri hoti hai…jaise koyi mirchi ka bij boye to usame sury ke kiran kadavahat bhar dete, koyi ganna bote to usame mithas bhar dete koyi nimboo/imali boye to usame khataas…..aise alag alag bhavana se…jo jis bhavana se artharthi arth ke liye vidyarthi vidya ke liye , putrarthi putr ke liye yasharthi yash ke liye sury bhagavan ko arghy deta hai to usaki kamana jarur puri hoti hai…surynarayan ko jal dete to aise dono hath upar kar ke jal chadhaye , jisase surykirano ke sapt rango ka vakrikaran ( indrdhanush) apane aabha mandal ko prabhavit karata hai…aap ke andar ki sushupt shaktiya jagrut karata hai…netr jyoti ki raksha ke liye aankhe band kar ke shiv netr mey sury bhagavan ko dekhate huye jal dena chahiye….. 

**Prabhumay sona-jagana 

Ratri ko sote samay bhagavan ka naam smaran karate huye soyenge …shwas ke ginati ke sath aanand, madhury , shanti , aarogya aise bhagavan ke naam ke sath smaran karate so jayenge to nind ke sath bhakti mey aap ke wo 6/8 ghante gine jayenge ..aap sote hai to paramtma ki god mey jate hai isliye jab uthate hai to thodi der chup hokar baith jaye…sansar mey sukh dukh sab aayega..bit jayega..prabhu mere aapa hai…har samay unaki smruti bani rahe….OMM OMM aise naam uchcharan kar ke chup ho jaya karo….jitani der naam uchcharan kiya utani der chup..to jaise dudh mey dahi dalate aur rakh dete(tab dahi banata) aise jitani der naam uchcharan karate  aur ek tuk dekhate apne guru ko ya bhagavan ko to bij dalate hai , pada rahene se jade dalata hai  ..tab phalit hokar paudha ugata hai..aise bhagavan ke naam uchcharan ke baad shant hote to bhagavan ka naam aap ke gaherayi mey utarata hai…apani antkaran mey jade dalata hai… aatma ki unnati hoti hai…. (sadgurdev ne aarogy ke tips mey harad ki goliya khane ko kaha aur banane ki vidhi batayi…) 

Thakan uatarane ke pranayam   

Dono nathune se khub shwas bhare, gurumantr jape aur dahine nathune chhode aisa 10 baar kare..to kaisi bhi thakan ho to utar jayegi… 

Khatarnak sardi-khansi ke liye pranayam   

Dahe (right)nathune se shwas bhare , “rum rum rum rum rum”  jape aur bahe(left) nathune se shwas chhode aisa 5 baar kare…(aur din mey 4/5 baar karate rahe) to kaise bhi khatarnak sardi ho , khansi kuff ho aaram ho jayega…. 

Garami door karane ke liye pranayam  

Bahe(left) nathune se shwas bhare , “ OM SHANTI ,OM SHANTI , OM SHANTI , OM SHANTI , OM SHANTI”  jape aur dahe se (right) shwas chhode to sharir ki garami kam hogi , masik jada aata ho , aankhe jalati ho  to aaram ho jayega.. 

Pachan kamajor hai to pranayam  

Dono nathune shwas lo lo lo..roko .. gurumantr japo….aur dhire dhire chhodo..aise 5 baar karo to aaram ho jata hai …jara jara baat ke liye doctor ke paas mat bhago doctor ko satsang sunan eka mauka do..docor logo ko jyada busy mat rakho….. J –Jal se sharir ko sanyat karo –Jap se vichar ko sanyat karo – tapasya se indriyo ko sanyat karo Bhagavan ke naam se wani ko pavitr karo …Satsang se tuchh se tuchh manushy bhi mahan se mahan ban sakata hai….satsang manushy ko ishwarmay bana deta hai.. 

**Tuchh Kide se maharshi 

Bhagavan ved vyas ji jaa rahe the….bhagavan ved vyas ji .. jinhone mahabharat likha , 28 puran likhe, bramh sutr likha aise mahan ..adhyatmik unnati ki parakshta aise bhagavan vyas raste se jaa rahe the to unaki najar padi ki raste mey ek kida bahot jaldi jaldi dahi(right) aor se bahi(left) aor ja raha tha….to bhagavan ved vyas ji ne yogik bal se kide ko puchha ki “iatni jaldi kyo hai tumhe? School jana hai?gurukul jana hai?”  J 

 …..to kida bola ki,  “mujhe door se bailo ke gale ki ghungharoo ki aawaj aa rahi hai….isaka matlab koyi bailgadi aa rahi hai.., mai agar jaldi jaldi sadak paar nahi karunga to bailgadi ke niche kuchala jaunga…”

To bhagavan vedvyas ji bole , “ ek aor ki gutur se dusari aor ki gutur mey jayega ..to usase kya ho jayega?isase achha tu bailgadi ke niche mar ja…..”

kida bhi hai to use jeevan pyara lagata hai..ye vyas ji maharaj janate the..lekin unho ne us kide par bhi krupa ki…kide ko samjhaye ki , “dekho , meri baat mano…bhale hi bailgadi yaha se ravana ho aur tum usake niche kuchale jao to kuchale jane do is kide ke sharir ko … mai sant hun..tumane mere darshan kiye hai…maine tum se baate ki to meri wani bhi tumane suni…to tumhara jeevan krutkruty ho gaya hai , aisi avastha mey agar tumhari mrutyu hogi to tumhara mangal hi hoga…dusare janam mey mai phir tumako milunga aur tumhe margdarshan karunga….”

..Kide ne bhagavan vedvyas ji ki baat maan li…Wo bailgadi ke niche kuchalkar mar gaya..use dusara janam khargosh ka mila…khargosh bhi marate hai..usake mrutyu ke samay bhagavan vedvyasji ne drushti daali to wo ek shikari ke ghar janma…shikari ke ghar khan pan waisa hi aur halaka sampark tha to vrutti thik nahi thi…phir bhi sant ke darshan paye aur thoda bahot bhagavan ka naam lene se shikari ke ghar se bhi usaki mrutyu huyi aur ek rushi ke ghar usaka janam hua…rushi ke patni ka naam mitra tha, isliye usaka naam “maitrey” ban gaya….diksha mili..jap karate to shaktiya vikasit huyi….

..jab maitrey 10 saal ka tha to vyas ji ne kaha ki , “ gandhvadan naam ka brahman tapasya kar raha hai , wo khoj raha hai ki paapi aadami paapi kyo hai? dukhi aadami dukhi kyo hai? tum jakar usaki shanka ka samadhan karo…”

..kide se bhagavan vyas ji ki krupa se maitrey bana 10 saal ka rushikumar gandhvadan bramhan ki shanka ka samdhan karata hai ki , “paap ke karan papi dukhi hai…sukhi dharam ke palan ke karan sukhi hai…aihik sukho ko hi sabkuchh manane wala dukho mey dubata hai…aihik sukho ka mithya jankar aatmsukh ki aor badhanewale ka manobal badhata hai, ihlok sukhi parlok mey bhi sukhi hota hai..sachcha sukh paata hai…..satsang nahi kiya to nrug raja ko bhi kirkit jaisi kayi yoniyo mey bhatakana pada aise jiv ko usaka karm bhatakata hai..”

..isprakar gandhvadan ke shanka ka samdhan kiya…Bhagavan vyas ji ka aaj bhi naam hai..maitrey rushi aaj bhi jane jate hai..ek chhote se kide ka jiv bhi mahan aatm pad ko prapt karata hai…itana kalyan kisi aor prakar se nahi ho sakata…..aisi paapnashini urja aap ko satsang se milati hai…. 

**Hasy prayog se unnati 

Din mey 4/5 baar aisa hasy prayog karo….hari hari om hari om ram ram ram ram shiv shiv shiv shiv bhole nath..shambho ha ha ha ha ha … J  (tali bajakar bhagavan ka namsmaran karate huye dono hath upar kar ke hasy prayog …) Din mey aisa hasy prayog 4/5 baar karoge to sharir ki tandurusti achhi rahegi, raktchap ke utar chadhav ko door rakhega, daivi kriyaye hongi, sushupt shaktiya vikasit hongi…aatma mey shant honge to aatmik unnati mey saphalata milegi….  

..Yuwadhan pustak padho, tulasi ka paudha ghar mey lagao..ghar ke aangan mey, khet kahlihan mey bel (jis ke patte shiv ji ko chadhate) ka vruksh lagaao…mahashivratri ko aur ekadashi ko bel ke vruksh ki pooja karate to mahapatak se mukti paate hai…ek bel ke vruksh lagane se 10 ped lagane ka punya milata hai…bakari aur billi ke pairo ki dhul ghar mey aati to ghar ka dhan kshin hone lagega , barkat nasht ho jayegi.. (pandaal mey toffiyo ka prasad diya ja raha hai , jisame tulasi ke bij, pipali, sunth adi bhi daala gaya hai…Sadgurudev swayam har ek ko prasad mile isliye sewadhariyo ko margdarshan kar rahe hai..sadgurudev ki sada hi jay ho!!!!!) 

**Swapn shatr 

- Ashubh sapane aate to sankat aate hai…

-sapane mey shadi dikhati hai to kaam adi   musibat phasanewale hai…

-  sapane mey jhadoo dikhe to nuksan honewala hai..

-  sapane mey deewar girati huyi dikhe to hani honewali hai…

-  sapane mey bandook , pistol jaise hathiyar dikhe to sankat aata hai…

-  sapane parshad dikhe to vad-vivaad honewala hai…

-  sapane ullu dikhe to rog shok mey ulata latakana hai…

-  gadha dikhe to apaman honewala hai..

-  devata dikhe to adhyatmik unnati honewali hai..

-  mrutyu dikhe to aayushy badhati hai..rogi hai to rog mukt honewale hai..

-  sapane mey imarat banati dikhe to dhan labh honewala ha…

-  sapane mey kala nag ya saap dikhe to mantri bananewale hai….aii haiii…J

 …sapane mey kala naag dikhe to rajya -labh hota hai ya raja se aadarsamman jarur milata hai aisa shatr mey likha hai, mai is yug ke anusar bata raha hun ki mantri banate hai… J

-         sapane mey nakhun kaatate huye dikhayi de to rog se mukti hoti hai…

-         sapane mey harabhara jangal dikhe to khushiya aanewali hai..

-         sapane mey tambe ke sikke dikhayi de to paise aanewale hai , maan milanewala hai…

-         sapane mey aap mala jap rahe hai to bhagoday honewala hai, kisamat chamakane wali hai….bhagy karvat badalata hai..

-         ghode par sawar ho rah ehai to padonnati honewali hai…

-         sapane mey pustak dikhayi de shatr ko pane ka awasar milanewala hai....aur pratyksh mey shatr padhe , dhyan bhajan kare to jisaki ginati nahi aisa labh ho jaye… 

(sadgurudev ne purnahuti satsang ki bela mey raja ajj ki kahani batayi….kruapaya ratlam purnahuti satsang mey ye kahani vistar se padhiyega ..)

 ..devi devata ki pooja-path ka aayojan  karana alag baat hai aur satsang ka aayojan karana alag baat hai… kyo ki ..

 Ek ghadi aadhi ghadi , aadhi mey pun aadh l

Tulasi sangat sadhu ki hare koti aparadh ll 

..Jisaki aadhi se bhi aadhi ghadi se karodo aparadh har leta hai aise sant ke darshan aur wani sunane ka puny satsang se prapt hota hai..…aise satsang ka aayojan raja janak ke kiya (to unake saat pidhi purv ke mithila nagari ke raja ajj ka udhhar hua, jo ajgar, saap jaisi nich  yoni mey dukh bhog rahe  the..)..satsang karana – karaana ..khud satsang sunana, dusaro ko bhi labh dilaana,dusaro ko satsang mey lekar aana..bhagavan ke raste chalana bahot bada puny mana gaya hai….ye bahot mahan kary sampann ho raha hai…kayadoo ne narad ji ka satsang suna to usake garbh se utpann huye bhakt pralhad ke darshan karane devata bhi aate…daity bhi hiranykashyapu ke dar se  chhupchhup kar prahlad ka darshan kar ke aanand paate..satsang ka gyan tuchh se tuchh manushy ko bhi mahan se mahan bana deta hai….lilashah bapu ka satsang ka gyan  aansumal bapu asaram bana dete to aap satsangi bhi bhagavanwale ban jate hai aisi satsang ki mahima hai…..

 Aarati karate hai…aarati karane se kary ki truti / kami hoti hai wo purn ho jati hai , kary sampann ho jata hai… 

(Aarati ho rahi hai.OM JAY JAGDISH HARE

..Prarthana ho rahi hai…KARPOOR GAURAM.. )

..aarati ke dip jal rahe hai tab tak 2/3 baar  pranayam karo…Dono nauthuno se shwas andar bharo..muh band kar ke kanth mey om ka gunjan karate huye gardan aage pichhe kare jab tak shwas chhute…..phir se shwas bhar ke .. “oooommm ….oooooommm….oommm..oooommmm….” …is pranayam se dhyan bhajan mey barkat aayegi….khana khane ke baad adhayi ghante tak ye pranayam nahi karana hai..subah sham khali pet kar sakate hai 2 se 3 baar…adhyatmikunnati mey madad milati  hai..

 Adhyatmik unnatiwalo mey naitik-ta aati hai…aur bhautikta use sukh shanti diye bagair  nahi raheti….

….ab ham jaaayi…..

RAM RAM… 

Sureshanandji maharaj bhajan gaa rahe hai.. 

Ye kaisa hai jadoo samajh mey na aaya

Tere pyar ne ham ko jina sikhaya…

Narayan shriman narayan..

Narayan bhavtarayan

Shriman narayan narayan narayan narayan… 

Om shanti 

Hari Om!Sadgurudev ki jay ho!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare….)         

**********************

 सन्डे, १६ दिसम्बर २००७, भारतीय समय शाम के  :५:१५ बजे 
छिन्दवारा (म.प.) सत्संग_लाइव
*********************

सदगुरूदेव संतशिरोमणि  परमपूज्य श्री आसाराम बापूजी की अमृतवाणी  :-

**********************

(सभी उच्चारण कर रहे…)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय..…

(सदगुरूदेव का आगमन हुआ…)

हरी हरी बोल….

जय जय श्री राधे …..

हर हर महादेव..जय जय शिव शंकर…काँटा लगे ना कंकर…..

नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण….

क्या हालचाल है देविया? ठीक है?खुश हो?(जी हां सदगुरूदेव )
ज्ञान बढ़ रहा है? (जी हां सदगुरूदेव)
पुण्य बढ़ रहा है? (जी हां सदगुरूदेव)
शांति बढ़ रही है? (जी हां सदगुरूदेव)
भगवत प्रीति बढ़ रही है? (जी हां सदगुरूदेव )
चिंता बढ़ रही है? ( जी नही …..)
“नही”! शाबास…सोच समझ कर बोलती है…  :-)

प्रभु का ध्यान , प्रभु का कीर्तन, प्रभु का भजन, प्रभु का ज्ञान अच्छा लगता है? ( जी हां सदगुरूदेव..)
प्रभु का ध्यान, ज्ञान, भजन , कीर्तन इन में से क्या सब से अच्छा लगता है? (……)

:-)  ..   प्रभु के निमित्त जो भी होता है सब कुछ अच्छा ही लगता है…शबरी भिल्लन राम राम जपते झाडू बुहारी करती तो भी अच्छा लगता , और राम नाम गाती ,ध्यान धरती तो भी अच्छा लगता …ऐसा प्रभु के प्रीति के लिए, भगवान के निमित्त जो कुछ भी करते है अच्छा ही होता है…..

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…..

“हाइ !”  :-)  ..( बापूजी साधको को…)

..आज भी अन्तिम सत्र में भी कुंभ का मेला है….क्या हालचाल है जनाबे अल्ली ?…जेब रहे ना खाली.. रोज रहे दिवाली….  :-)
देखो  एक तो वो दिवाली होती है , जो साल के १२ महीनों मे एक बार आती है…और एक वो दिवाली होती है , जो जब चाहो , जहा चाहो ऐसी ..जहा आत्मा का प्रकाश हो जाये, ब्रम्ह ज्ञान के दीप जगमगाये ऐसी दिवाली होती है….

सदा दिवाली संत की आठो प्रहार आनंद l
अकल्मता कोई उपजा . गिने  इन्द्र को रंक ll

…संतो को  इन्द्र का पद भी रंक जैसा लगता है…ऐसे आत्मज्ञान के फुँहारे छूटे , आत्मा का आनंद , परमात्मा के माधुर्य  में सदा मस्त ..ऐसी सदा दिवाली संत की …..आठो प्रहर आनंद होता है…

**आप के घर महान आत्मा बुलाये

अब सभी ध्यान से इस बात को समझना…. अगले २ महीने जो है, महान आत्माये धरती पे प्रगट होने का सीज़न है….दिव्य आत्माये धरती पे आना चाहती है ऐसा ये काल है….इसलिए आनेवाले २ महीनों मे संसार व्यवहार करते समय ध्यान रखना…मासिक के ५ वे या ७ वे दिन बीत जाये उस के बाद संसार व्यवहार हो….जो अच्छा दिन हो , पवित्र दिन हो , पवित्र समय हो ऐसे दिन पवित्र आत्माओ को आवाहन करे……संध्याकाल मे संसार व्यवहार अशुभ होता है..ऐसे समय में जो आत्माये गर्भ मे आती है , वो अशुभ  करनेवाली होती है …ऐसा बच्चा, बदमाश बच्चा पैदा होता है…इसलिए संयम से रहे , बाकी कौनसी तिथि , कौनसा समय..कैसे ये सब ऋषीप्रसाद मे छपवा दूंगा, पढ़ लेना…दूसरी बात स्नान करने के बाद , रोज , कटोरी मे पानी लेकर , उस पानी मे देखते हुए १०० बार हरी ॐ ॐ ॐ ॐ बोले और वो पानी पिए…तो सब बढिया हो जाएगा….

 **निगुरा नही रहेना

जिन्हों ने मंत्र दीक्षा नही ली है वो हाथ ऊपर करो…बाप रे इतने सारे….फिर भी आज आप सत्संग मे आये है तो बहोत शुभ घडिया आप के जीवन मे आई है….भगवान शिव जी ने पार्वती को वामदेव गुरु से दीक्षा दिलाई थी….आप भी किसी ऊँचे गुरु से दीक्षा ले लेना…दीक्षा के बिना मनुष्य जनम व्यर्थ  हो जाता है…..जितने उच्च गुरु से दीक्षा लेंगे उतनी जल्दी काम बनता है….दीक्षा से आप के किये हुए दैवी कार्य फलते है….राजे महाराजे भी कितने  पुरुषार्थ किये और सत्संग नही किये इसलिए दुर्गति को पाए …राजा अज्ज अजगर बना, राजा नृग किरकिट बना, राजा भरत हिरन बना..कई मेंडक तो कई गीध बने…इसलिए निगुरा नही रहना…आप सत्संग मे पहुंचे है इसलिए आप को शाबास है….गुरुमंत्र से ३३ प्रकार के फायदे होते है..८४ नाडिया शुध्द होती है…रोग प्रतिकारक  शक्ति बढती है..अकाल मृत्यु टलती है….आयु-आरोग्य बढ़ता है..ऐसे कई लाभ होते है,जिसकी गिनती नही…

**सूर्य भगवान को अर्घ्य दे

जो जिस कामना से सूर्य भगवान को अर्घ्य देता है , उसकी वो कामना पूरी होती है…जैसे कोई मिर्ची का बिज बोये तो उसमे सूर्य के किरण कड़वाहट भर देते, कोई गन्ना बोते तो उसमे मिठास भर देते कोई नीम्बू/इमली बोये तो उसमे खटास…..ऐसे अलग अलग भावना से…जो जिस भावना से …अर्थार्थी अर्थ के लिए विद्यार्थी विद्या के लिए , पुत्रार्थी पुत्र के लिए , यशार्थी यश के लिए सूर्य भगवान को अर्घ्य देता है तो उसकी कामना जरुर पूरी होती है…सूर्यनारायण को जल देते तो ऐसे दोनो हाथ ऊपर कर के जल चढाये , जिससे सूर्य किरणों  के सप्त रंगो का वक्रिकरण ( इन्द्रधनुष) अपने आभा मंडल को प्रभावित करता है…आप के अन्दर की सुषुप्त शक्तिया जागृत करता है…नेत्र ज्योति की रक्षा के लिए आँखे बंद कर के शिव नेत्र मे सूर्य भगवान को देखते हुए जल देना चाहिऐ…..

**प्रभुमय सोना-जागना

रात्रि को सोते समय भगवान का नाम स्मरण करते हुए सोयेंगे …श्वास के गिनती के साथ आनंद, माधुर्य , शांति , आरोग्य ऐसे भगवान के नाम के साथ स्मरण करते सो जायेंगे तो नींद के साथ भक्ति मे आप के वो ६/८ घंटे गिने जायेंगे ..आप सोते है तो परमात्मा  की गोद मे जाते है इसलिए जब उठते है तो थोडी देर चुप होकर बैठ जाये…संसार मे सुख दुःख सब आएगा..बीत जाएगा..प्रभु  मेरे आपा है…हर समय उनकी स्मृति बनी रहे….ओम् ओम् ऐसे नाम उच्चारण कर के चुप हो जाया करो….जीतनी देर नाम उच्चारण किया उतनी देर चुप..तो जैसे दूध मे दही डालते और रख देते(तब दही बनता) ऐसे जीतनी देर नाम उच्चारण करते  और एक टक  देखते अपने गुरु को या भगवान को तो जैसे बीज डालते है , बीज भूमि में पड़ा रहेने से जड़े डालता है  ..तब फलित होकर पौधा उगता है..ऐसे भगवान के नाम उच्चारण के बाद शांत होते तो भगवान का नाम आप के गहेरायी मे उतरता है…अपनी अंतकरण मे जड़े डालता है… आत्मा की उन्नति होती है….
(सदगुरूदेव  ने आरोग्य के टिप्स मे हरड की गोलिया खाने को कहा और बनाने कि विधि बताई…)

थकान उतारने के प्राणायाम  

दोनो नथुने से खूब श्वास भरे, गुरुमंत्र जपे और दाहिने नथुने छोड ऐसा १० बार करे..तो कैसी भी थकान हो तो उतर जायेगी…

खतरनाक सर्दी-खांसी के लिए प्राणायाम  

दाहे (राईट)नथुने से श्वास भरे , “रं रं रं रं रं”  जपे और बाहे(लेफ्ट) नथुने से श्वास छोड ऐसा ५ बार करे…(और दिन मे ४/५ बार करते रहे) तो कैसे भी खतरनाक सर्दी हो , खांसी कफ़  हो , आराम हो जाएगा….

गरमी दूर करने के लिए प्राणायाम 

बाहे(लेफ्ट) नथुने से श्वास भरे , “ ॐ शांति ,ॐ शांति , ॐ शांति , ॐ शांति , ॐ शांति”  जपे और दाहे से (राईट) श्वास छोडे  तो शरीर की गरमी कम होगी , मासिक जादा आता हो , आँखे जलती हो  तो आराम हो जाएगा..

पाचन कमजोर है तो प्राणायाम 

दोनो नथुने श्वास लो लो लो..रोको .. गुरुमंत्र जपो….और धीरे धीरे छोडो..ऐसे ५ बार करो तो आराम हो जाता है …जरा जरा बात के लिए डॉक्टर के पास मत भागो डॉक्टर को सत्संग सुनने का मौका दो..डॉक्टर  लोगो को ज्यादा बीजी  मत रखो….. :-)
 – जल से शरीर को संयत करो
– जप  से विचार को संयत करो
– तपस्या से इन्द्रियों को संयत करो
- भगवान के नाम से वाणी को पवित्र करो
…सत्संग से तुच्छ से तुच्छ मनुष्य भी महान से महान बन सकता है….सत्संग मनुष्य को ईश्वरमय बना देता है..

**तुच्छ कीडे से महर्षि

भगवान वेद व्यासजी जा रहे थे….भगवान वेद व्यास जी !! .. जिन्होंने महाभारत लिखा , २८ पुरान लिखे, ब्रम्ह सूत्र लिखा ऐसे महान ..अध्यात्मिक उन्नति की पराकाष्ठा -  ऐसे भगवान व्यास रास्ते से जा रहे थे तो उनकी नजर पड़ी कि रास्ते मे एक कीडा बहोत जल्दी जल्दी दाही(राईट) ओर से बाही(लेफ्ट) ओर जा रहा था….तो भगवान वेद व्यासजी ने योगिक बल से कीडे को पूछा कि “इतनी  जल्दी क्यो है तुम्हे? स्कूल  जाना है?गुरुकुल जाना है?”  :-) 

 …..तो कीडा बोला कि,  “मुझे दूर से बैलो के गले की घुँघरू की आवाज आ रही है….इसका मतलब कोई बैलगाडी आ रही है.., मैं अगर जल्दी जल्दी सड़क पार नही करूँगा तो बैलगाडी के निचे कुचला जाऊंगा…”

तो भगवान वेदव्यासजी बोले , “ एक ओर की गटर से दूसरी ओर की गटर मे जाएगा ..तो उससे क्या हो जाएगा?इससे अच्छा तू बैलगाडी के निचे मर जा…..”

कीडा भी है तो उसे जीवन प्यारा लगता है..ये व्यास जी महाराज जानते थे..लेकिन उन्हों ने उस कीडे पर भी कृपा की…कीडे को समझाए की , “देखो , मेरी बात मानो…भले ही बैलगाडी यहा से रवाना हो और तुम उसके निचे कुचले जाओ तो कुचले जाने दो इस कीडे के शरीर को … मैं संत हूँ..तुमने मेरे दर्शन किये है…मैंने तुम से बाते की तो मेरी वाणी भी तुमने सुनी…तो तुम्हारा जीवन कृतकृत्य हो गया है , ऐसी अवस्था मे अगर तुम्हारी मृत्यु होगी तो तुम्हारा मंगल ही होगा…दूसरे जनम में मैं फिर तुमको मिलूंगा और तुम्हे मार्गदर्शन करूँगा….”

..कीडे ने भगवान वेदव्यास जी की बात मान ली…वो बैलगाडी के निचे कुचलकर मर गया..उसे दूसरा जनम खरगोश का मिला…खरगोश भी मरते है..उसके मृत्यु के समय भगवान वेदव्यासजी ने दृष्टी डाली तो वो एक शिकारी के घर जनमा…शिकारी के घर खान पान वैसा ही और हलका सम्पर्क था तो वृत्ति ठीक नही थी…फिर भी संत के दर्शन पाए और थोडा बहोत भगवान का नाम लेने से शिकारी के घर से भी उसकी मृत्यु हुयी और एक ऋषी के घर उसका जनम हुआ…ऋषी के पत्नी का नाम मित्रा था, इसलिए उसका नाम “मैत्रेय” बन गया….दीक्षा मिली..जप करते तो शक्तिया विकसित हुयी….

..जब  मैत्रेय १० साल का था तो व्यास जी ने कहा कि , “ गंधवदन नाम का ब्राह्मण तपस्या कर रहा है , वो खोज रहा है कि पापी आदमी पापी क्यो है? दुखी आदमी दुखी क्यो है? तुम जाकर उसकी शंका का समाधान करो…”

..कीडे से भगवान व्यास जी कि कृपा से मैत्रेय बना १० साल का ऋषी कुमार  गंधवदन ब्राम्हण कि शंका का समाधान  करता है कि , “पाप के कारन पापी दुखी है…सुखी धरम के पालन के कारन सुखी है…ऐहिक सुखो को ही सबकुछ मानने वाला दुखो मे डूबता है…ऐहिक सुखो का मिथ्या जानकर आत्मसुख की ओर बढ़नेवाले का मनोबल बढ़ता है, इहलोक सुखी परलोक मे भी सुखी होता है..सच्चा सुख पाता है…..सत्संग नही किया तो नृग राजा को भी किरकिट जैसी कई योनियों मे भटकना पड़ा ऐसे जिव को उसका कर्म भटकाता है..”

..इसप्रकार गंधवदन के शंका का समाधान  किया…भगवान व्यास जी का आज भी नाम है..मैत्रेय ऋषी आज भी जाने जाते है..एक छोटे से कीडे का जिव भी महान आत्म पद को प्राप्त करता है…इतना कल्याण किसी ओर प्रकार से नही हो सकता…..ऐसी पापनाशिनी उर्जा आप को सत्संग से मिलती है….

**हास्य प्रयोग से उन्नति

दिन मे ४/५ बार ऐसा हास्य प्रयोग करो….हरी हरी ॐ हरी ॐ राम राम राम राम शिव शिव शिव शिव भोले नाथ..शम्भो हा हा हा हा हा … जे  (ताली बजाकर भगवान का नाम स्मरण  करते हुए दोनो हाथ ऊपर कर के हास्य प्रयोग …) दिन मे ऐसा हास्य प्रयोग ४/५ बार करोगे तो शरीर की तंदुरुस्ती अच्छी रहेगी, रक्तचाप के उतर चढाव को दूर रखेगा, दैवी क्रियाये होंगी, सुषुप्त शक्तिया विकसित होंगी…आत्मा मे शांत होंगे तो आत्मिक उन्नति मे सफलता मिलेगी…. 

..युवाधन पुस्तक पढो, तुलसी का पौधा घर मे लगाओ..घर के आँगन मे, खेत खलिहान  मे बेल (जिस के पत्ते शिव जी को चढाते) का वृक्ष लगाओ…महाशिवरात्रि को और एकादशी को बेल के वृक्ष की पूजा करते तो महापातक से मुक्ति पाते है…एक बेल के वृक्ष लगाने से १० पेड़ लगाने का पुण्य मिलता है…बकरी और बिल्ली के पैरो की धुल घर मे आती तो घर का धन क्षीण होने लगेगा , बरकत नष्ट हो जायेगी.. (पंडाल मे टौफियों  का प्रसाद दिया जा रहा है , जिसमे तुलसी के बिज, पिपली, सुंठ  आदि भी डाला गया है…सदगुरूदेव स्वयम हर एक को प्रसाद मिले इसलिए सेवाधारियो को मार्गदर्शन कर रहे है..सदगुरूदेव की सदा ही जय हो!!!!!)

**स्वप्न शास्त्र 

- अशुभ सपने आते तो संकट आते है…

-सपने मे शादी दिखती है तो काम आदि  मुसीबत फसनेवाले है…

-  सपने मे झाडू दिखे तो नुकसान होनेवाला है..

-  सपने मे दीवार गिरती हुयी दिखे तो हानी होनेवाली है…

-  सपने मे बंदूक , पिस्तौल जैसे हथियार दिखे तो संकट आता है…

-  सपने में  पार्षद दिखे तो वाद-विवाद होनेवाला है…

-  सपने  में उल्लू दिखे तो रोग शोक मे उलटा लटकना है…

-  गधा दिखे तो अपमान होनेवाला है..

-  देवता दिखे तो अध्यात्मिक उन्नति होनेवाली है..

-  मृत्यु दिखे तो आयुष्य बढती है..रोगी है तो रोग मुक्त होनेवाले है..

-  सपने मे इमारत बनती दिखे तो धन लाभ होनेवाला हैं …

-  सपने मे काला नाग या साप दिखे तो मंत्री बननेवाले है….ऐई  हैई… :-)

 …सपने मे काला नाग दिखे तो राज्य-लाभ होता है या राजा से आदर सम्मान  जरुर मिलता है ऐसा शास्त्र  में लिखा है, मैं इस युग के अनुसार बता रहा हूँ कि मंत्री बनाते है… :-) 

-         सपने में नाखून काटते हुए दिखाई दे तो रोग से मुक्ति होती है…

-         सपने में हराभरा जंगल दिखे तो खुशिया आनेवाली है..

-         सपने में ताम्बे के सिक्के दिखाई दे तो पैसे आनेवाले है , मान मिलनेवाला है…

-         सपने में आप माला जप रहे है तो भाग्योदय  होनेवाला है, किस्मत चमकने वाली है….भाग्य करवट बदलता है..

-         घोडे पर सवार हो रहे  है  तो पदोन्नति होनेवाली है…

-         सपने में पुस्तक दिखाई दे टू शास्त्र  को पढ़ने  का अवसर मिलनेवाला है….और प्रत्यक्ष मे शास्त्र  पढे , ध्यान भजन करे तो जिसकी गिनती नही ऐसा लाभ हो जाये… :-)

(सदगुरूदेव ने पूर्णाहुति सत्संग की बेला मे राजा अज्ज की कहानी बताई….कृपया  रतलाम पूर्णाहुति सत्संग में ये कहानी विस्तार से पढिएगा ..)

 ..देवी देवता की पूजा-पाठ का आयोजन  करना अलग बात है और सत्संग का आयोजन करना अलग बात है… क्यो कि ..

 एक घडी आधी घडी , आधी मे पुन आध l

तुलसी संगत साधू की हरे कोटी अपराध ll

..जिसकी आधी से भी आधी घडी से करोडो अपराध हर लेता है , ऐसे संत के दर्शन और वाणी सुनने का पुण्य सत्संग से प्राप्त होता है..…ऐसे सत्संग का आयोजन राजा जनक के किया …(तो उनके सात पीढ़ी पूर्व के मिथिला नगरी के राजा अज्ज का उध्दार हुआ, जो अजगर, साप जैसी नीच  योनी में दुःख भोग रहे  थे..)..सत्संग करना – कराना ..खुद सत्संग सुनना, दूसरो को भी लाभ दिलाना, दूसरो को सत्संग मे लेकर आना..भगवान के रास्ते चलाना बहोत बड़ा पुण्य माना गया है….ये बहोत महान कार्य सम्पन्न हो रहा है…कयादू ने नारद जी का सत्संग सुना तो उसके गर्भ से उत्पन्न हुए भक्त प्रल्हाद के दर्शन करने देवता भी आते…दैत्य भी हिरण्य कश्यपू  के डर से  छुपछूप कर प्रह्लाद का दर्शन कर के आनंद पाते..सत्संग का ज्ञान तुच्छ से तुच्छ मनुष्य को भी महान से महान बना देता है….लिलाशाहा बापू का सत्संग का ज्ञान  आन्सुमल  को  बापू आसाराम बना देते तो आप सत्संगी भी भगवानवाले बन जाते है ऐसी सत्संग की महिमा है…..

 आरती करते है…आरती करने से कार्य की त्रुटी / कमी होती है वो पूर्ण हो जाती है , कार्य सम्पन्न हो जाता है…

(आरती हो रही है…ओम जय जगदीश हरे

..प्रार्थना हो रही है…कर्पूर गौरम.. )

..आरती के दीप जल रहे है तब तक २/३ बार  प्राणायाम करो…दोनो नथुनों  से श्वास अन्दर भरो..मुंह बंद कर के कंठ मे ओम का गुंजन करते हुए गर्दन आगे पीछे करे जब तक श्वास छूटे…..फिर से श्वास भर के .. “ऊऊम्म्म ….ऊऊऊम्म्म्….ऊम्म्म..ऊऊम्म्म्म….” …इस प्राणायाम से ध्यान भजन मे बरकत आएगी….खाना खाने के बाद अढाई घंटे तक ये प्राणायाम नही करना है..सुबह शाम खाली पेट कर सकते है २ से ३ बार…अध्यात्मिक उन्नति  मे मदद मिलती  है..

 अध्यात्मिक उन्नतिवालो में नैतिक-ता  आती है…और भौतिकता उसे सुख शांति दिए बगैर  नही रहेती….

….अब हम जाई…..

राम राम…

सुरेशानन्दजी महाराज भजन गा रहे है..

ये कैसा है जादू समझ में न आया

तेरे प्यार ने हम को जीना सिखाया…

नारायण श्रीमन नारायण..

नारायण भव  तारायण 
श्रीमन नारायण नारायण नारायण नारायण…

ॐ शांति

हरि ओम!सदगुरूदेव की जय हो!!!!

(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे….)     


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 20,185 other followers