Gussa control kaise kare?..Sureshmaharaj satsang_live

Sunday, December 16, 2007 ; IST : 4:45PM

Chhindwara (M.P.) , satsang_live 

************************ 

Shri Sureshanandji Maharaj ki Amrutwani :-  

************************ 

In Hinglish(Hindi written in English)

(For Hindi please scroll down..)

Suresh maharaj bhajan gaa rahe hai.. 

Sadhako ki ye hari om boli l

aisi waisi ye boli nahi hai

Nindako ki tadak aur garaj se l

dar ne wali ye toli nahi hai ll

 Lekar satsang hari om sadhak l

saty sandesh dil mey hai dhaare ll

jo bhi sun le usi ko hai maane l

duniya itani bhi bholi nahi hai ll

bramhvetta ki leta pariksha l

shradhda kisibhi doli nahi hai ll

Sun lo jag walo in afavao se l

daraenwali ye toli nahi hai ll 

Ham to sadgur ke pyare hai sadhak l

jaise sinh ke dulare hi shravak ll

Bhul kar bhi inhe na satana l

gidhado ki toli nahi hai ll

 Thak gaye sab jag wale nindak l

 sadhako ki naa shradhda ghati hai ll

Ham to pyare hai apane bapu ke l

aise waise hamjoli nahi hai ll 

Vishw pad pe bharat rahega l

pyare bapu ki boli yahi hai ll

Sadhako ka sankalp hai pura l

kayaro ki ye boli hai ll 

Durmati se bhare hai jo nindak l

 nark gami phir unaki gati hai l

Khairiyat samajho jab tak bapu ne l

 tisari aankh kholi nahi hai ll 

(……suresh maharaj ne chindwara ke satsang aayojan ki prashansa kar ke unhe sadhowad diya..aur waha ke gurkul ke bachho ne subah ke satr mey bahot sundar karykram prastut kiya tha, unhe bhi bahot saraha….) 

..bhagavan ram ne lanka se laut kar ayodhya aane ke baad 6 mahine sabhi ke sath ramrajy ka aanand liya ..phir ramaji ne sabhi ko bulaya aur kaha ki sab apane apane ghar jakar sabhi mey mera hi swaroop jankar prem se rahena…mujhe hi sarvatr jaankar aanand se rahena…dhyan bhajan karana….sabhi ko ramji ne ashirvad aur chij vastu dekar bidayi li..jab angad ki bari aayi to angad bahot phut phut kar rone laga to ram ji ne puchha angad kyo itane vyakul ho ?To angad bola ki prabhu mere pita ne marate samay aap ke hatho mey mera hath diya tha..ab aap mujhe apane se door na kare….”

Prabhu ram ji ne jaan liya ki angad ke pita ko maranewale sugriv se angad bhaybhit hai …isliye unhone angad ke gale mey apane gale ki mala daalkar sugriv ki taraf dekhakar angad ke gale mey mala dali…aankho se sugriv ko sandesh diya ki angad ka khayal rakhe maine isake gale mey mala paherayi hai …..aise hi aap ke gale mey bhi bapuji ke naam ki mala hai …aap bhi dare nahi ..Sab se vidayi len eke bad jab hanuman ji ki baari ayi to kaushalya mata aur any sabhi ke chahane par hanumanji ne sugriv  se kaha ki abhi mai aur kuchh din ram ji ke sath rahena chahata hun…sury bhagavan se hanuman ji ne vedo ki shiksha li thi to gurudakshina mey hanumanji sury bhagavan ko kuchh dena chahate the to sury bhagavan ne kaha tha mere ansh se sugriv janma hai usaki raksha karana to hanumanji jaise sugriv ke sath kadam kadam sath rahe ….hame bhi gurudev se diksha mili , vedo ka gyan denewala satsang mila, guru mantr mila hai to hame bhi jeevan mey bhagavan ko aur guru ko har kadam mey sath hi rakhana chahiye…..ye hi guru dakshina hai…unake bataye huye marg par unake vachano par chalana chahiye…jab tak jeevan hai gurumukhi hokar jiye manmukhi hokar naa jiye…sadhak hokar jiye , vilasi hokar naa jiye….

Abhi kuchh kshan hari om pavitr gunjan karenge…10 baar hari om ka paavan gunjan kiya … Margshirsh mahine mey ye satsang ayojan hua hai , hajaro sadhako ko diksha bhi mili ..ye bahot pavitr mahina mana jata hai…is mahine ke krushn paksh ki ekadashi jo hai utpatti ekadsahi hai ….isi ekadashi se ekadashika vrat shuru hua hai…. 

Utpatti ekadashi ki Katha 

Moor naam ka ek daity tha , wo bahot updrav machata tha ….sabhi bhagavan narayan ke pas gaye to bhagavan ne kaha chinta mat karo….bhagvan ka mor daity ke sath yudhd hua….bhagavan narayan ek gupha mey jakar let gaye to mor waha aaya aur hathiyar lekar bhagavan pe vaar karu aisa socha to bhagavan ke sharir se 5 gyanedriya , 5 karmendriya ,5 sharir kosh aur mann aise 16 indriyo se ek devi utpann huyi …us devi ne moor daity ko mar dala…to bhagavn vishnu jaage..bole ki hey devi vardan mango to utpatti devi boli ki aaj ke din jo ekadashi ka vrat karega uspar aap prasann ho…..tab se ekadashi ki parampara chali hai… 

Baat baat mey Rok phatkar nahi 

( koyi  kahi jana chahata tha, jise sewadhari rok rahe the.to sursh maharaj ji ne mana kiya aur kaha ki..)Ek aadami baitha tha to ek pandit aaya ,bola ki idhar pair kar ke mat baitho ye uttar disha hai ..uttar ki taraf badrinath hai…to aadami paschim ki taraf pair kar ke baitha…to pandit bola paschim mey dwarika hai waha pair na karo..adami dakshin ki taraf pair kiya …pandit bola arre ye kya karate ho , dakshin mey to setubandh rameshwar hai…to aadami purab ki taraf pair kiya pandit bola ki purab ki taraf to jagannath puri hai …to aadami bola to ki kya mai upar pair karu? To pandit bola upar to suraj aur chand hote hai..aadami bola, aisa kari mujhe jamin ke andar hi gaad do… ek khadda khod ke  ..” …isliye aise baat baat par rokana , phatakarana chidana achha nahi hai… 

Navratri ka mantr ..ab dhyan se suno…navaratri ke 9 dino mey 9 din is mantr ka jap karenge to shresht arth ki prapti hogi….dhan ki prapti hoti hai…9 din nahi kar paye to 9we din pura din ye mantr ka jap kare…devi bhagavat ke tisare skandh mey mantr aata hai…

 Om shrim rhim klim eim kamalwasine swaha ll  

Navaratri ke 9 din upvas karana chahiye , nahi hua to aakhir ke 3 din jarur kare..  

 Kathin court case ke liye upay 

Jis pe court case chalata ho , chhutkara nahi mil raha ho to kanher ka ek phool lekar use chandan ke sath ghis kar tilak kar ke court mey jaye vaijayanti mala pahenenge ..maane saphalata milegi…. Tilak karanese pahale 108 baar pavan tanay wala mantr jap bhi jarur kare…

(pavan tanay bal pavan samana ,

budhdi vivek vigyan nidhaana ,

 kavan sa kaj kathin jag mahi ,

 jo nahi hot taat tum pahi  ll ) 

Darane ki koyi aawashyakata nahi ekdam shastrokt baat hai…bahoto ko anubhav hua hai… 

Ab sandhya ka samay hai…light  jalaye…maine bujurg santo se suna hai jo suhagan sham ke samay apana sir dhaka hua rakhati hai usake pati ki aayu lambi hoti hai..dekho kaisi bahene mataye hai turant sabhi ne sir dhak liya to ..bhayiyo ko prarthana hai ki aap bhi inka khayal rakhe…purush hokar parashu na bane….mane kathor naa bane…ravan bhi itana dusht tha lekin apani patni pe kabhi hath nahi uthaya tha..to aap bhi apani patni ka khayal rakhe aisi prarthan ahai… 

Lakshmi mata ka waas kaha ? 

Mahabharat mey aata hai ki maa lakshmi bolati hai jis ghar mey ye 3 baate hoti hai waha mai niwas karati hun..(shlok bole)

1)jisake ghar mey sadguru ki pooja ho aur unake vachano ke anusar vyavhar ho ..

2)jis ghar ke log dwara sabhy wani boli jati ho…

3)jaha jhagade na ho…Us ghar mey mata lakshmi ka niwas hota hai…maa lakshmi kaheti hai…  “hey devata ke raja indr waha mai waas karati hun”.. 

Wani ki devi mata sarswati 

Wani ki devi maa sarswati hai…sarswati mata ke hath mey kayi hatyar hai kya?maa durga ke hath mey hathiyar hote hai lekin maa sarswati ke hath mey koyi hathiyar nahi hote…

Sarswati maa ke ek hath mey mala hai jo hame bhagavan ke naam ka jap karane ki prerana de rahi hai..

Sarswati maa ke ek hath mey pustak hai jo hame shastr padhane ka sanket deta hai…

Sarswati maa ke ek hath emy vina hai jisase maa sarswati kaheti ai ki swar sandhan karo shar-sandhan nahi..(bano jaisi wani nahi….jo tir ke saman lage…vina jaisi madhur vani bole) 

..ek pandit ke ghar ke paas koyi janvar mar gaya tha to usane munisipality walo ko phone kar ke bola..to municipality wale aadami ko bhi majak sujha bola ki aap to pandit hai…aap to kriya karam ki vidhi janate hai aap hi kara do to usaki sadgati ho jayegi….pandit bola “..ha ha mai to kar deta hau vidhi lekin pahale socha jo mar gaya hai usake rishtedaro ko bhi usake maut ki ittala de du….” To aise shar-sandhan nahi kare…sangharsh nahi kare….isame shakri kharch ho jati hai…galati huayi hai to use sudhar leni chahiye…sangharsh me nahi ulajhana chahiye..do aadami jhagad akar rahe the..ek bola mai tumhare 32 daat tod dunga ..dusara bola “ mai tumhare 64 daat tod dunga…”  J  To tisara aaya bhai munh mey to 32 hi daat hote hai tum 64 kaise todoge..to wo aadami bolata hai , “ mujhe pata tha tu bich mey bolega isliye tere bhi gin liye the…”   galati ho gayi use mane nahi aur bhi chalaki dikhaye…aise mey bahot shakti ka nash hota hai… 

Gussa  kaise control kare ?

 apani bhul nahi manata, bhul dikhane se  aur gussa havi ho jata hai….to jitana gussa karane mey shakti kharch hoti usame aap ka dhyan lag skata hai…..man mey gussa aaye to hari om shanti hari m shanti bolate raho…, mirch kam kahya karo , khana chaba chaba ke khaya karo to gussa aana kam hoga….aur jinako gussa jyada aata ho wo apane pas ek aayina rakha kare ..gussa aate hi aayine mey dekhe to pane aap gussa kam hone lagega…lekin khud hi ko gussa aaye to dekhana.auro ko dikhaoge to musibat mey pad jaoge.. :-)  

Ek bachha roye ja raha tha..usaka pita usako chup kara raha tha..lekin bachha rota hi ja raha tha…to pita bolane laga “ are hiralaal chup ho ja….are hiralala shant ho ja..”

waha se ek budhe dadaji gujar rahe the…wo in pita putr ko dekhakar ruke aur bachche ko pyar se samjhane lage , “ are hiralal , beta chup ho ja, achhe bachche aise rote nahi…”

….to pita bola hiralal to mera nam hai , iska naam to pannalal hai !”

…to dada ji bole, “ phir tum kyo kahe ja rahe the hiralal chup ho ja…!”

To hiralal bole , “ kya karata..bahot der se usako chup karaye ja raha tha..wo rote hi ja raha tha..mujhe gussa aaya ki isake baal pakadKe 2 thappad lagaa du….lekin ye thik nahi isliye mai apane aap ko hi samjha raha hun ki , hiralal shant ho ja..chup h ja…”  J

Aise aap ko bhi gussa aaye to apane aap ko hi shant kiya kare…hari om tat-sat , baki sab gap-sap … Aapane jeevan mey kayi pareshani aaye to gussa nahi hona dukhi nahi hna..kya karana ? bapuji ko yaad karana 10 saal ki aayu mey bapuji ke pitaji chal base ….sar se hati pita ki chhaya …Vyarthy huye maa ke ashwasan.Bade bhai ka hua dushasan Phir bhi bapuji shant rahe …. Bhagavan ki prarthana karate rahe to kya hua?  Laut ahmedabad mey mey aaye … kiya bhai ka man parivartan Ghar mey lakshmi karane lagi nartan Ghar vaibhav se bharpur kar diya…(suresh maharaj shri asaramayan ki kuchh panktiya bol rahe hai..)jap tap badha de…to shanti , vaibhav ho jayega… 

Ghar mey samrudhdi ke liye  

Ghar mey samrudhdi lana chahate ho to..jis ghar ke purush kam pe jate hai, unake ghar ki mahilaye jab purush kaam par jaye tab gita ke  11we adhyay ka 40 wa shlok 108 baar padhe aur bhagvana ko prarthan akare ki maine ye jo path kiya iska puny hamare ghar ke amuk amuk purush ko (usaka naam lekar bole) dijiye use kary mey khub saphalata mile aisi prarthana kar  ke arghy de…isase ghar ke kaam karane wale vyaktiyo ko bahot saphalata milegi…ye kayiyo ka anubhav hai….is shlok ki itani mahima hai aur bahot saral bhi hai.. Subah ke satr mey grurkul ke bachho ne kitan esundar aasan kar ke dikhaye..mujhe pura vishwas hai ki chhindwara ke bachhe pure desh mey hi nahi balki vishw mey naam roshan karenge….84 asan to karate hai lekin ek 85 wa asan hai…aap kahe to mai bata du?  J 85 wa aasan hai aa-san matlab kisi se kisi bh chi ki apeksha nahi rakhana……ishwar se bhi apeksha nahi rakhana….bas prem badhata rahe… J  

Anubhav (balkrushn agrwal ji ka) 

Jalganv ke bhai ki kirane ki dukan thi….unake dukan mey ek din ek aadami aaya … wo aadami aaya lekin wo bas dukan mey lagayi huyi bapuji ki tasbir ko hi ektuk dekhata raha aur kuchh bhi nahi liya dukan se chala gaya….ek ghante bad us aadami ka phone aaya ki mai aap ke dukan mey aaya tha, mujhe ap ko marane ki supari mili thi…mere pas banduk thi…mai banduk nikalane laga to tasbir mey jo baba hai , wo mujhe kahane lage . “ khabardar, banduk bahar bhi nikali to…” mai kuchh na kar saka isliye laut kar aa gaya…unaki tasbir mey itana dam hai…to uname kitana dam hoga….!”baad mey wo jalgav wale bhai ne jinaki kirane ki dukan hai , unka naam balkrushn agrwal hai..bapuji se diksha li aur jalgav ke samiti mey kary karate hai….Bapuji ke chitr se bhi aap ki raksha hoti hai… Yashoda mata ne kushn bhagavan ko dori se bandh diya tha pyar mey..to aap logo ne bhi bapuji ko 2 din se prem ki dori se bandh rakha tha….(suresh maharaj gaa rahe hai..) 

Sadhako ne bandhi hai prem ki dori jo sadguru aaye hai… 

itana badhiya aayojan kiya….

Ab bapuji padhar rahe hai.. 

Om namo bhagavate vasudevay..  

Hari om! Sadguru bhagvan ki jay ho!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshma kare…) 

***********************


हिन्दी में
गुस्सा  कैसे कण्ट्रोल करे ?
रविवार, दिसम्बर १६, २००७ ; भारतीय समय शाम के  : ४:४५ बजे
छिन्दवारा (म.प.) , सत्संग_लाइव
************************
श्री सुरेशानन्दजी महाराज की अमृतवाणी  :- 
************************
सुरेश महाराज भजन गा रहे है..
साधको की ये हरि ओम बोली l
 ऐसी वैसी ये बोली नही है ll
निन्दको की तड़क और गरज से l
 डर ने वाली ये टोली नही है ll

लेकर सत्संग हरि ओम साधक l
 सत्य संदेश दिल मे है धारे ll
सुन लो जग वालो इन अफावाओ से l
 डरनेवाली ये टोली नही है ll

जो भी सुन ले उसी को है माने
दुनिया इतनी भी भोली नही है..ll
ब्र्म्हवेत्ता की लेता है परीक्षा l
श्रध्दा किसीकी भी  डोली नही है ll
हम तो सदगुर के प्यारे है साधक l
 जैसे सिंह के दुलारे ही श्रावक ll
भूल कर भी इन्हें न सताना l
 गिधडो की ये  टोली नही है ll
 थक गए सब जग वाले निंदक l
 साधको की ना श्रध्दा घटी है ll
हम तो प्यारे है अपने बापू के l
 ऐसे वैसे हमजोली नही है ll
विश्व पद पे भारत रहेगा l
 प्यारे बापू की बोली यही है ll
साधको का संकल्प है पुरा l
 कायरो कि ये बोली है ll
दुर्मति से भरे है जो निंदक l
 नरक गामी फिर उनकी गति है ll
खैरियत समझो जब तक बापू ने l
 तीसरी आँख खोली नही है ll
 (……सुरेश महाराज ने छिन्दवारा  के सत्संग आयोजन की प्रशंसा कर के उन्हें साधोवाद दिया..और वहा के गुरुकुल  के बच्चो ने सुबह के सत्र मे बहोत सुन्दर कार्यक्रम प्रस्तुत किया था, उन्हें भी बहोत सराहा….)
..भगवान राम ने लंका से लौट कर अयोध्या आने के बाद ६ महीने सभी के साथ रामराज्य का आनंद लिया ..फिर रामजी ने सभी को बुलाया और कहा कि सब अपने अपने घर जाकर सभी मे मेरा ही स्वरूप जानकर प्रेम से रहेना…मुझे ही सर्वत्र जानकार आनंद से रहेना…ध्यान भजन करना….सभी को रामजी ने आशीर्वाद और चीज वस्तु देकर बिदाई ली..जब अंगद की बारी आई तो अंगद बहोत फुट फुट कर रोने लगा तो राम जी ने पूछा , “अंगद क्यो इतने व्याकुल हो ?”  तो अंगद बोला कि, “प्रभु मेरे पिता ने मरते समय आप के हाथो मे मेरा हाथ दिया था..अब आप मुझे अपने से दूर न करे….”  प्रभु राम जी ने जान लिया कि , अंगद के पिता को मारनेवाले सुग्रीव से अंगद भयभीत है …इसलिए उन्होने अपने गले की माला निकली और  सुग्रीव की तरफ देखकर अंगद के गले मे माला डाली…आंखो से सुग्रीव को संदेश दिया कि , अंगद का खयाल रखे मैंने इसके गले मे माला पहेरायी है …..ऐसे ही आप के गले में भी बापूजी के नाम की माला है …आप भी डरे नही

 ..सब से विदाई लेने के बाद जब हनुमान जी की बारी आयी तो कौशल्या माता और अन्य  सभी के चाहने पर हनुमानजी ने सुग्रीव  से कहा कि, अभी मैं और कुछ दिन राम जी के साथ रहेना चाहता हूँ…सूर्य भगवान से हनुमान जी ने वेदों कि शिक्षा ली थी तो गुरुदाक्षिणा में हनुमानजी सूर्य भगवान को कुछ देना चाहते थे तो सूर्य भगवान ने कहा था , मेरे अंश से सुग्रीव जनमा है उसकी रक्षा करना तो हनुमानजी जैसे सुग्रीव के साथ कदम कदम साथ रहे ….हमे भी गुरुदेव से दीक्षा मिली , वेदों का ज्ञान देनेवाला सत्संग मिला, गुरु मंत्र मिला है तो हमे भी जीवन मे भगवान को और गुरु को हर कदम में साथ ही रखना चाहिऐ…..ये ही गुरु दक्षिणा है…उनके बताये हुए मार्ग पर उनके वचनों पर चलना चाहिऐ…जब तक जीवन है गुरुमुखी होकर जीये , मनमुखी होकर ना जिए…साधक होकर जीये , विलासी होकर ना जीये….

अभी कुछ क्षण हरि ओम पवित्र गुंजन करेंगे…(१० बार हरि ओम का पावन गुंजन किया..)
 … मार्गशीर्ष महीने में ये सत्संग आयोजन हुआ है , हजारो साधको को दीक्षा भी मिली ..ये बहोत पवित्र महीना माना जाता है…इस महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी जो है उत्पत्ति एकादशी  है ….इसी एकादशी से एकादशी का  व्रत शुरू हुआ है….

उत्पत्ति एकादशी की कथा
मूर नाम का एक दैत्य था , वो बहोत उपद्रव मचाता था ….सभी भगवान नारायण के पास गए , तो भगवान ने कहा चिंता मत करो….भगवन का मूर  दैत्य के साथ युध्द हुआ….भगवान नारायण एक गुफा मे जाकर लेट गए तो मूर  वहा आया और हथियार लेकर भगवान पे वार करू ऐसा सोचा तो भगवान के शरीर से ५ ग्यानेद्रिया , ५ कर्मेंद्रिय ,५ शरीर कोष और मन ऐसे १६ इन्द्रियों से एक देवी उत्पन्न हुयी …उस देवी ने मूर दैत्य को मार डाला…तो भगवान विष्णु जागे..बोले कि , “हे देवी वरदान मांगो”.. तो उत्पत्ति देवी बोली कि , “आज के दिन जो एकादशी का व्रत करेगा उसपर आप प्रसन्न हो”…..तब से एकादशी की परंपरा चली है…

बात बात मे रोक फटकार नही
( कोई  कही जाना चाहता था, जिसे सेवाधारी रोक रहे थे….तो सुरेश  महाराज जी ने मना किया और कहा कि..)एक आदमी बैठा था तो एक पंडित आया ,बोला कि इधर पैर कर के मत बैठो ये उत्तर दिशा है ..उत्तर की तरफ बद्रीनाथ है…तो आदमी पश्चिम की तरफ पैर कर के बैठा…तो पंडित बोला पश्चिम में द्वारिका है वहा पैर ना  करो..आदमी दक्षिण की तरफ पैर किया …पंडित बोला अरे ये क्या करते हो , दक्षिण में तो सेतुबंध रामेश्वर है…तो आदमी पूरब की तरफ पैर किया ..पंडित बोला कि पूरब की तरफ तो जगन्नाथ पूरी है …तो आदमी बोला कि तो  क्या मैं ऊपर पैर करू? तो पंडित बोला ऊपर तो सूरज और चाँद होते है..आदमी बोला, ऐसा करो  मुझे जमीन के अन्दर ही गाड़ दो… एक खड्डा खोद के  ..”
…इसलिए ऐसे बात बात पर रोकना , फटकारना , चिडना अच्छा नही है…

नवरात्रि का मंत्र
..अब ध्यान से सुनो…नवरात्रि के ९ दिनों मे ९ दिन इस मंत्र का जप करेंगे तो श्रेष्ट अर्थ की प्राप्ति होगी….धन की प्राप्ति होती है…९ दिन नही कर पाए तो ९वे दिन पुरा दिन ये मंत्र का जप करे…देवी भागवत के तीसरे स्कंध मे मंत्र आता है…

 ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं कमलवासिनी स्वाहा ll

 नवरात्रि के ९ दिन उपवास करना चाहिऐ , नही हुआ तो आख़िर के ३ दिन जरुर करे.. 

 कठिन कोर्ट केस के लिए उपाय
जिस पे कोर्ट केस चलता हो , छुटकारा नही मिल रहा हो तो कन्हेर का एक फूल लेकर उसे चंदन के साथ घिस कर तिलक कर के कोर्ट मे जाये वैजयंती माला पहेनेंगे ..माने सफलता मिलेगी…. तिलक करनेसे पहले १०८ बार पवन ताने वाला मंत्र जप भी जरुर करे…
(पवन तनय  बल पवन सामना ,
बुध्दी विवेक विज्ञान निधाना ,
 कवन सा काज कठिन जग माही ,
 जो नही होत तात तुम पाहि  ll
)
डराने की कोई आवश्यकता नही , एकदम शास्त्रोक्त बात है…बहोतो को अनुभव हुआ है…

अब संध्या का समय है…लाइट  जलाये…मैंने बुजुर्ग संतो से सुना है , जो सुहागन शाम के समय अपना सिर ढाका हुआ रखती है उसके पति की आयु लंबी होती है..देखो कैसी बहेने माताये है तुरंत सभी ने सिर ढक  लिया तो ..भाईयो को प्रार्थना है कि आप भी इनका खयाल रखे…पुरुष होकर परशु न बने….माने कठोर ना बने…रावण भी इतना दुष्ट था लेकिन अपनी पत्नी पे कभी हाथ नही उठाया था..तो आप भी अपनी पत्नी का खयाल रखे ऐसी प्रार्थन है …

लक्ष्मी माता का वास कहा ?
महाभारत में आता है कि माँ लक्ष्मी बोलती है जिस घर मे ये ३ बाते होती है वहा मई निवास करती हूँ..(श्लोक बोले)
१)जिसके घर में सदगुरू की पूजा हो और उनके वचनों के अनुसार व्यवहार हो ..
२)जिस घर के लोगो  द्वारा सभ्य  वाणी बोली जाती हो…
३)जहा झगडे ना  हो..
…उस घर में माता लक्ष्मी का निवास होता है…माँ लक्ष्मी कहेती है…  “हे देवता के राजा इन्द्र वहा मैं वास करती हूँ”..

वाणी की देवी माता सरस्वती
वाणी की देवी माँ सरस्वती है…सरस्वती माता के हाथ मे कोई  हथियार  है क्या? माँ दुर्गा के हाथ मे हथियार होते है लेकिन माँ सरस्वती के हाथ में कोई हथियार नही होते…
सरस्वती माँ के एक हाथ में माला है जो हमे भगवान के नाम का जप करने की प्रेरणा दे रही है..
सरस्वती माँ के एक हाथ में पुस्तक है जो हमे शास्त्र पढ़ने का संकेत देता है…
सरस्वती माँ के एक हाथ में  वीणा है जिससे माँ सरस्वती कहेती है  कि , स्वर संधान करो शर-संधान नही..(बाणों जैसी वाणी नही….जो तीर के समान लगे…वीणा जैसी मधुर वाणी बोले)
 ..एक पंडित के घर के पास कोई जानवर मर गया था तो उसने म्युनिसिपालिटी  वालो को फ़ोन कर के बोला कि कर्मचारी भेजे ..तो म्युनिसिपालिटी  वाले आदमी को भी मजाक सुझा बोला कि , आप तो पंडित है…आप तो क्रिया करम की विधि जानते है ..आप ही कर दो तो उसकी सदगति हो जायेगी….पंडित बोला  “..हा हा मैं तो कर देता हूँ  विधि लेकिन पहले सोचा जो मर गया है उसके रिश्तेदारों को भी उसके मौत की इत्तला दे दु….”
 तो ऐसे शर-संधान नही करे…संघर्ष नही करे….इसमे शक्ति  खर्च हो जाती है…गलती हुई है तो उसे सुधार लेनी चाहिऐ…संघर्ष मी नही उलझना चाहिऐ..
..दो आदमी झगडा कर  रहे थे..एक बोला मैं तुम्हारे ३२ दात तोड़ दूंगा..
 ..दूसरा बोला “ मैं तुम्हारे ६४ दात तोड़ दूंगा…”  :-)  
..तो तीसरा आया , बोला , “भाई मुँह में तो ३२ ही दात होते है तुम ६४ कैसे तोडोगे ?” :-)
..तो वो आदमी बोलता है , “ मुझे पता था तू बिच मे बोलेगा इसलिए तेरे भी गिन लिए थे…”
  गलती हो गयी उसे माने नही और भी चालाकी दिखाए…ऐसे में बहोत शक्ति का नाश होता है…

गुस्सा  कैसे कण्ट्रोल करे ?
 अपनी भूल नही मानता, भूल दिखने से  और गुस्सा हावी हो जाता है….तो जितना गुस्सा करने मे शक्ति खर्च होती उसमे आप का ध्यान लग सकता है…..मन मे गुस्सा आये तो “हरि ओम शांति , हरि ओम शांति” बोलते रहो…, मिर्च कम खाया  करो , खाना चबा चबा के खाया करो तो गुस्सा आना कम होगा….और जिनको गुस्सा ज्यादा आता हो वो अपने पास एक आईना रखा करे ..गुस्सा आते ही आईने में देखे तो अपने  आप गुस्सा कम होने लगेगा…लेकिन खुद ही को गुस्सा आये तो देखना.औरो को दिखाओगे तो मुसीबत मे पड जाओगे.. :-) 

एक बच्चा रोये जा रहा था..उसका पिता उसको चुप करा  रहा था..लेकिन बच्चा रोता ही जा रहा था…तो पिता बोलने लगा “ अरे हीरालाल चुप हो जा….अरे हीरालाल  शांत हो जा..”
वहा से एक बुढे दादाजी गुजर रहे थे…वो इन पिता पुत्र को देखकर रुके और बच्चे को प्यार से समझाने लगे , “ अरे हीरालाल , बेटा चुप हो जा, अच्छे बच्चे ऐसे रोते नही…”
….तो पिता बोला , “हीरालाल तो मेरा नाम है , इसका नाम तो पन्नालाल है !”
…तो दादा जी बोले, “ फिर तुम क्यो कहे जा रहे थे हीरालाल चुप हो जा…!”
तो हीरालाल बोले , “ क्या करता..बहोत देर से उसको चुप कराये जा रहा था..वो रोते ही जा रहा था..मुझे गुस्सा आया कि इसके बाल पकडके २ थप्पड़ लगा दु….लेकिन ये ठीक नही ..इसलिए मैं अपने आप को ही समझा रहा हूँ कि , हीरालाल शांत हो जा..चुप हो  जा…”  :-)

ऐसे आप को भी गुस्सा आये तो अपने आप को ही शांत किया करे…हरि ओम तत्-सत , बाकी सब गप-सप … अपने जीवन में कोई  परेशानी आये तो गुस्सा नही होना दुखी नही होना ..क्या करना ? बापूजी को याद करना १० साल कि आयु मे बापूजी के पिताजी चल बसे ….
सर से हटी पिता कि छाया …
…व्यर्थ  हुए माँ के आश्वासन…
बडे भाई का हुआ दुशासन ..
फिर भी बापूजी शांत रहे …. भगवान की प्रार्थना करते रहे.. तो क्या हुआ? 
..लौट अहमदाबाद में  आये …
किया भाई का मन परिवर्तन ..
घर मे लक्ष्मी करने लगी नर्तन ..
घर वैभव से भरपूर कर दिया…
(सुरेश महाराज श्री आसारामायण की कुछ पंक्तिया बोल रहे है..)
जप तप बढ़ा दे…तो शांति , वैभव हो जाएगा…

घर मे समृध्दी के लिए 
घर मे समृध्दी लाना चाहते हो तो..जिस घर के पुरुष काम पे जाते है, उनके घर की महिलाये जब पुरुष काम पर जाये तब गीता के  ११वे अध्याय का ४० वा  श्लोक १०८ बार पढे और भगवान को प्रार्थना  करे  कि मैंने ये जो पाठ किया इसका पुण्य हमारे घर के अमुक अमुक पुरुष को (उसका नाम लेकर बोले) दीजिए ..उसे कार्य में खूब सफलता मिले ऐसी प्रार्थना कर  के अर्घ्य दे…इससे घर के काम करने वाले व्यक्तियों को बहोत सफलता मिलेगी…ये कईयों का अनुभव है….इस श्लोक कि इतनी महिमा है और बहोत सरल भी है.. सुबह के सत्र मे गुरुकुल  के बच्चो ने कितने  सुंदर आसन कर के दिखाए..मुझे पुरा विश्वास है कि छिन्दवारा के बच्चे पूरे देश में ही नही बल्कि विश्व में नाम रोशन करेंगे….६४  आसन तो करते है लेकिन एक ६५  वा  आसन है…आप कहे तो मैं बता दु?  जे ६५  वा  आसन है आ-सन मतलब किसी से किसी भी  चीज  की अपेक्षा नही रखना……ईश्वर से भी अपेक्षा नही रखना….बस प्रेम बढ़ता रहे…  :-)
 
अनुभव (बालकृष्ण अग्रवाल जी का)
जलगांव के भाई की किराने की दुकान थी….उनके दुकान में एक दिन एक आदमी आया … वो आदमी आया लेकिन वो बस दुकान मे लगाई हुयी बापूजी की तसबीर को ही एक टक  देखता रहा और कुछ भी नही लिया दुकान से चला गया….एक घंटे बाद उस आदमी का फ़ोन आया कि , मैं आप के दुकान मे आया था, मुझे आप को मारने की सुपारी मिली थी…मेरे पास बंदूक थी…मैं बंदूक निकालने लगा तो तसबीर मे जो बाबा है , वो मुझे कहने लगे . “ ख़बरदार, बंदूक बाहर भी निकाली तो…” मैं कुछ न कर सका इसलिए लौट कर आ गया…उनकी तसबीर में इतना दम है…तो उनमे कितना दम होगा….!”  बाद में वो जलगाव वाले भाई ने जिनकी किराने की दुकान है , उनका नाम बालकृष्ण अग्रवाल है..बापूजी से दीक्षा ली और जलगाव के समिति में कार्य करते है….बापूजी के चित्र से भी आप की रक्षा होती है…

.. यशोदा माता ने कृष्ण  भगवान को डोरी से बांध दिया था प्यार में..तो आप लोगो ने भी बापूजी को २ दिन से प्रेम की डोरी से बांध रखा था….(सुरेश महाराज गा रहे है..)
साधको ने बांधी है प्रेम की डोरी जो सदगुरू आये है…
इतना बढिया आयोजन किया….
अब बापूजी पधार रहे है..
ओम नमो भगवते वासुदेवाय.. 

हरि ओम! सदगुरू भगवान की जय हो!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे…)
                                                                                                                                                                                         

About these ads
Explore posts in the same categories: Uncategorized

8 Comments on “Gussa control kaise kare?..Sureshmaharaj satsang_live”

  1. yuvraj Says:

    bahut kripa hai prabhuji aur bhi live satsang mile yahi prarthana hai.
    bhut badhiya!!sadho!! sadho!!sadho!!!

  2. rajesh satiya Says:

    hari om

    bahut hi bariya seva hai apki live satsang se asa lagta hi ki hum bapuji ke pass me hi hai

    bahut bahut dhanyawad live satsang sbhi tak pahuchane ke liye


  3. Hari Om,

    Saprem Sadguru Smaran,

    Pujya gurudev kee Amritwani ka rasaswadan karane ke liye koti koti dhanyawad…
    Gurudev kee amritwani ko aur jigyasyoun tak kaise pahunchaaen es par vichar karne kee jaroorat hai….//

    Hari Om…//

  4. Ranjeet Prajapati Says:

    Hari Om

    Aapne bahut hi gyan ki bat batai hai, Jiska main jindgi bhar abhari rahunga, Aur aapse asha karta hu ki aap aur bhi gyan ki bat mujhe batenge

    Hari Om


  5. very nice
    poem
    thanks!
    for
    suresh ji maharaj

  6. Pratibha Says:

    pyar ko kaise paye

    • HariOm Group Says:

      - pyaar naa kheton men upajataa hai, naa hi bazaar men bikataa hai….apanaa aham jo detaa hai vo pyaar hi pyaar le jaataa hai..
      – pyaar paane ki nahi dene ki chij hai..baatane ki chij hai..
      (Pujyashri Bapuji ke satsang se)

  7. Jai Gupta Says:

    Hari Om , Is satsang mein wakai bhahut prem hain.aur sikhne ko bhi bhahut kuch milta hai.


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 33,686 other followers

%d bloggers like this: