Sharabi se Prajapati..!!delhi satsang_live(28/10/07)

Sunday, October 28, 2007 . IST: 5 :00PM

Delhi, Satsang_live 

****************** 

Sadgurudev Santshiromani  Pujyashri Asarambapuji  ki Amrutwani :-

 ******************* 

In Hinglish(Hindi written in Engilsh)

(For Hindi please scroll down…)

(…sureshanandji maharaj ke gurubhaktimay bol sun rahe the….Kuchh hi  kshano mey Sadgurudev ka vyaspith par aagaman honewala tha…pandal mey sabhi “Hari Om” ka pavan gunjan karane lage…sab ki utkanttha badhati chali ja rahi thi.. apane pyare sadgurudev ke amrutmay swar kab kano mey gunjega…..aur jaisa suresh maharaj ne kaha ki bhagavan ko pukaro bhagavan door nahi hai..sadhako ke sakshat bhagavan sadgurudev ko pukara aur wo aa gaye….!! J  ..) 

Hari Hari Bol…..jay ho!!!!!

Hari Hari Bol…..Jay ho!!!!! 

(param pujya bapuji ke ashwasak , ulhas bhare , bhagavat ras ko jaganewale amrut swar se bhaktiras ki tarange  kan  pavan karate huye hruday ke sath samucha watavaran mangal kar rahe hai..ye satsang padhate padhate aap bhi jarur es mangal tarango ka anubhav karenge…sadgurudev ki jay ho!!!!!) 

Hari Om hari om hari om hari om ram ram ram ram ram ram ram shiv shiv shiv shiv shambho bholenath …ha ha ha ha ha…J 

..baitho lala ,laliya baitho…!! 

Hari: OOOOOOOOOOmmmmmmmm

Hari : OOOOOOOOOOmmmmmmmm 

Bhaynashan duramti haran kali me hari ko naam   l

Nishi din nanak jo jape , saphal hovai sab kam…ll

Hari hari OooooooooOOOooooooommmmmm , Hari: OOOOOmmmmm

 Na ham vasami vaikunthe ,yoginam hrudayem bruhi  l

Mad bhakta yatr gayantri tat pratishthami narada  ll 

Hey narad! Kabhi kabhar mai vaikunth mey nahi hota hun , aur kabhi yogiyonka hruday bhi langh jata hun…lekin hey narad, jaise.. 

-jaha suraj waha roshani ,

-jaha chandr waha chandani ,

-jaha sagar waha tarang

-aur jaha kusum waha sugandh hoti hai

-waise jaha sant waha satsang hota hai

…..to waha mai logo ke hruday mey prem roop se , gyan roop se prakat hota hun…sant ke kanth se bhagavat bhakti aur satsangiyonke hruday se shradhda ka paraspar bhav watavaran mangal karata hai….waha chinta , rag , dwesh pravesh nahi kar sakate…bhag jate hai..

..tirath mey nahane se punya ka phal milata hai…sant milate ,satsang ka labh lete to bhi dharm , arth, kaam aur moksh ye 4 phal milate hai…lekin aatmgyani mahapurush sadguru ke roop mey milate to anant guna phal hota hai….esliye kabir ji kahate hai ki .. 

Tirath nahaye ek phal , sant mile phal char  l

Sadguru mile anant phal , kahat kabir vichar  ll 

…hey prabhu humhe aisi jagah pe niwas dena jaha santo ki krupa barasati ho…..raat-din katha kirtan chalata ho…. 

Katha kirtan jya ghar bhayo , sant bhayo mehman  l

Ta ghar prabhu wasa karo , wo ghar vaikunth saman ll 

Satsang mey santo ke kanth se bhagavat katha kano ko aise pawan karate huye hruday mey chandrama ki kirano jaisi sheetalata bhar deti hai….manushya janam paakar jinake kaan satsang nahi sunate wo kaan to saap ke bil ke saman hai….(bapuji ne ek shlok bataya…) ..jaise bil mey jaharila saap raheta hai , aise jo log satsang nahi sunate unke kano mey dusaro ki ninda , chugali jaisi jaharili baate aayengi…esliye aise log duniyadari nahi karate wo to murkhata karate hai….Wo log dhanbhagi hai , jinke kano mey satsang ki katha aati hai….Jo manushya bhagavat katha se vanchit hai wo manushya hai hi nahi ..!..wo to pashu hai..!!  ..kyo ki pashu bhi dukh mey dukhi aur sukh mey sukhi hota hai…khata pita aur bachche paida karata hai…pashu nahi samajh sakata ki aatma kya hai… ishwar kya hai…pashu mey kshamata nahi hoti samajhane ki…..aise jis manushya ko ye pata nahi ki ishwar kya hai , aatma kya hai…to wo manushy nahi pashu hai… 

Raja parikshit Shukdev ji maharaj ka aradhy-pad poojan karate , unko sone ke sinhasan pe bithate aur swayam unke charano mey baith ke gurkrupa ka labh lete…raja aihik suvidha de sakata hai lekin aatma ka sukh pane ke liye unko bhi santo ke charano mey hi aashray lena padata hai …esliye santo ka sthan raja se uncha rakhate hai…sare bhautik sukh jinake pas hote hai aise devataonke raja indra bhi aatmsukh paye sant ke aage swayam ko bauna manata hai….aisa sant ke satsang ka mahima hai..

 …aap logo ko 3 din hari kirtan ka labh mila , sajjanata ka vyavhar hua..gyan ka prakash paya…aisa satsang prasang jeevan mey aana ishwar ki krupa se hi sambhav hai…koi punya jor karata hai tabhi satsang ka labh hota hai…jo abhage hai , paapi hai , jinake punya nash ho gaye hai unko satsang nahi mil sakata , koi  le aye to bhi wo baith nahi sakata…satsang aisi chij hai…ek sharabi ka naam janate hai aap sabhi log…jo hindu hai wo to jarur janate hai ,vyavhar mey bolate bhi hai..satsang se usako kya labh hua esaki katha suno… 

Manushya janam ki visheshata

 ..us sharabi ka janam-din tha , to wo apana janam-din veshya ke sath manane ja raha tha…hath mey chandi ki thali thi , jisame swastik bana hua tha, kuchh mithayi phal aadi tha…to raste mey ek khandahar ke paas dharati mey purani kutir ka jamin mey gada hua avshesh tha , usase takarake sharabi gir pada.. wo kutir kisi brahmgyani sant mahapurush ki thi jaha satsang chalata rahata tha…aisi jagah sharabi gir pada aur behosh ho gaya…to us dharati par pade rahane se use aisa labh hua ki jab hosh mey aaya to usake vichar badal gaye the…janam-din ko veshya ke paas nahi gaya, chandi ki thali aur phal mithayi aadi daan kar diye ..nashe mey gir pada aur us pavan dharati pe shwasoswas andar gaye to gahara prabhav pada….samay pakar 10/15 saal mey usaki  maut huyi to yamraj ke pas uska lekha jokha dekha gaya…….

…chorasi lakh yoniya badalati to sirf manushya janam ke baad lekha jokha padhate hai….kyo ki manushya mey hi itani samajh di hai ishwar ne..esliye aatm tatv ko jano , jaap karo dhyan karo…manushya karm karane mey swatantr hai lekin karmo ke phal bhogane mey swatantr nahi hai…dusare jivo mey aisa nahi hai…devataonko bhi sukh bhogane ki swatantrata hai , lekin sukh bhogkar punya khatam hote hi swarg se dharati par giraye jate…manushya janm hi kewal aisa hai ki brahmgyan pakar param pad ko pane mey saksham hai….paap ke bal se dukh aata to kabhi sukh aur mamata chhudane ke liye bhi  ishwar apana heet karane ke liye dukh dete hai , esliye aisa nahi samjhana ki paap ka phal mila hai…. 

 Satsang ki dharati par behoshi se indrapad ki prapti…. 

..to maharaj savva muhurt sachhe brahmgyani ke kutir ki dharati par satsang ki jagah pade rahane se us sharabi ko savva muhurat indra pad ka rajya bhogane ko milega aur baki ka  hajharo saal ka narakwas tha..to yamraj ne puchha ki, “ pahale kya bhogana chahate ho?”

..aisa puchha jata hai…

..to sharabi ne socha ki hajharo saal intujhar karo phir indrapad bhogo….esase achha pahale indrapad bhogana thik hai…ek baat dhyan dena ki pruthvi ka ek saal bitata tab tak swarg ka ek din hota hai….to savva muhurt lagbhag apane saal ka 14 va hissa samajh lo…to etana samay indra pad mila to esame kya rajya karana aur kya mauj karana….savva muhurat brahmgyani ke satsang ki jagah par pade rahane se etana labh hua to wohi karate hai soch kar sharabi ne vashisth maharaj ko indra darbaar mey aamantrit kiya… 

Manushya pashu pakshi ki boli samjhata,bolata… 

…swarg mey jisaka chintan karate wo pragat ho jate , swarg mey mantr kam karate yaha pruthvi pe yantr kam karate….pahale aisa bhi tha ki manushya pashu pakshiyo ki boli bhi samajh sakate , bol sakate the..lekin us prakar ke khan pan nahi raha to wo nadiya band ho gayi…Ramkrushn paramhans samajh sakate the kutta kya bolata , gaay kya bolati..pakshi kya bolate..to wo nadiya khulati to pashu pakshi ki boli bhi samajh sakate hai..….to ye sharabi ne indra pad pakar vashishth maharaj ka chintan kiya ..vashishth maharaj pragat ho gaye…unaka poojan kiya , swarg ki kamdhenu dekar satkar kiya ..vishwamitr ka awahan kiya  , poojan kiya ..unhe swarg ka mani diya…esprakar jo bhi kuchh vishesh tha usaka upyog karana shuru kar diya, upbhog nahi kiya… 

Upyog karo upbhog nahi…. 

….aise hi hum apane ko jo ishwar se gyanendriya aur karmendriyoka aishwary mila hai usaka upyog nahi karate aur upbhog karana shuru kar dete to bimar honge ,vikalang santan paida hoti,..holi,deewali,shivratri aur janmashtami ye char maharatri hai jo es pavan kal mey pati patni ka sansar vyavhar karata to ghor paap lagata hai…abhi deewali aa rahi hai us raat jaap dhyan karo aur apana aihik ke sath parmarthik aishwary badhao…

…to katha mey aata hai ki, indra bola, “maharaj ye to savva muhurt mey sara swarg ka vaibhav nasht kar raha hai…kisi ko mani de raha to kisi ko kamdhenu de raha..to kisi ko kuchh…”

..to brahmaji bole ki, “nahi,… isako to savva muhurt indra pad mila phir bhi wo swarg ke bhogo mey nahi phasa , ….utane samay mey bhi brahmgyani mahatmaonka sang karke swarg ke vaibhav ka sadupayog kiya esliye usaka narakwas ka dand maph kiya…”

….aur uss sharabi ko bola ki tumane es savva muhurt ka jo upyog kiya us punya ke prabhav se tumhe wapas manushya sharir milega lekin daitya kul mey tumhara janam hoga……

….to sharabi bola ki , “hey prabhu , pruthvi ka savva muhurt satsang ki jagah behoshi mey pade rahane se mujhe swarg ka savva muhurat ka itana unchha indrapad mila aur phir se manushya janam bhi mil raha hai …!..to hey data!,.. etana karana ki meri ye smruti us janam mey bani rahe….to daitya kul mey bhi janam lekar mai apane manushya jeevan ka sarthak karu itana kijiye maharaj…!”

..bhagavan bole, “badham..badham…(badhiya badhiya!)..tumhari mang sundar hai…”

…to wohi sharabi daityakul mey janama aur itane satkarm kiya ki aaj bhi uska naam hum sab ke jaban par aata rahata hai..uska naaam tha “raja bali….!!”

..aaj bhi koyi achha kam kar deta hai to hum kahate “balidan” kiya..sainik desh pe nyochhavar hote to “balidan” kiya…koi kisi ke liye paropakar karata to kaha jata hai ki usane apane sukho ka balidan diya….to satkarmo se aaj bhi “bali” ka naam jud jata hai…

…jo bhog ka bhogi nahi banate , ishwar se mile aishwary ka sadupyog karate to punya ho jata hai….esliye …

-aap ke pas jo kuchh bhi hai ishwar ka diya hua usaka sadupayog karo…

..aap jis bhi sthiti mey ho ..jitana bhi pate ho , jo bhi nokari karate ho… usimese dusaro ke liye achha kare..nayi sthiti aane ka wait mat karana…ye milega to karu aisa nahi soche , jo jis sthiti mey hai aur jo kuchh dusaro ke liye achha kar sakata hai kare….aur sirf pati patni bete beti ke liye nahi , wahwahi ke liye nahi ….bhagavan ki sewa ke liye karo…

.… apane adhikar ki raksha karate huye dusaro ka heet karana …dusaro ko sukh dena dusaro ko maan dena….maan to dene ki chij hai…sukh bhogane ki nahi dene ki chij hai…satkarm kiya aur khud ki ijjat badhane ke liye kiya “mai-pana” badhane ke liye kiya to itana labh nahi hota…aap dusaro ke heet ke liye karate to aap ka heet swabhavik ho jata hai…

ulati samajh 

…aajkal ulati samajh ho gayi hai….apane adhikar ki raksha karana matlab dusaro ko kartavya sikhana nahi…pati patni ko kartavya sikhata apani bhog lalasa ke liye…patni pati ko gahane lane ka kartyavya dikhati , beta ka ye kartavy dikhate maa baap ki sewa hai , beti ka ye kartavy hai..bahu ka aisa…dusaro ko kartavya sikhayega…apane swarth ko dekhega….apane adhikar ki raksha karane ka arth hai ki apana kartavya pahale karo…agar aap ne apana kartavy kiya hai to aap ka adhikar aap ko jarur swabhavik mil jata hai…apane kartyavy kiye nahi to parinam bhi nahi milate..

-teachar ka kartavy hai ki vidyarthi ko gyan de..

-doctor ka kartavya hai ki usake gyan se marij ki bimari door kare.. 

-pahelwan ka kartavya hai k durbal vyakti ki raksha kare…

-sant ka kartavy hai ki samaj ke liye sukhad watavaran kare…

.…ye pakka kar lo ki aap ke pas jo kuchh bhi hai usaka sab ke liye upyog kare….to usaka sadupayog ho jayega…..sansar ki koi suvidha aati hai to wo chali bhi jati hai…to ye aane jane wale ke pahale jo hai usaka upyog kar lo…

 Hai bhi sat, jugatit bhi sat ,hose bhi sat….l

Nanak ji kahate hai , adi sat yogo se pahale tha , ab bhi hai aur baad mey bhi rahega…. 

Denewale data ko daan diya! 

..bali raja ki katha mey aage aata ki ….bali raja ne sadupayog ka marg pakada to unka puny prabhav badha..daitya kul mey hote huye bhi pahali smruti se satkarm karata raha…satsang,daan punya badhata raha…to swabhavik hi usaka prabhav vaibhav badhata raha..lekin usake ird-gird jo daitya /rakshas the wo ghamandi ho gaye aur devataonko satane lage…to jaise ravan aur kans se bachakar shanti karane ke liye prabhu aaye waise raja bali to dusht nahi , marane yogya nahi tha…raja bali ne to bahot unchha sthan paa liya hai…. to prabhu bole mai usake samane bauna hokar jaunga….Bali ko pata nahi tha ki sakshat vishnu bhagavan  waman swaroop mey aaye hai….baune brahman ke roop mey aaye waman swarup vishnu bhagavan  ko bali raja bola ki, “3 pair(kadam) pruthvi ka kya karoge brahman..kuchh aur mang lo..”

Brahman rup mey bhagavan bole ki, “mujhe pata hai ek baar bali se jo mangata hai use jeevan bhar kahi aur mangana nahi padata….lekin mujhe to 3 kadam pruthvi hi dena…”

..daityo ke guru Shukrachary ne brahman rup mey aaye bhagavan ko pahechan liya aur bali ko sawadhan kiya ki inko daan nahi dena…lekin raja bali ne kaha ki, “data mere dwar mangane aaya ..  ‘denewale data’ ko daan dekar mera to jeevan sarthak ho gaya…” 

….Waman roop se virat roop lekar  vishnu ji pahale kadam mey pruthvi dusare kadam mey aakash liya aur tisara kadam kaha rakhu puchha to raja bali ne hath jodkar apana shish aage kiya…

..vishnu bhagavan ne bali raja ke patni ko puchha to raja bali ki patni bhi boli ki, “mera jeevan aise pati ko pakar dhany ho gaya ki jo denewale ko daan de raha hai….mai pranam karati hun…!”…patni ka kartavy hai achhe kaam mey pati ka sath de..

.. raja bali ke mata pita bhi bole , “humhare kul mey aisa deepak aaya to hum dhany ho gaye..!”

… brahmgyani ke kutir mey gade pathhar se takarakar satsang ki dharati par savva muhurt behosh pade rahane se sharabi se aisa daani bali raja hua..! 

Daan lena nahi , dena sikho…  

….katha aage chalati hai..ki daan lena to aasan hota hai lekin daan lene wale ko daan denewale ka badala chukana hi padata hai…chahe isi janam mey ya dusare janam mey..bail ban ke ya kutta ban ke..agar kisi se badala lena hai to daan ka hadap karana sikha do..apane aap sab kiya karaya nishphal ho jayega….daan lena nahi dena sikhao…daan ka badala chukane ke liye bhagavan vishnu raja bali ke dwarpaal ho gaye…! 

Aatma ki unnati ke liye..

 ..aap daan dena sikho , jo kuchh aap ke paas achha hai dusare ko dena sikho to suyash saphalata apane aap aa jati hai…kuchh log bolate ke satsang mey time barbad hota hai…utani der kam karenge to aur kamayenge…to khana bhi nahi khao utana samay bachao …roj 8 ghante sote kyo ho..wo bhi samay kam mey laga do…to bole khana nahi khayenge , soyenge nahi to kaise kaam karenge…..to aise hi jaise khana aur nind sharir ki unnati ke liye jaruri hai.. aise hi aatma ki  unnati ke liye satsang ka gyan jaruri hai…jitana khana,sona jaruri hai utana hi satsang se gyan pana bhi jaruri hai…adhyatmik unnati nahi kiya aur sirf sharir ki unnati kiya to bewkufi ke siva kuchh nahi…adhyatmik unnati ke sivay bhautik unnati sambhav hi nahi….tikegi nahi… 

gandhiji ki sachhayi aur sadagi

..mahatma gandhi raat ko 2 baje uthate to bhi unka ajapa jap chalata raheta…ram naam sada hi chalata raheta…sayyam se rahate.. vyavahar mey sadagise rahate… vilayat gaye to maa ko vachan diya tha ki sura aur sundari ke chakkar mey nahi phasunga..aur phasane lage to ram nam ne unako kaise bachaya ye bhi sachhayi se batate…gandhiji ka sahitya padhane se adhyatmik aur naitik bodh milata hai…mujhe to gandhi ki sajjanata aur sachhayi bahot prabhavait kar deti hai…esilye bhagavan ki katha mey bhi gandhi ka naam leta hun.. 

Sone ka tarika badalo..

 ..ye aap log angreji padhdati se aaram karate pati aur patni ka ek hi palang par to pati aur patni ka chumbaktv rhas hota hai ,sath mey sone se prabhav kshin ho jayega…maine bhi ek bete ko janam diya hai ,ek beti ko janam diya hai…shadi ko 43 saal ho gaye honge to bhi 30 ghante bhi sath nahi rahe , to mai bapu bana hun aur wo mataji bankar pooji jati hai , sharirik tandurustika phayada aur chehare pe chamak!…usako bhi nukasan nahi, thoda kuchh budhape ki wajah se hota to mai “aii haii” bol deta hun to chalati phirati hai..! J  …mai ye esiliye bata raha hun ki aap log bhi sath mey ek palang pe sone ki jo galati karate ho wo band karo…alag alag aaram karo…to aayu , aarogya bana rahega… 

Jaha sumati waha sampatti..!

 ..bhalayi burayi sabhi mey hai..sab mey achhayi dekho, sabhi mey wohi narayan chhupa hai…bhagavan kare ki hum bhagavan ke liye bole ,bhagavan kare ki hum bhagavan ke liye mile aur ye bhagavan ke liye milate–bolate hai to bhagavan ki satta se milate bolate hai ye samajh humhari bani rahe…sabhi mey achhayi dekho…parspar bhavyantu…jaha sant ke kanth se nikali wani gunjati hai waha raag dwesh shant ho jate hai…sankirnata door hoti hai…sumati hoti hai ..aur jaha sumati hoti waha sampatti ho jati hai… 

Lanka mey baja danka 

…bali raja ki sampatti ka naam pahuncha daityaraj ravan ki lanka…to lanka mey baj gaya danka….bali mujhase aishwarywan kaise ho sakata hai?….mai bali se yudhd karunga lalkarunga..!…to ravan pahuncha bali ke paas…waha pahuncha to wohi mila chaprashi dwarpal…!(bhagavan vishnu raja bali ke dwarpal bane the)..bhgavan sarv vyapak hai..kisi mey balak narayan ban jate to kahi bete ban jate ..kahi pati ban jate to kahi aap ke sapane mey aakar aap hi ban jate…aise bhagavan sarv vyapak hai…

.-         kisi ko chhota nahi samjhana…

-         kisi ka apaman kiya to us apaman ka badala bhi chukana padata hai…

-         kisi ka tirskar na karo..chhote se chhote vyakti mey bhi  gaharayi mey wohi paramtma hai…

-         kisi ka bura na chaho…

..to daan ka badala chukane ke liye bhagavan dwarpal banake baithe the bali ke rajya mey usane ravan ko roka..ravan ne use balak ke rup mey jana apane barabari ka hota to ladata ..soch kar ravan aage badha..to balak rup mey narayan ne ravan ke pair ko apana pair laga diya…ravan ne puri takad lagayi lekin hil na saka..bali ko nicha dikhane ke liya aaya ravan khud hi niche mundi kar ke wapas chala gaya…kaha sharabi tha aur kaha bhgavan usake dwarpal ban ke raksha karate ..satsang ki kaisi mahima hai…!…kaha ansumal tha aur kaha bapuji bana hai…koi kaha vishw ke har kone mey satsang sun raha hai….

-satsang jeevan vyapan ki kala aur vyavhar ki kushalata sikhata hai…

bhagavan kare ki satsang ke vicharo ko apane jeevan mey laye , pyar ke sambandh se bhagavan ke bankar apani jagjeevan ki gadi chalaye to bhagavan to mangal karta hai , jo jara bhi door nahi … bali raja ki tarah tumhara bhi mangal hi mangal karenge….

om om om om om

Hari : OOOOOOOOOmmmmmmmmmm 

Aarati ho rahi hai..Om Jay jagdish Hare..

Prarthana ho rahi hai …karpur gauram karunavataram..

Bapuji ashirvachan bol rahe hai… mangalam bhagavn vishnu..

(sadgurudev ke samane prajwalit aaratiyo ke darshan karane se shatruonki daal nahi galegi..)

..baith jao…Hari :oooooommmmmmm(plut uchcharan) 

Aarati kar ke pranayam karate to dawayiyonki jarurat nahi padati…

Bhagy ki rekhaye badal jati hai..roji roti to aap ke pichhe pichhe aaye… 

(Malyarpan ho raha hai…anouncer kahe rahe ki .. 

Hey devpurush bapuji

Aap ke charano mey lagaya dil bhakti ka…

…….bapuji ……………ye dil tutane na dena l

Satsang ne jagayi adhyatm mey shradhda ki bhuk..

….Bapuji ….ye shradhda ki bhuk mitane na dena… ll ) 

Bapuji bole : bhagavan mey , mantr mey ,guru mey shradhda badhane ke liye subah , dopahar, sham ki sandhya mey prarthana karo…shanti mey dubate jao…

Meri aankhe jis satta se dekhati hai usi ki satta se tumhari aankhe bhi dekhati hai…meri budhdi jis satta se kam karati  wohi satta sabhi ka kam karati hai…bhains ka tatv aur mera tatv ek nahi hai lekin jo bhains ko satta denewala hai, wohi mujhe bhi deta hai…..jay ramji.. J 

Hari om hari om 

Govind hare gopal hare

Jay jay prabhu din dayal hare

Sukhdham hare aatmaram hare

 jay jay prabhu din dayal hare…

 narayan narayan narayan narayan narayan

 kaise ho janabe alli.. J

jeb rahega khali lekin dil rahe na khali.. J

kya haal hai?(  sabhi bhaktgan bapuji ke pavan darshan ka labh le rahe hai..)

 Deewali ki raat jap dhyan karana..hajharo guna phal hota hai….. 

Pansa pakada prem ka paari kiya sharir

Sadguru danv batayiyan khele daas kabir.. 

Om namo bhagavate vasudevay…

vasudevay…

priti devay…

bhakti devay..

Samarthya devay…

madhury devay…

shanti devay….

om namo bhagavate vasudevay…

jay jay siyaram !sadhu maharaj dandvat…..!! 

Om shanti.. 

Hari Om! Sadgurudev ki jay ho!!!!!

(galatiyonke liye prabhuji kshama kare..)  

*********************

हिन्दी में

शराबी से प्रजापति..!!  देल्ही सत्संग_लाइव(२८/१०/०७)
रविवार , अक्टोबर २८ , २००७ …भारतीय समय शाम के ५ बजे

******************
सदगुरूदेव संत शिरोमणि पुज्यश्री आसाराम बापूजी की अमृतवाणी  :-


 *******************
(…सुरेशानंदजी महाराज के गुरुभाक्तिमय बोल सुन रहे थे….कुछ ही  क्षणों मे सदगुरूदेव का व्यासपीठ  पर आगमन होनेवाला था…पंडाल मे सभी “हरि ॐ” का पावन गुंजन करने लगे…सब की उत्कंठा बढती चली जा रही थी.. अपने प्यारे सदगुरूदेव के अमृतमय स्वर कब कानो मे गुन्जेगा…..और जैसा सुरेश महाराज ने कहा कि भगवान को पुकारो भगवान दूर नही है..साधको के साक्षात् भगवान सदगुरूदेव को पुकारा और वो आ गए….!!       :-)    ..)
हरि हरि बोल…..जय हो!!!!!
हरि हरि बोल…..जय हो!!!!!

(परम पूज्य बापूजी के आश्वासक , उल्हास भरे , भगवत रस को जगानेवाले अमृत स्वर से भक्तिरस की तरंगे  कान  पावन करते हुए ह्रदय के साथ समूचा वातावरण मंगल कर रहे है..ये सत्संग पढ़ते पढ़ते आप भी जरुर इस  मंगल तरंगों का अनुभव करेंगे…सदगुरूदेव की जय हो!!!!!)

हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ राम राम राम राम राम राम राम शिव शिव शिव शिव शम्भो भोलेनाथ …हा हा हा हा हा…    :-)
..बैठो लाला ,लालिया बैठो…!!

हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म
हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म

भयनाशन दुरमती हरण , कलि में  हरि को नाम   l
निशि दिन नानक जो जपे , सफल होवे सब काम…ll

हरी  हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म हरि ॐ

 ना हम वसामि वैकुंठे ,योगिनाम ह्रुदयेम ब्रृहि  l
मद भक्ता  यत्र गायंत्री तत् प्रतिष्ठामी नारदा  ll
 
“हे नारद! कभी कभार में  वैकुण्ठ मे नही होता हूँ , और कभी योगियोंका ह्रदय भी लाँघ जाता हूँ…लेकिन हे नारद, जैसे..
-जहा सूरज वहा रोशनी ,
-जहा चन्द्र वहा चांदनी ,
-जहा सागर वहा तरंग ,
-और जहा कुसुम वहा सुगंध होती है ,
-वैसे जहा संत वहा सत्संग होता है !
……..तो वहा में  लोगो के ह्रदय मे प्रेम रुप से , ज्ञान रुप से प्रकट होता हूँ…संत के कंठ से भगवत भक्ति और सत्संगियोंके ह्रदय से श्रध्दा
का परस्पर भाव वातावरण मंगल करता है….वहा चिंता , राग , द्वेष प्रवेश नही कर सकते…भाग जाते है..…

..तीरथ मे नहाने से पुण्य का फल मिलता है…संत मिलते ,सत्संग का लाभ लेते तो भी धर्म , अर्थ, काम और मोक्ष ये ४ फल मिलते है…लेकिन आत्मज्ञानी महापुरुष सदगुरू के रुप मे मिलते तो अनंत गुना फल होता है….इसलिए कबीर जी कहते है कि ..

तीरथ नहाये एक फल , संत मिले फल चार  l
सदगुरू मिले अनंत फल , कहत कबीर विचार  ll

…हे प्रभु हमें  ऐसी जगह पे निवास देना जहा संतो की कृपा बरसती हो…..रात-दिन कथा कीर्तन चलता हो….

कथा कीर्तन जा  घर भयो , संत भयो मेहमान  l
ता  घर प्रभु वासा करो , वो घर वैकुण्ठ समान ll

…सत्संग मे संतो के कंठ से भगवत कथा कानो को ऐसे पावन करते हुए ह्रदय मे चन्द्रमा की किरणों जैसी शीतलता भर देती है….मनुष्य जनम पाकर जिनके कान सत्संग नही सुनते वो कान तो साप के बिल के समान है….(बापूजी ने एक श्लोक बताया…) ..जैसे बिल मे जहरीला सांप  रहेता है , ऐसे जो लोग सत्संग नही सुनते उनके कानो मे दूसरो की निंदा , चुगली जैसी जहरीली बाते आएँगी…इसलिए ऐसे लोग दुनियादारी नही करते वो तो मूर्खता करते है….वो लोग धनभागी है , जिनके कानो मे सत्संग की कथा आती है….जो मनुष्य भगवत कथा से वंचित है वो मनुष्य है ही नही ..!..वो तो पशु है..!!  ..क्यो कि पशु भी दुःख मे दुखी और सुख मे सुखी होता है…खाता पिता और बच्चे पैदा करता है…पशु नही समझ सकता कि आत्मा क्या है… ईश्वर क्या है…पशु मे क्षमता नही होती समझने की…..ऐसे जिस मनुष्य को ये पता नही कि ईश्वर क्या है , आत्मा क्या है…तो वो मनुष्य नही पशु है…

राजा परीक्षित शुकदेव जी महाराज का आराध्य-पाद पूजन करते , उनको सोने के सिंहासन पे बिठाते और स्वयम उनके चरणों मे बैठ के गुरुकृपा  का लाभ लेते…राजा ऐहिक सुविधा दे सकता है लेकिन आत्मा का सुख पाने के लिए उनको भी संतो के चरणों मे ही आश्रय लेना पड़ता है …इसलिए संतो का स्थान राजा से ऊँचा रखते है…सारे भौतिक सुख जिनके पास होते है ऐसे देवाताओंके राजा इन्द्र भी आत्मसुख पाए संत के आगे स्वयम को बौना मानता है….ऐसा संत के सत्संग का महिमा है..

 …आप लोगो को ३ दिन हरि कीर्तन का लाभ मिला  , सज्जनता का व्यवहार हुआ..ज्ञान का प्रकाश पाया…ऐसा सत्संग प्रसंग जीवन मे आना ईश्वर कि कृपा से ही संभव है…कोई पुण्य जोर करता है तभी सत्संग का लाभ होता है…जो अभागे है , पापी है , जिनके पुण्य नाश हो गए है उनको सत्संग नही मिल सकता , कोई  ले आये तो भी वो बैठ नही सकता…सत्संग ऐसी चीज है…एक शराबी का नाम जानते है आप सभी लोग…जो हिन्दू है वो तो जरुर जानते है ,व्यवहार मे बोलते भी है..सत्संग से उसको क्या लाभ हुआ इसकी कथा सुनो…

…मनुष्य जनम की विशेषता

 ..उस शराबी का जनम-दिन था , तो वो अपना जनम-दिन वेश्या के साथ मनाने जा रहा  था…हाथ मे चांदी की थाली थी , जिसमे स्वस्तिक बना हुआ था, कुछ मिठाई फल आदि था…तो रस्ते मे एक खँडहर के पास धरती मे पुरानी कुटीर का जमीन मे गड़ा हुआ अवशेष था , उससे टकराके शराबी गिर पड़ा.. वो कुटीर किसी ब्रह्मज्ञानी संत महापुरुष की थी जहा सत्संग चलता रहता था…ऐसी जगह शराबी गिर पड़ा और बेहोश हो गया…तो उस धरती पर पड़े रहने से उसे ऐसा लाभ हुआ कि जब होश मे आया तो उसके विचार बदल गए थे…जनम-दिन को वेश्या के पास नही गया, चांदी की थाली और फल मिठाई आदि दान कर दिए ..नशे मे गिर पड़ा और उस पावन धरती पे श्वासोस्वास अन्दर गए तो गहरा प्रभाव पड़ा….समय पाकर १०/१५ साल मे उसकी  मौत हुयी तो यमराज के पास उसका लेखा जोखा देखा गया…….

…चोरासी लाख योनिया बदलती तो सिर्फ मनुष्य जनम के बाद लेखा जोखा पढ़ते है….क्यो कि मनुष्य मे ही इतनी समझ दी है ईश्वर ने..इसलिए आत्म तत्व को जानो , जप करो ..ध्यान करो…मनुष्य कर्म करने मे स्वतंत्र है लेकिन कर्मो के फल भोगने मे स्वतंत्र नही है…दूसरे जीवो मे ऐसा नही है…देवताओंको भी सुख भोगने कि स्वतंत्रता है , लेकिन सुख भोगकर पुण्य खतम होते ही स्वर्ग से धरती पर गिराए जाते…मनुष्य जन्म ही केवल ऐसा है कि ब्रह्मज्ञान पाकर परम पद को पाने मे सक्षम है….कभी  पाप के बल से दुःख आता तो कभी सुख और ममता छुडाने के लिए भी  ईश्वर अपना हीत करने के लिए दुःख देते है , इसलिए दुःख आए तो  ऐसा नही समझना की पाप का फल मिला  है….

 सत्संग की धरती पर बेहोशी से इन्द्रपद की प्राप्ति….

..तो महाराज सव्वा मुहूर्त सच्चे ब्रह्मज्ञानी के कुटीर की धरती पर सत्संग की जगह पड़े रहने से उस शराबी को सव्वा मुहूर्त इन्द्र पद का राज्य भोगने को मिलेगा और बाकी का  हजारों  साल का नरकवास था..तो यमराज ने पूछा कि, “ पहले क्या भोगना चाहते हो?”
..ऐसा पूछा जाता है…
..तो शराबी ने सोचा कि हजारों  साल इंतझार  करो फिर इन्द्रपद भोगो….इससे अच्छा पहले इन्द्रपद भोगना ठीक है…एक बात ध्यान देना कि
पृथ्वी का एक साल बीतता तब तक स्वर्ग का एक दिन होता है….तो सव्वा मुहूर्त लगभग अपने साल का १४ वा  हिस्सा समझ लो…तो इतना समय इन्द्र पद मिला  तो इसमे क्या राज्य करना और क्या मौज करना….सव्वा मुहूर्त ब्रह्मज्ञानी के सत्संग की जगह पर पड़े रहने से इतना लाभ हुआ तो वोही करते है सोच कर शराबी ने वशिष्ट महाराज को इन्द्र दरबार मे आमंत्रित किया…

मनुष्य पशु पक्षी की बोली समझता,बोलता…

…स्वर्ग मे जिसका चिंतन करते वो प्रगट हो जाते , स्वर्ग मे मंत्र काम करते यहा पृथ्वी पे यंत्र काम करते….पहले ऐसा भी था कि मनुष्य पशु पक्षियों की बोली भी समझ सकते , बोल सकते थे..लेकिन उस प्रकार का  खान पान नही रहा तो वो नाडिया बंद हो गयी…रामकृष्ण परमहंस समझ सकते थे कुत्ता क्या बोलता , गाय क्या बोलती..पक्षी क्या बोलते..तो वो नाडिया खुलती तो पशु पक्षी की बोली भी समझ सकते है..….तो ये शराबी ने इन्द्र पद पाकर वशिष्ठ महाराज का चिंतन किया ..वशिष्ठ महाराज प्रगट हो गए…उनका पूजन किया , स्वर्ग की कामधेनु देकर सत्कार किया ..विश्वामित्र का आवाहन किया  , पूजन किया ..उन्हें स्वर्ग का मणि दिया…इसप्रकार जो भी कुछ विशेष था उसका उपयोग करना शुरू कर दिया, उपभोग नही किया…

उपयोग करो , उपभोग नही….

….ऐसे ही हम अपने को जो ईश्वर से ग्यानेंद्रिया और कर्मेंद्रियोका ऐश्वर्य मिला है उसका उपयोग नही करते और उपभोग करना शुरू कर देते तो बीमार होंगे ,विकलांग संतान पैदा होती,..होली, दीवाली, शिवरात्रि और जन्माष्टमी ये चार महारात्री है ..जो इस पावन काल मे पति पत्नी का संसार व्यवहार करता तो घोर पाप लगता है…

..अभी दीवाली आ रही है , उस रात जप ध्यान करो और अपना ऐहिक के साथ पारमार्थिक ऐश्वर्य बढाओ…

…तो कथा मे आता है कि , इन्द्र बोला, “महाराज ये तो सव्वा मुहूर्त मे सारा स्वर्ग का वैभव नष्ट कर रहा है…किसी को मणि दे रहा , तो किसी को कामधेनु दे रहा..तो किसी को कुछ…”

..तो ब्रह्माजी बोले कि, “नही,… इसको तो सव्वा मुहूर्त इन्द्र पद मिला फिर भी वो स्वर्ग के भोगो मे नही फ़सा , ….उतने समय मे भी ब्रह्मज्ञानी महात्माओंका संग करके स्वर्ग के वैभव का सदुपयोग किया , इसलिए उसका नरकवास का दंड माफ किया…”

….और उस शराबी को बोला कि , “तुमने इस सव्वा मुहूर्त का जो उपयोग किया उस पुण्य के प्रभाव से तुम्हे वापस मनुष्य शरीर मिलेगा लेकिन दैत्य कुल मे तुम्हारा जनम होगा……”

….तो शराबी बोला कि , “हे प्रभु , पृथ्वी का सव्वा मुहूर्त सत्संग कि जगह बेहोशी मे पड़े रहने से मुझे स्वर्ग का सव्वा मुहूर्त का इतना ऊँचा  इन्द्रपद मिला और फिर से मनुष्य जनम भी मिल रहा है …!..तो हे दाता !,.. इतना करना कि मेरी ये स्मृति उस जनम मे बनी रहे….तो दैत्य कुल मे भी जनम लेकर मैं अपने मनुष्य जीवन का सार्थक करू इतना कीजिए महाराज…!”

..भगवान बोले, “बाढम..बाढम…(बढिया बढिया!)..तुम्हारी मांग सुन्दर है…!”

…तो वोही शराबी दैत्यकुल मे जन्मा और इतने सत्कर्म किया कि आज भी उसका नाम हम सब के जबान पर आता रहता है..उसका नाम था “राजा बलि….!!”

..आज भी कोई अच्छा काम कर देता है तो हम कहते “बलिदान” किया..सैनिक देश पे न्योछावर होते तो “बलिदान” किया…कोई किसी के लिए परोपकार करता तो कहा जाता है कि , उसने अपने सुखो का बलिदान दिया….तो सत्कर्मो से आज भी “बलि” का नाम जुड़ जाता है…!

…जो भोग का भोगी नही बनते , ईश्वर से मिले ऐश्वर्य का सदुपयोग करते तो पुण्य हो जाता है….इसलिए …


- आप के पास जो कुछ भी है ईश्वर का दिया हुआ , उसका सदुपयोग करो…

- आप जिस भी स्थिति मे हो ..जितना भी पाते हो , जो भी नोकरी करते हो… उसी में  से  दूसरो के लिए अच्छा करे..
- नयी स्थिति आने का वेट मत करना…ये मिलेगा तो करू ऐसा नही सोचे , जो जिस स्थिति मे है और जो कुछ दूसरो के लिए अच्छा कर
सकता है करे….
-और सिर्फ पति पत्नी बेटे बेटी के लिए नही , वाहवाही के लिए नही ….भगवान कि सेवा के लिए करो…

.… अपने अधिकार की रक्षा करते हुए दूसरो का हीत करना …दूसरो को सुख देना दूसरो को मान देना….मान तो देने कि चीज है…सुख भोगने कि नही , देने कि चीज है…!..सत्कर्म किया और खुद की इज्जत बढ़ाने के लिए किया “मैं-पना” बढ़ाने के लिए किया तो इतना लाभ नही होता…आप दूसरो के हीत के लिए करते तो आप का हीत स्वाभाविक हो जाता है…

उलटी समझ

…आजकल उलटी समझ हो गयी है….अपने अधिकार की रक्षा करना मतलब दूसरो को कर्तव्य सिखाना नही…पति पत्नी को कर्तव्य सिखाता अपनी भोग लालसा के लिए…पत्नी पति को गहने लाने का कर्त्यव्य दिखाती , बेटा का ये कर्तव्य दिखाते माँ बाप की सेवा है , बेटी का ये कर्तव्य है..बहु का ऐसा…दूसरो को कर्तव्य सिखायेगा…अपने स्वार्थ को देखेगा….!…अपने अधिकार की रक्षा करने का अर्थ है कि , अपना कर्तव्य पहले करो…अगर आप ने अपना कर्तव्य किया है तो आप का अधिकार आप को जरुर स्वाभाविक मिल जाता है…अपने कर्त्यव्य किये नही तो परिणाम भी नही मिलते..

- टिचर का कर्तव्य है कि विद्यार्थी को ज्ञान दे..
- डाक्टर का कर्तव्य है कि उसके ज्ञान से मरीज की बीमारी दूर करे..
- पहेलवान का कर्तव्य है की  दुर्बल व्यक्ति की रक्षा करे…
- संत का कर्तव्य है कि समाज के लिए सुखद वातावरण करे…

.…ये पक्का कर लो कि आप के पास जो कुछ भी है उसका सब के लिए उपयोग करे….तो उसका सदुपयोग हो जाएगा…..संसार की कोई

सुविधा आती है तो वो चली भी जाती है…तो ये आने जाने वाले के पहले जो है उसका उपयोग कर लो…

 है भी सत्  , जुगातित भी सत्  , होसे भी सत् ….l
नानक जी कहते है , आदि सत् युगों  से पहले था , अब भी है और बाद मे भी रहेगा….

देनेवाले दाता को  ही दान दिया!

..बलि राजा की कथा मे आगे आता कि ….बलि राजा ने सदुपयोग का मार्ग पकडा तो उनका पुण्य प्रभाव बढ़ा..दैत्य कुल मे होते हुए भी पहली स्मृति से सत्कर्म करता रहा…सत्संग, दान पुण्य बढ़ता रहा…तो स्वाभाविक ही उसका प्रभाव वैभव बढ़ता रहा..लेकिन उसके इर्द-गिर्द जो दैत्य /राक्षस थे , वो घमंडी हो गए और देवताओंको सताने लगे…तो जैसे रावन और कंस से बचाकर शांति करने के लिए प्रभु आये वैसे राजा बलि तो दुष्ट नही , मारने योग्य नही था…राजा बलि ने तो बहोत ऊँचा  स्थान पा लिया है…. तो प्रभु बोले मैं उसके सामने बौना होकर जाऊंगा….बलि को पता नही था कि साक्षात् विष्णु भगवान  वामन स्वरूप मे आये है….बौने ब्राह्मण के रुप मे आये वामन स्वरुप विष्णु भगवान  को बलि राजा बोला कि, “३ पैर(कदम) पृथ्वी का क्या करोगे ब्राह्मण..कुछ और मांग लो..”
ब्राह्मण रूप मे भगवान बोले कि, “मुझे पता है , एक बार बलि से जो मांगता है उसे जीवन भर कही और मांगना नही पड़ता….लेकिन मुझे तो
३ कदम पृथ्वी ही देना…”

..दैत्यों के गुरु शुक्राचार्य ने ब्राह्मण रूप मे आये भगवान को पहेचान लिया और बलि को सावधान किया कि इनको दान नही देना…लेकिन राजा बलि ने कहा कि, “दाता मेरे द्वार मांगने आया ..  ‘देनेवाले दाता’ को दान देकर मेरा तो जीवन सार्थक हो गया…!”

….वामन रुप से विराट रुप लेकर  विष्णु जी पहले कदम मे पृथ्वी दूसरे कदम मे आकाश ले लिया और तीसरा कदम कहा रखू पूछा तो राजा बलि ने हाथ जोड़कर अपना शीश आगे किया…!

..विष्णु भगवान ने बलि राजा के पत्नी को पूछा तो राजा बलि की पत्नी भी बोली कि, “मेरा जीवन ऐसे पति को पाकर धन्य हो गया कि , जो देनेवाले को दान दे रहा है….मैं प्रणाम करती हूँ…!”
…पत्नी का कर्तव्य है अच्छे काम मे पति का साथ दे..

.. राजा बलि के माता पिता भी बोले , “ हमारे  कुल मे ऐसा दीपक आया तो हम धन्य हो गए..!”

… ब्रह्मज्ञानी के कुटीर मे गडे पत्थर से टकराकर सत्संग की धरती पर सव्वा मुहूर्त बेहोश पड़े रहने से शराबी से ऐसा दानी बलि राजा हुआ..!

दान लेना नही , देना सीखो… 

….कथा आगे चलती है..कि दान लेना तो आसान होता है ..लेकिन दान लेने वाले को दान देनेवाले का बदला चुकाना ही पड़ता है…चाहे इसी जनम मे या दूसरे जनम मे..बैल बन के या कुत्ता बन के..!…अगर किसी से बदला लेना है तो दान का हड़प करना सिखा दो..अपने आप सब किया कराया निष्फल हो जाएगा….!….दान लेना नही देना सिखाओ…!! दान का बदला चुकाने के लिए भगवान विष्णु राजा बलि के द्वारपाल हो गए…!
..आप दान देना सीखो , जो कुछ आप के पास अच्छा है दूसरे को देना सीखो तो सुयश सफलता अपने आप आ जाती है

आत्मा की उन्नति के लिए..

 …कुछ लोग बोलते के सत्संग मे टाईम बर्बाद होता है…उतनी देर काम करेंगे तो और कमायेंगे…तो खाना भी नही खाओ – उतना समय बचाओ …रोज ८ घंटे सोते क्यो हो ? -वो  भी समय काम मे लगा दो…! ..तो बोले खाना नही खायेंगे , सोयेंगे नही तो कैसे काम करेंगे…..तो ऐसे ही , जैसे खाना और नींद शरीर की उन्नति के लिए जरुरी है.. ऐसे ही आत्मा की  उन्नति के लिए सत्संग का ज्ञान जरुरी है…जितना खाना, सोना जरुरी है , उतना ही सत्संग से ज्ञान पाना भी जरुरी है…अध्यात्मिक उन्नति नही किया और सिर्फ शरीर की उन्नति किया तो बेवकूफी के सिवा कुछ नही…अध्यात्मिक उन्नति के सिवाय भौतिक उन्नति संभव ही नही….टिकेगी नही…

गांधीजी की सच्चाई और सादगी

..महात्मा गांधी रात को २ बजे उठाते तो भी उनका अजपा जप चलता रहेता…राम नाम सदा ही चलता रहेता…संयम  से रहते.. व्यवहार मे सादागिसे रहते… विलायत गए तो माँ को वचन दिया था कि सुर और सुंदरी के चक्कर मे नही फसुंगा..और फसने लगे तो राम नाम ने उनको कैसे बचाया , ये भी सच्चाई से बताते…गांधीजी का साहित्य पढ़ने से अध्यात्मिक और नैतिक बोध मिलता है…मुझे तो गांधी की सज्जनता और सच्चाई बहोत प्रभावित कर देती है…इसिलए भगवान की कथा मे भी गांधी का नाम लेता हूँ..

सोने का तरीका बदलो..

 ..ये आप लोग अंग्रेजी पध्दति से आराम करते ….पति और पत्नी का एक ही पलंग पर , तो पति और पत्नी का चुम्बकत्व र्हास  होता है , साथ मे सोने से प्रभाव क्षीण हो जाएगा…मैंने भी एक बेटे को जनम दिया है , एक बेटी को जनम दिया है…शादी को ४३ साल हो गए होंगे तो भी ३० घंटे भी साथ नही रहे , तो मैं बापू बना हूँ और वो माताजी बनकर पूजी जाती है , शारीरिक तंदुरुस्ती का  फायदा और चेहरे  पे चमक !…उसको भी नुकसान नही, थोडा कुछ बुढापे की वजह से होता , तो मैं “ऐई हैई” बोल देता हूँ तो चलती फिरती है..!    :-)    …मैं ये इसीलिए बता रहा हूँ कि आप लोग भी साथ मे एक पलंग पे सोने कि जो गलती करते हो वो बंद करो…अलग अलग आराम करो…तो आयु , आरोग्य बना रहेगा…

जहा सुमति , वहा सम्पत्ति..!

 ..भलाई बुराई सभी मे है..सब मे अच्छाई देखो, सभी मे वोही नारायण छुपा है…भगवान करे कि हम भगवान के लिए बोले , भगवान करे कि हम भगवान के लिए मिले और ये भगवान के लिए मिलते–बोलते  है तो भगवान की सत्ता से मिलते बोलते है ..ये समझ हमारी सदा  बनी रहे…!
…सभी मे अच्छाई देखो…परस्पर भावयन्तु …जहा संत के कंठ से निकली वाणी गूंजती है , वहा राग द्वेष शांत हो जाते है…संकीर्णता दूर होती
है…सुमति होती है ..और जहा सुमति होती वह सम्पत्ति हो जाती है…

लंका मे बजा डंका

…बलि राजा की सम्पत्ति का नाम पहुँचा दैत्यराज रावण की लंका…तो लंका मे बज गया डंका….बलि मुझसे ऐश्वर्यवान कैसे हो सकता है?….मैं बलि से युध्द करूँगा ललकारूँगा ..!…तो रावण पहुँचा बलि के पास…वहा पहुँचा तो वोही मिला चपराशी  द्वारपाल…!(भगवान विष्णु राजा बलि के द्वारपाल बने थे)..भगवान सर्व व्यापक है..किसी मे बालक नारायण बन जाते , तो कही बेटे बन जाते ..कही पति बन जाते तो , कही आप के सपने मे आकर आप ही बन जाते…ऐसे भगवान सर्व व्यापक है…इसलिए …

.-         किसी को छोटा नही समझना…
-         किसी का अपमान किया तो उस अपमान का बदला भी चुकाना पड़ता है…
-         किसी का तिरस्कार न करो..छोटे से छोटे व्यक्ति मे भी  गहराई मे वोही परमात्मा  है…
-         किसी का बुरा न चाहो…

..तो दान का बदला चुकाने के लिए भगवान द्वारपाल बनके बैठे थे …बलि के राज्य मे उसने रावण को रोका..रावण ने उसे बालक के रूप मे जाना ..अपने बराबरी का होता तो लड़ता ..सोच कर रावण आगे बढ़ा..तो बालक रूप मे नारायण ने रावण के पैर को अपना पैर लगा दिया…रावण ने पूरी ताकद लगाई लेकिन हिल न सका..बलि को नीचा दिखने के लिया आया रावण खुद ही निचे मुंडी कर के वापस चला गया…कहा शराबी था और कहा भगवान उसके द्वारपाल बन के रक्षा करते ..सत्संग की कैसी महिमा है…!…कहा अन्सुमल था और कहा बापूजी बना है…कोई कहा विश्व के हर कोने मे सत्संग सुन रहे  है….

-सत्संग जीवन व्यापन की कला और व्यवहार कि कुशलता सिखाता है…!

….भगवान करे कि सत्संग के विचारो को आप अपने जीवन मे लाये , प्यार के संबंध से भगवान के बनकर अपनी जगजीवन की गाड़ी चलाये तो भगवान तो मंगल करता है , जो जरा भी दूर नही … बलि राजा की तरह तुम्हारा भी मंगल ही मंगल करेंगे….

ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ

हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म

आरती हो रही है..ॐ जे जगदीश हरे..
प्रार्थना हो रही है …कर्पूर गौरम करुणावतारम..
बापूजी आशीर्वचन बोल रहे है… मंगलम भगवान विष्णु..
(सदगुरूदेव के सामने प्रज्वलित आरतियों के दर्शन करने से शत्रुओंकी दाल नही गलेगी..)


..बैठ जाओ…
हरि ओऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म

आरती कर के प्राणायाम करते तो दवायियोंकी जरुरत नही पड़ती…
भाग्य की रेखाये बदल जाती है..रोजी रोटी तो आप के पीछे पीछे आये…

( माल्यार्पण हो रहा है…अनौंसर कहे रहे कि ..
….हे देवपुरुष बापूजी
…आप के चरणों मे लगाया दिल भक्ति का…
…….बापूजी ………ये दिल टूटने न देना l
सत्संग ने जगाई अध्यात्म मे श्रध्दा की भूक..
….बापूजी ….ये श्रध्दा कि भूक मिटने न देना… ll )

बापूजी बोले : भगवान मे , मंत्र मे , गुरु मे श्रध्दा बढ़ाने के लिए सुबह , दोपहर, शाम की संध्या मे प्रार्थना करो…शांति मे डूबते जाओ…

…मेरी आँखे जिस सत्ता से देखती है , उसी की सत्ता से तुम्हारी आँखे भी देखती है…मेरी बुध्दी जिस सत्ता से काम करती ,  वोही सत्ता सभी का काम करती है…भैंस का तत्व और मेरा तत्व एक नही है , लेकिन जो भैंस को सत्ता देनेवाला है, वोही मुझे भी देता है…..जय   रामजी..  :-)
 
हरि ॐ हरि ॐ
गोविन्द हरे गोपाल हरे
जय जय प्रभु दिन दयाल हरे
सुखधाम हरे आत्माराम हरे
 जय जय प्रभु दीन दयाल हरे…
 नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण

 कैसे हो जनाबे अल्ली..   :-)
जेब रहेगा खाली लेकिन दिल रहे ना  खाली..  :-)
क्या हाल है?(  सभी भक्तगण बापूजी के पावन दर्शन का लाभ ले रहे है..)

 दीवाली की रात जप ध्यान करना..हझारो गुना फल होता है…..

पांसा पकडा प्रेम का , पारी किया शरीर  l
सदगुरू दांव बतायियाँ , खेले दास कबीर.. ll

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…
वासुदेवाय…
प्रीति देवाय…
भक्ति देवाय..
सामर्थ्य देवाय…
माधुरी देवाय…
शांति देवाय….
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…

जय जय सियाराम ! साधू महाराज दंडवत…..!!

ॐ शांति..


हरि ॐ! सदगुरूदेव की जय हो!!!!!
(गलातियोंके लिए प्रभुजी क्षमा करे..) 

About these ads
Explore posts in the same categories: Uncategorized

3 Comments on “Sharabi se Prajapati..!!delhi satsang_live(28/10/07)”

  1. Naveen Says:

    Sadho Sadho,

    Aapki Seva bhi bahut bahut badhiya, shabd nahin hai, aap aise seva karte hain.

    HariOm

    Bolo Sadguru Bhagwan ki Jay

  2. Manisha Says:

    Hari om Hariom………………
    Ghor kaliyugmebhi Satyugka abhas hota ahi satgurudevke pawan amritwani ke ye ansh padhnese, kitni sundar seva hai!
    Narayan hari.


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 33,685 other followers

%d bloggers like this: