Mantra jaap ke adbhut Labh:satsang_live(Ujjain)

Friday , 28 Sept.07,IST 4:45PM 

Param Pujya Bapuji ki Amritwani 

In Hinglish(for hindi please scroll down…)  

Shri Sureshanandji maharaj ka satsang mil raha hai:-

Jinke ghar mey beti ki shadi, ya pariwar mey koi samasya hai to aisi bahano ke liye skandh puran mey bataya hua mantra shri sureshanandji ne kaha:-

“Om hrim Gauriyay namah”

Agar ashram ke jana sambhav hai to waha ke wad-dada ko pradakshina kare, wad-dada ki mitti kum kum me milakar uttar disha mey mukh karke tilak kare aur upar diya hua mantra bole.kuchh hi dino me aap ko labh hoga..beti ki shadi honi hai to ho jayegi, pariwar mey koi anban hai,chidchida pan hai to shanti aa jayegi. (Unhone ek behen ko ek mahina jaap karane se uske sansarik jeevan ki samasyaye kaise thik ho gayi ye bhi bataya.)

Chembur ki kamaldevi ne Mata Anandmayi maa ko guru manati thi.jab aanandmayi maa brahmlin ho gayi to Kamaladevi bahot dukhi rahane lagi.tub maa aanandmayi  ne kamaladevi ko sapane mey aakar uska hath pakad kar kaha ki tuze mera sannidhya nahi milata esliye bahot dukh hota hai na beti to aanandamayi maa ne unka hath bapuji ke hath me diya aur swapne se antardhan ho gayi..kuchh din bite tub us kamala behen ne TV pe bapuji ko dekha to unko pata pada ki enka naam aasaram bapuji hai aur maa aaanandmayi ne enhi ke hath mey mera hath diya tha..tub who behen aamdawad aayi thi aur unhone bapuji se diksha li aur pandal mey subhi ko apani katha bhi sunayi thi… 

Shri sureshanandji ne kisi sadhak ke bare mey kaha ki unhe bhi unke gurudev ne swapne me aakar kaha tha ki tumhari sadhana adhuri hai,aur asaram bapuji se diksha lene ke liye kaha tha,woh  bhai bhi abhi Bapuji ke shishya hai aur apani sadhana kar rahe hai..

 Bapuji jo shivaji ke upasak hai unhe shiv ji ka mantra dete hai,jo Vishnu ji ke upasak hai unhe unka mantra dete hai,jo mata ke upasak hai unhe unka mantra dete hai aur jo vidyarthi hai unhe sarswatya mantr milata hai..sub ko yogyata ke anusar mantr milata hai to  uska prabhav bahot hota hai.. 

Sureshanandaji maharaj ne aatmgyani guru se hi diksha lene ka mahatv batate huye aur kisi babao se sawdhan rahane ke liye kahate huye bola ki babul ke ped se aam nahi milega, saap ko dudh pilaya to who jahar hi dega,plastic ke phoolo se khushaboo nahi aayegi..lekin aajkal log aisi hi galati kar baithate hai…. 

Om Namo bhagavate vasudevay…Bhagavan ki mahima pustak jarur padhe…  

Etane mey ekdum ulhas bhari Sadgurudev ki amritmay wani sunkar kan dhanya ho gaye….

“HARI HARI BOL……RAJA KI PHAUJ PHAKIR KI MAUJ…SHANKAR KANTA LAGE NA KANKAR!” 

Aur sabhi sadhak zum zum kar nachane lage..

Narayan narayan narayan narayan narayan…

aap yaha bhakti sadhan karane aaye ho ya nachane aaye ho..ye ujjain ke tirth mey aap nachane kudane aye ho kya?ye hi karana tha to edhar kyo aaye,ghar par hi kar lete…kya haalchal hai …? Baap re baap ye ujjain ka mahakumbh hai kya…? (Bapuji satsangiyo ki bhid ko dekhkar bol rahe hai…) Kya mayiya galati kiya na..?mayiya hokar aap nach rahi hai,ye achha hai kya?

 Haa..(ye vikari dance nahi..)..Bhagavan bholenath bhi damaroo bajakar nachate the..

Dhiimak dhimak dhim dhimak dhimak dhim nache bhola nach… To ye bhagavan ke prem mey nachana hai..jaise mira nachi thi..Narad vina bajalkar nachate the aur krushn bansi bajakar nachate the..Bhagavan ke prem ki boli ka naam hai sangeet aur bhagavan ke prem ka bhav ka naam hai nrutya….

 Nath sampraday ke gorakshnath ji ne kaha tha..kahe nath mai tiske sanga.. 

Hasibo khelibo dharibo dhyanAharnish karibo aatmgyan 

Sikh sampraday ke guru Nanak ji ne kaha,

“ hasandiya ,khelandiya, khavandiya ,pehendiya wich kar diye mugti….”haste khelate pahanate khate mukti kar de  aise sadguru humhe pyare lagate hai….. 

Mai abhi khir kha kar aaya hu….lekin thodi..badi umar mey jyada khao to gas karata hai..esliye khane pine par sayyam rakhana jaruri hai… Bachapan mey kaf ,jawani mey pitt aur badi umar mey vat(gas) ke dosh jyada satate hai…..to jo badi umar ke hai aur jinko gas ka,vaat ka dosh satata ho..hath upar kare…Tumhari sachai ka mai swagat karata hu.. To aise vaat dosh ke liye ek bada hi sundar upay hai..Dudh to roj pina hi chahiye es umar mey..to dudh mey 3 kali mirach dalkar ubale aur piye…dudh ko gadha nahi karaan hai esliye dudh mey pani milaye,aur pani nikal jaye tub tuk ubale..jaise ek litre dudh hai to ek litre pani dalo aur kali mirach dalkar ubalo..aur who dudh piyo to gas nahi hogi..Dhyan rakho ki dudh bhais ka nahi gay ka hona chahiye.Aur who bhi agar kali gai ka mile to bahot achha..kali gay ke dudh me vat vikaro ka shaman karane ki shakti hoti hai… Bhais ka dudh  nahi pachata ..

vayu ki 80 prakar ki shikayat hoti hai..ek badhiya upay:-

100gram dhaniya(sukha)

100gram Harad

50 gram shakkar

Powder karake rakho..6gram subah aur 6gram sham ko le lo…sabhi vayu dosho se, gas trouble se mukti…!

Asaram bapu jindabad! JAre bolo..  JChup baithe ho sharam nahi aati…  J……yeh mera aap logo ke prati prem hai..:-)…mohabbat jor pakadati to shararat ka rup dharan karati hai….muze Madhya Pradesh ke liye bahot mohabbat hai…aur ye mohabbat jor pakadati hai esliye shararat…J  !!nahi to aap chup baithe ho sharam nahi aati aisa kyo kahata ?  J  Dekha suna kabhi aisa jindagi mey?Ye kaisa hai jaddo…samajh mey na aaya..tere pyar ne hamko jina sikhaya..

narayan  shriman narayan ..narayan bhavatarayan..shriman narayan narayan narayan narayan…hari om hari om hari om hari om.. 

Jo zhuk ke baithe hai woh dabboo honge..unka manobal avikasit kamjor rah jata hai.. 

Kamar sidhi…..esase manobal badhata hai..Bahe (left) naak se shwas lo..gurumantra ka jap karo…dahe (right) naak se chhodo..ye hua ek pranayam ..aise 10 pranayam suryast ke pahale karane chahiye… 

Dono nathuno se shwas khicha…aur bahe nathune se chhhoda to 3 prakar e rogo sey bachoge..kaf,vayu aur pitt… Aur agar vayu ki taklif hai(gas trouble ) to dahe(right) nathune se shwas andar liya ..roka..gurumantr ka jaap kiya aur bahe se chhoda to gas trouble se aaram hoga.. 

Sharir ko swasth rakho..sharir swasth rahega to mann prasann rahega..mann prasann rahega to buddhi mey prakash hoga aur aatgyan badhega.. Pakka karo :- Jo dikhata hai who mera nahi hai,jo mera hai who muze chhodana padega..ek hai jo mera nahi hai..sare makan,dukan, gadi motor tumhare hai kya? Nahi..to jo tumhara nahi woh nahi..lekin jise tum apana manate ho ,who bhi tumhara nahi hai..meri patni ,mera beta ye sab chhutane wale hai..jo nahi chhutega who hai mera parameshwar jo mera aatmdev hokar baitha hai..jo sada sath rahenge …

 Narayan narayan narayan narayan narayan .. 

Jise hum apana manate hai..woh to denewale ki karuna krupa hai…Lekin woh bhi sada nahi rahega…jo apana hai ,jo marane ke bad bhi rahega..woh kabhi chhutega nahi….use jaan lo..Ye sara sansar mitata hai..lekin jo jivatma sada rahata hai,paramatma sada rahata hai,brahm paramtma sada rahata hai…use jan lo…maha aakash aur ghade me aakash ..dono aakash hai..ghade ke aakash se maha aakash bada hai…lekin kya ghade ke aakash se maha aakash alag kar sakate hai kya?Aisa hi tumhara humhara jivatma us par brahm paramatma se alag nahi kar sakate…. Ek maa ke 7 bachhe hai ,to kya ek bachhe ki maa  maa hai aur dusare bachhe ki nahi hai kya?sab bachho ki maa barabar hoti hai ..kisi ki jyada kisi ki kam aise nahi hoti…waise hi ham sab ke bhagavan barabar hai.. kisi ke jyada aur kisi ke kam nahi..Ved kahata hai purn madah purn midam.. 

To ye pakka karo ki ye maranewala sharer mai nahi hu…marane ke baad bhi jo rahega woh mai hu..brahm hu..ye manane me aap ko koi ghata padata hai ky?..

J Raat ko sote samay apane karm parameshwar  ko arpan kare.. jo achche kam kiye  hey prabhu tumhari krupa se..dosho ko door karane ki prarthana karo…aap ko bahot labh hoga…aayu aarogya badhegaaap ki sadgati hone mey sandeh nahi hai….rakt-chap(high-low blood pressure) aur tanav(tentions) door hota hai..vayktitv prabhavshali hoga..ek paisa kharch nahi hoga, aur aap bapu ban jayenge…J Bhagavan ko parameshwar ko pyar karo..bolo ki bin phere hum tere..tu mera hai na prabhu? Hai na? hain prabhu?Om om om om om om om Hari om om omShakti….om o mom om  bhakti..Hari om omom o mom om  om aarogya….om om o mom om urjasahkti…..om om omom om ha hah ha ha ha J (param pujya bapuji hasya karaye,jisase apane sharer ki 72000 nadiyo ke raktkan shudhh hote hai..) 

Ye Nepal se aaye hai.enko yuwadhan pustak dena… 

Mananiya khadya mantri,Madhya Pradesh, Param Pujya Sadgurudev ko malyarpan kar rahe hai…  

Hari om hari om hari om hari om hari om 

Kahi bhashan dene jana hai unko…thik hai..  

Kisi ne hum ko puchha ki tum katha karate ho? 

Bhashan neta karata hai…katha kathakar karata hai..lekin sant jo bolata hai woh satsang ho jata hai…aur eski aadhi ghadi bhi punyadayi hoti hai…apane jeevan ko sawarane ka samrthya rakahti hai.. 

Ek ghadi aadhi ghadi,aadhi mey puni aadh

Sadhu sangat sadh ki hare koti aparadh… 

Sukh deve dukh ko hare kare paap ka ant,

Kahe kabir who kab mile param sanehi sant.. 

Hari hari om hari om.. 

Sant jo bolate hai woh dusare ka mangal chahate hai…unki wani mey paap taap harane ki kshamata hoti hai..kathakar jo bolate unke pichhe shastra hota hai….lekin sant jo bolate hai wohi shastra ban jata hai…Nanak ki wani shastr ho gayi,leela shah bapu ki wani shastr ban gayi… 

Om Namo Bhagavate vasudevayVasudevay…priti devay,bhakti devay..madhurya devay..shanti devay..aanand devay…om namo bhagavate vasudevay… 

Manushya ke jeevan mey kitana bhi dhan ho maan ho lekin man ki shudhhi nahi hai to sab vyarthya hai….mann ki shudhhi ke siva shanty mnahi milegi..aur mann ki shuddh karane ke liye sundar upay batate hai bhagavan gita mey..(bapuji ne gita ka shlok kaha) 

Jaap se mann shudhh hota hai

Paap bhasm hote hai

Vyarthya ki echhaye mitati hai

Vyadhi ka mool se nash hota hai

Prabhu prem badhane lagata hai

Paramanand prapt kar sakata hai

Prabhu  ke Darshan ke echha matr se  swasthya  aayu aarogya sampada yash khich ke charano mey aane  lagata hai..

..Lekin yash ke ahankar mey praja ka shoshan na kareYash mey bhi  denewale bhagavan ka bhav mil jata hai to bhagavan ka smaran karake amar aatama ka sangit sunayi padata hai…Sant ka bhav es prakar ka hai…hamhare paap taap ko harane ka hai… 

Jaap se purnatva ka prakash hota hai.. 

Mantr kisi aatmgyani guru se liya jata hai to guru se jaapak ko shakti milati haiJaapak ka prabhav badhata hai..Guru ke mantra ke aisi mahima hai ki kabir ko unko guru se raam naam ka mantr mila tha .. raam naam ka satat  smaran kar ke kabir ke jeevan mey madhurata aayi..

 Jaapak ke liye 3 bate mahatvpurn hai

1) niyamit jaap

2) arth ka chintan karek jaap

3) shradhha aur prem purvak jaap 

Jaapak ki shradhha jitani majaboot, jaapak ki sat-charitrata jitani majboot etana hi mantra ka samarthya jyada  hai..prabhav jyada hai… Mantr-jaap  se adrush bhi drushya hota hai…yatharth ka sachcha gyan manta se hi hota hai..hamhara kalian karanewala mantr yog hi hai..jivatma ka sachha kalyan hota hai ..

 Mantra  ke 6 bate mahatvpurn hoti hai:-1)rushi,2)devata,3)chhand,4)artha  5)viniyog  aur 6)shakti

Mantra mey “bij” bhi hota hai……(Jaise omkar yah bij mantr hai , es mantra ke rushi-paramtma  hai, chhand –gayatri hai, devata –antaryami  hai….) 

Guru ke dwara mile huye mantr se 33 prakar ke phayade hote, hote, hote(sadgurdev 3 baar bole) hi hai ….! Jinko phayada hua hath upar karo..kisi ko 10% kisi ko 50 to kisi ko 90 %..To kal subah 7.30 aur  9.30 ke bich mey mantr diksha milegi..bhayiyo aur aur mayiyo ko unke mantr milenge aur bachcho ko sarswatya mantr diya jayega.. bharat ke bachche honhar honge.. J Diksha ke liye aate samay phal phool rupeeya kuchh mnahi lana,sirf japane ke liye mala lana aur shiv gita le aana ..

Mantr vigyan ek sukshm vigyan hai….

mantra se aap ka swabhav badalega.

Mantra se aatmik prabhav badhega

Manobal buddhibal ka vikas hoga

Aaayu aarogya badhega

Shatru se aapada se raksha hogi

Shanty aur sthirata karata hai mantra 

Mantra saphal tub hota hai jab bhav se jaap kare..sadhana mey niyamitata rakhe..guru ke dwara mantr sweekar karate hai to guru ke adhikar se  jaapak ko bal milata hai..Guru se yogyata ke anusar japak mantr milata hai to labh hota hai…

Niyamit jaap dhyan sadhana se bahot phayada hota hai.. 

Dhyan se ritambhara pragya jagrut hoti hai…

jaapak mey satvik parivartan hone lagata haihruday ki sukshm chintan ki dhara badh jati hai..

guru aur bhagavan ke Darshan swapne mey hone lagate hai

sadachar aur gyan ki raksha hotihai..

manobal buddhibal vikasit hota hai

bure logo ke prabhav se indriyo mey vicar paida hote hai, unse raksha hoti hai..indriyo par sayyam aata hai.

sadguru ki diksha se shok nash hote hai..ihlok sudhar jata hai aur parlok me sadgati hoti hai

Vishwambhar mey bhagavat satta se prapt ekakar ki yogyata prapt hoti  hai..  Aatmik sukh satsang se aata hai.. 

(sadgurudev ne mirabai ka bhajan sunate huye  kaha ki Nigura rahana bahot vinashak hai.)

 Aap ko shivaji ki taraf se dhanywad deta hu..jo satsang sunate hai (padhate bhi hai..  J  !…)unke mata dhanya hai,pita dhanya hai..unka kul aur gotra dhanya hai…

“dhanyo mata pita dhanyo

gotram dhanyam kulodbhavam

..Dhanyoch vasudha devi

Yatr   syat guru bhaktata” 

Hey parvati..jo satsang  ka labh lete hai unki (unki mana tumhari..   J …)mata dhnya hai pita dhnya hai,kul aur gotra dhanya hai aur unke kul mey uttpann hota hai unko bhi shivji advance mey dhanywad dete hai.. 

Madhur madhur naam kirtan ho raha hai..  

Pujya bapuji ne kaha ki kirtan ki madhurata se ap ke sharer mey adhyatmik andolan badhatehai…aap ke rakt mey madhury ke pavan kan bahane lagate hai.. (krupaya   http://www.ashram.org/AshramPortal/Webcast/satsangwebcast.aspx?titleid=20   es link pe aap es madhur bhajan ka labh lijiyega,Sadgurudev ki jay ho!!!!!)

Ujjain mey tum hum bole..hari hari om Hari om hari om

Bharat bhar mey gunja naam..hari hari om…

Vishwbhar mey sadhak bole hari hari om..

Ye hari naam ki gadi mukti aur bhakti ke raste jaa rahi hai… 

Hariii om..  

shanti…

..kirtan karane ke baad thodi der chup….to andolan ka prabhav gaharayi me utrenge..

Ishwar mey shanti pane ka sundar tarika 

Shwas andar gaya “om” bahar aaya 1..shwas andar gaya “aanand”..bahar aaya 2..shwas andar gaya “shanti” bahar aaya 3 shwas andar gaya “madhurya” bahar aaya 4…..esprakar aapne mey jo pawan parivartan ho raha hai use sahayog kiya to mahan ho jayenge…mahan jo ishwar hai usme vishranti pane se mahan banata hai..ye ishwar mey vishranti pane ka sundar tarika hai..uska mahatv jano…anap shanap karyo mey shakti kharch mat karo…jitane karm karo ratri ko shant ishwar ko arpan karke ishwar mey shanti pao…. 

Aarati ho rahi hai.. “OM SHIV OMKARA SWAMI JAY SHIV OMKARA..”

Prarthana ho rahi hai.. “karpur gauram karunavataram…” 

hari om hari om 

Bhayanashan durmati haran kali mey hari ko naam

Nishi din nanak jo jape saphal hovai sab kaam 

Hari hari om hari om..  

Hari sam jag kachhu vastu nahi prem panth sam panth

Satguru sam sajjan nahi gita sam nahi granth..

 Hari hari om hari om Jitana pyar se bhajoge utana jaldi mangal hoga.. Vastavik bhagavan hi tumhare the,hai aur rahenge….pati patni..dukan makan chhut jayenge.jo nahi rahega uske liye din raat mar mit rahe ho..dukh nahi mitata…bhagavan ko apana mano aura pane ko bhagavan ka mano to dukh tikega nahi aur such mitega nahi…..pakki bat hai….aap ko lagata hai mujhe dukh hai? 

Sada diwali sant ki aatho prahar aanand

Akalmata koi upaja gine indra ko rank 

 Santo ko jo aatmsukh milata hai uske samane indr ka such bhi kuchh nahi…

“Tin tuk kofin ki bhaji bina lun

Tulasi hruday raghubir base to indra bapuda kun?” 

Sadgurdev ne ladies ki tamam samasyao ke liye  upay bataya aur jara jara bato me darane ki aawashyakata nahi aur operation bhi nahi kare aisa bhi kaha hai.. 

Ladies ki problems(masik dharm ki samasyaye) ke liye upay:-  

Gurudev ne kaha ki deviyon ko maasik dharm ki problem ho to
painkiller/injection na lein, bahut nuksaan karte hain…koi bhi
striyon(ladies) ki gupt bimaari ho, raat ko paani rakh lo sava litre, taambe ka bartan ho to theek hai, nahin to kisi mein, savere manjan kar ke, brush karne se fayada nahin hota, manjan karna chahiye, main (Gurudev) bhi manjan karta hun…manjan karke tulsi ke 5 pattey kha liye…lekin itvaar(Sunday) ko tulsi nahin khaana, nahin todna…5 pattey kha liye aur paani pi liya…vaise to suraj ugne par hi paani pina chahiye, raatri ko paani pina jathra mand karta hai…raatri ko der bhojan karma bimaari laata hai..aur din mein bhojan kar ke sona bimari laayega…yeh baatein samajh lo to aap nirog reh saktey ho…
to woh paani pi liya sava litre, thoda ghoomey phirey, 8 din ke andar
kabjiyat ki bimaari, pet saaf nahin aata to saaf aaney lagega…maasik
mein peeda hoti hai to peeda mit jaayega, jaada/kam aata hai to theek ho jaayega…nahin aata hai, santaan nahin hoti hai…aaney lagega, aur santaan ka mantr bhi de dengey, santaan bhi ho jaayegi…aise log thhey doctor boltey thhey santaan nahin hogi, aise logon ke ghar mein abhi 3-3 santaanein khel rahi hain…
 Sadgurudev ne aur bhi bahot upay bataye…aur kaha ki ye to sabhi maranewale sharer ke upay hai,jise ek din samshan le jayenge aur jala denge…lekin jo marane ke baad bhi rahega usaka gyan  kar lo….  

Hari om!jay sadgurudev ki!!!!!

(galatiyo ke liye prabhuji kshama kare..) 

*************************************

In hindi devnagari

****************************  

श्री सुरेशानान्द्जी का सत्संग मिल रहा है:-
जिनके घर मे बेटी कि शादी, या परिवार मे कोई समस्या है तो ऐसी बहनो के लिए स्कंध पुराण मे बताया हुआ मंत्र श्री सुरेशनंद्जी महाराज  ने कहा:-
“ॐ ह्रीम (rhim)  गौरियाय नमह”
अगर आश्रम मे  जाना संभव है तो वहा के वड-दादा को प्रदक्षिणा करे, वड-दादा कि मिटटी क़ुम क़ुम मे मिलाकर उत्तर दिशा मे मुख करके तिलक करे और ऊपर दिया हुआ मंत्र बोले.कुछ ही दिनों मे आप को लाभ होगा..बेटी कि शादी होनी है तो हो जायेगी, परिवार मे कोई अनबन है,चीड्चीङापन है तो शांति आ जायेगी.
 
(उन्होने एक बहन  को एक महिना जाप करने से उसके सांसारिक जीवन की समस्याएं  कैसे ठीक हो गयी ये भी बताया.)
चेम्बुर की कमलादेवी   माता आनंदमयी  माँ को गुरू मानती थी..जब आनंदमयी माँ ब्रह्मलीन हो गयी तो कमलादेवी बहोत दुःखी रहने लगी.तब  माँ आनंदमयी  ने कमलादेवी को सपने मे आकर उसका हाथ पकड़ कर कहा कि तुझे  मेरा सान्निध्य नही मिलता इसलिये बहोत दुःख होता है ना बेटी तो….. आनंदमयी माँ ने उनका हाथ बापूजी के हाथ में  दिया और स्वप्ने से अंतर्धान  हो गयी..कुछ दिन बीते तब  उस कमला बेहेन ने  टीवी  पे बापूजी को देखा तो उनको पता पड़ा कि इनका नाम आसाराम बापूजी है और माँ आनंदमयी ने इन्ही के हाथ मे मेरा हाथ दिया था..तब  वोह  बहन  आमदावाद  आयी थी और उन्होने बापूजी से  दिक्षा ली और पंडाल मे सभी  को अपनी कथा भी सुनायी थी…
 श्री सुरेशानान्द्जी ने किसी साधक के बारे मे कहा कि उन्हें भी उनके गुरुदेव ने स्वप्ने मे आकर कहा था कि तुम्हारी साधना  अधूरी है,और आसाराम बापूजी से दीक्षा लेने के लिए कहा था,वोह  भाई भी अभी बापूजी के    शिष्य है और अपनी साधना कर रहे है..
 बापूजी जो शिवाजी के उपासक है उन्हें शिव जी का मंत्र देते है,जो विष्णु जी के उपासक  है उन्हें उनका मंत्र देते है,जो माता के उपासक है उन्हें उनका मंत्र देते है और जो विद्यार्थी है उन्हें सारस्वत्य  मंत्र मिलाता है..सब  को योग्यता के अनुसार मंत्र मिलता है तो  उसका प्रभाव बहोत होता है..
…आत्मज्ञानी सदगुरु से दिक्षा लेने का महत्त्व बताते हुए निगुरे और ग़लत बाबाओ के  चेले बनने वालो के लिए उन्होंने कहा की  बबूल के पेड से आम नही मिलेगा, साप को दूध पिलाया तो वोह  जहर ही देगा,प्लास्टिक के फूलो से खुशबू नही आएगी..लेकिन आजकल लोग ऐसी ही गलती कर बैठते है….
 
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…भगवान की महिमा पुस्तक जरुर पढे…
 
 
इतने मे एकदम उल्हास भरी सदगुरुदेव की अमृतमय वाणी सुनकर कान धन्य हो गए….
“हरि हरि बोल……राजा की फौज फकीर की मौज…शंकर कांटा लगे ना कंकर!”
 और सभी साधक झूम  झूम  कर नाचने लगे…..
नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण…
आप यहा भक्ती साधना  करने आये हो या नाचने आये हो..ये उज्जैन के तीर्थ मे आप नाचने कूदने आए  हो क्या?ये ही करना था तो इधर क्यो आये,घर पर ही कर लेते…क्या हालचाल है …? बाप रे बाप ये उज्जैन का महाकुंभ है क्या…? (बापूजी सत्संगियो कि भिड़ को देखकर बोल रहे है…)

क्या माईयां  गलती किया ना..?माईया होकर आप नाच रही है,..ये अच्छा है क्या?
 
हां..(ये विकारी डान्स नही..)..भगवान भोलेनाथ भी डमरू बजाकर नाचते थे..
धिमक  धिमक धिम धिमक धिमक धिम नाचे भोला नाच…
 
तो ये भगवान के प्रेम मे नाचना है..जैसे मीरा नाची थी..
नारद वीणा बजा कर  नाचते थे और कृष्ण बंसी बजाकर नाचते थे..भगवान के प्रेम कि बोली का नाम है संगीत और भगवान के प्रेम का भाव का नाम है नृत्य….
 
नाथ संप्रदाय के गोराक्षनाथ जी ने कहा था…….कहे नाथ मई तिसके संग..
 
हसिबो खेलिबो धरिबो ध्यान
अहर्निश करिबो आत्मज्ञान
 
सीख संप्रदाय के गुरू नानक जी ने कहा,
“ हसंदिया ,खेलंदिया, खावंदिया ,पेहेनंदिया….  विच कर दिए मुगती….” हसते खेलते पहनते खाते मुक्ति कर दे  ऐसे सदगुरु हमें  प्यारे लगते है…..
 
मैं  अभी खीर खा कर आया हूँ ….लेकिन थोड़ी..बड़ी उमर मे ज्यादा खाओ तो गैस करता है..इसलिये खाने पिने पर संयम  रखना जरुरी है…
 
बचपन मे कफ , जवानी मे पित्त और बड़ी उमर मे वात(गैस) के दोष ज्यादा सताते है…..तो जो बड़ी उमर के है और जिनको गैस का,वात का दोष सताता हो..हाथ ऊपर करे…
तुम्हारी सचाई का मैं स्वागत करता हू..
 
तो ऐसे वात दोष के लिए एक बड़ा ही सुन्दर उपाय है..
दूध तो रोज पीना ही चाहिऐ इस   उमर मे…..तो दूध मे ३ काली मिर्च डालकर उबाले और पिए…दूध को गाढ़ा नही करना  है इसलिये दूध मे पानी मिलाये,और पानी निकल जाये तब  तक
 उबाले..जैसे एक लीटर दूध है तो एक लीटर पानी डालो और काली मिर्च डालकर उबालो..जब उबालकर १ लीटर हो जाएगा तब .. वोह  दूध पियो तो गैस नही होगी..
ध्यान रखो कि दूध भैस का नही गाय  का होना चाहिऐ.
और वोह  भी अगर कली गाय  का मिले तो बहोत अच्छा..काली गाय  के दूध मे वात विकारों का शमन करने की शक्ति होती है…
भैस का दूध  नही पचाता ..
वायु कि ८० प्रकार कि शिक़ायत होती है..एक बढ़िया उपाय:-
100gram धनिया(सुखा)
100gram हरङ
50gram शक्कर
पोँवडर  करके रखो..6gram सुबह और 6gram शाम को ले लो…सभी वायु दोषों से, गैस trouble से मुक्ति…!
आसाराम बापू जिंदाबाद! :-)
अरे बोलो..  :-)
चुप बैठे हो शरम नही आती…  :-)
……यह मेरा आप लोगो के प्रति प्रेम है..:-)…मोहब्बत जोर पकड़ती तो शरारत का रूप धारण कराती है….मुझे  मध्य प्रदेश के लिए बहोत मोहब्बत है…और ये मोहब्बत जोर पकड़ती है इसलिये शरारत…:-)  !!नही तो आप चुप बैठे हो , शरम नही आती ऐसा क्यो कहता ?  :-)


 
देखा सुना कभी ऐसा जिंदगी मे?
ये कैसा है जादू …समझ मे ना आया..तेरे प्यार ने हमको जीना सिखाया..
नारायण  श्रीमान नारायण ..नारायण भवतारायण..श्रीमान नारायण नारायण नारायण नारायण…
हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ..
 
जो झूक   के बैठे है वोह  दब्बू होंगे..उनका मनोबल अविकसित , कमजोर रह जाता है..
 
क़मर सीधी…..इससे मनोबल बढ़ता है..
बाहे (लेफ्ट) नाक से श्वास लो..गुरुमंत्र का जप करो…दाहे (राईट) नाक से छोडो..ये हुआ एक प्राणायाम ..ऐसे 10 प्राणायाम सूर्यास्त के पहले करने चाहिऐ…
 
दोनो नथुनों से श्वास खीचा…और बाहे नथुने से छोड़ा  तो ३ प्रकार के  रोगों से बचोगे..कफ,वायु और पित्त…
 
और अगर वायु कि तकलीफ है(gas trouble ) तो दाहे(right) नथुने से श्वास अन्दर लिया ..रोका..गुरुमंत्र  का जाप किया और बाहे(left) से छोड़ा तो गैस trouble से आराम होगा..
 
शरीर  को स्वस्थ रखो..शरीर स्वस्थ रहेगा तो मन  प्रसन्न रहेगा..मन  प्रसन्न रहेगा तो बुद्धि मे प्रकाश होगा और आत्मज्ञान  बढेगा..
 
पक्का करो :- जो दिखाता है वोह  मेरा नही है,जो मेरा है वोह  मुझे  छोड़ना पड़ेगा..एक है जो मेरा नही है..सारे मकान,दुकान, गाडी मोटर तुम्हारे है क्या? नही……तो जो तुम्हारा नही वोह तो   नही. हैं ….लेकिन जिसे तुम अपना मानते हो ,वोह  भी तुम्हारा नही है……मेरी पत्नी ,मेरा बेटा  ये सब छूटने वाले है..जो नही छूटेगा वोह  है मेरा परमेश्वर जो मेरा आत्मदेव होकर बैठा है..जो सदा साथ रहेंगे …
 
नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण ..
 
जिसे हम अपना मानते है..वोह तो देनेवाले की करुणा कृपा है…
लेकिन वोह  भी सदा नही रहेगा…जो अपना है ,जो मरने के बाद भी रहेगा..वोह कभी छूटेगा नही….उसे जान लो..
ये सारा संसार मिटता है..लेकिन जो जीवात्मा सदा रहता है,परमात्मा सदा रहता है,ब्रह्म परमात्मा  सदा रहता  है…उसे जान लो…महाकाश और घड़े मे आकाश ..दोनो आकाश है..घड़े के आकाश से महा आकाश बड़ा है…लेकिन क्या घड़े के आकाश से महा आकाश अलग कर सकते है क्या?
ऐसा ही तुम्हारा हमारा  जीवात्मा उस परब्रह्म परमात्मा से अलग नही कर सकते….
 
एक माँ के ७ बच्चे है ,तो क्या एक बच्चे कि माँ  माँ है और दुसरे बच्चे कि नही है क्या?सब बच्चो की माँ बराबर होती है ..किसी की  ज्यादा किसी की कम ऐसे नही होती…वैसे ही हम सब के भगवान बराबर है.. किसी के ज्यादा और किसी के कम नही..
वेद कहता है पूर्ण मदः पूर्ण मिदम..
 
तो ये पक्का करो कि ये मरनेवाला शरीर  मैं नही हूँ …मरने के बाद भी जो रहेगा वोह मैं हूँ ..ब्रह्म हूँ ..ये मानने मे आप को कोई घाटा पडता है क्या ?.. :-)
 
रात को सोते समय अपने कर्म परमेश्वर  को अर्पण करे.. जो अच्छे काम किये , हे प्रभु तुम्हारी कृपा से..दोषों को दूर करने कि प्रार्थना करो…आप को बहोत लाभ होगा…आयु आरोग्य बढेगा आप  की सदगति  होने मे संदेह नही है….रक्त-चाप(high-low ब्लड प्रेशर) और तनाव(tentions) दूर होता है..व्यक्तित्व प्रभावशाली होगा..एक पैसा खर्च नही होगा, और आप बापू बन जायेंगे…:-)
 
भगवान को परमेश्वर को प्यार करो..बोलो कि बीन फेरे हम तेरे..तू मेरा है ना प्रभु? है ना? हैं  ना प्रभु ?ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ 

हरि ॐ ॐ ॐ
शक्ति….ॐ  ॐ  भक्ती..
हरि ॐ ओमोम ओमओम ॐ  ॐ आरोग्य….ॐ ॐ ओमओम ॐ उर्जा शक्ति …..ॐ ॐ ओमओम  हा  ह्हा हा  हाह  ह्हा  :-)
 
(परम पूज्य बापूजी हास्य कराए,जिससे अपने शरेर कि 72000 नाडियों के रक्त कण  शुध्द  होते है..)
 
ये नेपाल से आये है.इनको युवाधन  पुस्तक देना…
 
माननीय खाद्य मंत्री ,मध्य प्रदेश, परम पूज्य सदगुरुदेव  को माल्यार्पण कर रहे है…

 एक घड़ी आधी घड़ी आधी में पुनि आध
तुलसी  संगत साधू  की हरे कोटी अपराध…
 
 
सुख  देवे दुःख को हरे करे पाप का अंत,
कहे कबीर वोह  कब मिले परम सनेही संत हरि  ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ
 
कही भाषण देने जाना है उनको…ठीक है..
 
 
किसी ने हम को पूछा कि ,  तुम कथा करते हो?
 
भाषण नेता करता है,…कथा कथाकार करता है..लेकिन संत जो बोलता है वोह  सत्संग हो जाता है…और इसकी आधी घड़ी भी पुण्यादायी होती है…अपने जीवन को संवारने  का सामर्थ्य रखती  है..
एक घड़ी आधी घड़ी आधी में पुनि आध
तुलसी  संगत साधू  की हरे कोटी अपराध…


हरि हरि ॐ हरि ॐ..
 
संत जो बोलते है … वोह दुसरे का मंगल चाहते है…उनकी वाणी मे पाप ताप हरने की क्षमता होती है..कथाकार जो बोलते उनके पीछे शास्त्र होता है….लेकिन संत जो बोलते है वोही शास्त्र  बन जाता है…नानक की वाणी शास्त्र  हो गयी,लीला शाह बापू कि वाणी शास्त्र  बन गयी…
 
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
वासुदेवाय…प्रीति देवाय ,भक्ती देवाय..माधुर्य देवाय..शांति देवाय..आनंद देवाय…ॐ नमो भगवते वासुदेवाय…
 
मनुष्य के जीवन मे कितना भी धन हो मान हो लेकिन मन कि शुध्दी  नही है तो सब व्यर्थ्य है….मन  की शुध्दी  के सिवा शांती नही  मिलेगी..और मन  की शुद्धि  कराने के लिए सुन्दर उपाय बताते है भगवान गीता मे..(बापूजी ने गीता का श्लोक कहा)
 
जाप से मन  शुध्द  होता है
पाप भस्म होते है
व्यर्थ्य कि इच्छाये  मिटती है
व्याधि का मूल से नाश होता है
प्रभु प्रेम बदने लगता है
परमानन्द प्राप्त कर सकते  है
प्रभु  के दर्शन के इच्छा मात्र से  स्वास्थ्य  आयु आरोग्य सम्पदा यश खीच के चरणों मे आने  लगता है..
लेकिन यश के अंहकार मे प्रजा का शोषण ना करे
यश मे भी  देनेवाले भगवान का भाव मिल जाता है तो भगवान का स्मरण करके अमर आत्मा का संगीत सुनायी पडता है…
संत का भाव इस प्रकार का है…हमारे  पाप ताप को हरने का है…
 
जाप से पूर्णत्व का प्रकाश होता  है..
 
मंत्र किसी आत्मज्ञानी गुरू से लिया जाता है तो गुरू से जापक को शक्ति मिलती है
जापक का प्रभाव बढ़ता है..
गुरू के मंत्र की  ऐसी महिमा है कि कबीर को उनके  गुरू से राम नाम का मंत्र मिला  था .. राम नाम का सतत  स्मरण कर के कबीर के जीवन मे मधुरता आयी..
 
जापक के लिए ३ बाते महत्वपूर्ण है
१) नियमित जाप
२) अर्थ का चिन्तन कर के  जाप
३) श्रध्दा  और प्रेम पूर्वक जाप
 
जापक कि श्रध्दा  जितनी मजबूत,जापक की सत् -चरित्रता जितनी मजबूत उतना  ही मंत्र का सामर्थ्य ज्यादा  है..प्रभाव ज्यादा है…
 
मंत्र-जाप  से अदृश्य  भी दृश्य होता है…यथार्थ का सच्चा ज्ञान मंत्र  से ही होता है..हमारा  कल्याण  करनेवाला मंत्र योग ही है..जीवात्मा का सच्चा कल्याण होता है
 
 
मंत्र  के ६ बाते महत्वपूर्ण होती है:-
१)ॠषी,२)देवता,३)छन्द,४)अर्थ  ५)विनियोग  और ६)शक्ति
मंत्र मे “बिज” भी होता है……(जैसे ओमकार यह बिज मंत्र है , इस मंत्र के ॠषी-परम्त्मा  है, छन्द –गायत्री है, देवता –अंतर्यामी   है….)
 
गुरू के द्वारा मिले हुये मंत्र से ३३ प्रकार के फायदे होते, होते, होते(सदगुरुदेव  ३ बार बोले) ही है ….!
 
जिनको फायदा हुआ हाथ ऊपर करो..किसी को १०% किसी को ५० तो किसी को ९० %..
तो कल सुबह ७.३० और  ९.३० के बिच मे मंत्र दीक्षा मिलेगी..भाईयो और और माईयो  को उनके मंत्र मिलेंगे और बच्चो को सारस्वत्य  मंत्र दिया जाएगा.. भारत के बच्चे होनहार होंगे.. :-)
 
दिक्षा के लिए आते समय फल फूल रुपीया कुछ भी नही  लाना,सिर्फ जपने के लिए माला लाना और शिव गीता ले आना
 
मंत्र विज्ञान   एक सूक्ष्म विज्ञानं  है…
.मंत्र से आप का स्वभाव बदलेगा.
मंत्र से आत्मिक प्रभाव बढेगा
मनोबल बुद्धिबल का विकास होगा
आयु आरोग्य बढेगा
शत्रु से आपदा से रक्षा होगी
शांती और स्थिरता करता है मंत्र
 मंत्र सफ़ल तब  होता है जब भाव से जाप करे..साधना मे नियमितता रखे..गुरू के द्वारा मंत्र स्वीकार करते है तो गुरू के अधिकार से  जापक को बल मिलता है..
गुरू से योग्यता के अनुसार जापक को  मंत्र मिलता है तो लाभ होता है…
नियमित जप ध्यान साधना से बहोत फायदा होता है..
 
ध्यान से ऋतम्भरा  प्रज्ञा जागृत होती है…
जापक मे सात्विक परिवर्तन होने लगता है
ह्रदय कि सूक्ष्म चिन्तन कि धारा बढ़ जाती है..
गुरू और भगवान के दर्शन स्वप्ने मे होने लगते है
सदाचार और ज्ञान कि रक्षा होती है ..
मनोबल बुद्धिबल विकसित होता है
बुरे लोगो के प्रभाव से इन्द्रियों मे विकार पैदा होते है, उनसे रक्षा होती है..
इन्द्रियों पर संयम  आता है.
सदगुरू कि दिक्षा से शोक नाश होते है..
इहलोक सुधर जता है और परलोक मे सदगति होती है
विश्वम्भर मे भगवत सत्ता से प्राप्त एकाकार की योग्यता प्राप्त होती  है..
 
 
आत्मिक सुख सत्संग से आता है..
 
(सदगुरूदेव ने मीराबाई का भजन सुनाते हुये  कहा कि निगुरा रहना बहोत विनाशक है.)
 
आप को शिवजी कि तरफ से धन्यवाद देता हू..जो सत्संग सुनते है (पढते भी है..  :-)  !…)उनके माता धन्य है,पिता धन्य है..उनका कुल और गोत्र धन्य है…
“धन्यो माता पिता धन्यो..
गोत्रम धन्यो कुलोद भव
धन्याच  वसुधा देवी
यत्र स्याद    गुरू भक्तता”
 
हे पार्वती..जो सत्संग  का लाभ लेते है उनकी (उनकी माना  तुम्हारी..   :-) …)माता धन्य है पिता धन्य है,कुल और गोत्र धन्य है और उनके कुल मे उत्तपन्न होता है उनको भी शिवजी advance मे धन्यवाद देते है..
 
मधुर मधुर नाम कीर्तन हो रहा  है..
 
 
पूज्य बापूजी ने कहा कि कीर्तन कि मधुरता से आप के शरीर  मे अध्यात्मिक आन्दोलन बढ़ते है …आप के रक्त मे माधुर्य  के पावन कण बहने लगते है॥……(कृपया आप भी इसका लाभ लीजियेगा…..

http://www.ashram.org/AshramPortal/Webcast/satsangwebcast.aspx?titleid=20


इस लिंक पर क्लिक कीजियेगा…)
..हरि ॐ हरि ॐ..
उज्जैन मे तुम हम बोले..हरि हरि ॐ
हरि ॐ हरि ॐ
भारत भर मे गूंजा नाम..हरि हरि ॐ…
विश्वभर मे साधक बोले हरि हरि ॐ..
ये हरि नाम कि गाडी मुक्ति और भक्ती के रास्ते जा रही है…
 
हरीई ॐ..
 
शांति..
श्वास अन्दर गया “ॐ” बाहर आया १..श्वास अन्दर गया “आनंद”..बाहर आया २..श्वास अन्दर गया “शांति” बाहर आया ३ श्वास अन्दर गया “माधुर्य” बाहर आया ४…..इस प्रकार  अपने मे जो पावन परिवर्तन हो रहा  है उसे सहयोग किया तो महान हो जायेंगे…महान जो इश्वर है उसमे विश्रांति पाने से महान बनता है..ये ईश्वर मे विश्रांति पाने का सुन्दर तरीका है..उसका महत्त्व जानो…अनाप शनाप कार्यो मे शक्ति खर्च मत करो…जितने कर्म करो रात्री को शांत ईश्वर को अर्पण करके ईश्वर मे शांती पाओ ….
 
आरती हो रही है..
 
“ॐ शिव ओम्कारा स्वामी जय  शिव ओम्कारा..”

प्रार्थना हो रही है..
 
“कर्पूर गौरम  करुणावातारम…”
 
हरि ॐ हरि ॐ
 
भयनाशन दुरमति हरण कलि मे हरि को नाम
निशि दिन नानक जो जपे सफ़ल होवे सब काम
 
हरि हरि ॐ हरि ॐ..
 
 
हरि सम जग कछु वस्तु नही प्रेम पंथ सम पंथ
सतगुरु सम सज्जन नही गीता सम नही ग्रंथ..
 
हरि हरि ॐ हरि ॐ
 
जितना प्यार से भजोगे उतना जल्दी मंगल होगा..
 
वास्तविक भगवान ही तुम्हारे थे,है और रहेंगे….पति पत्नी..दुकान मकान छुट जायेंगे.जो नही रहेगा उसके लिए दिन रात मर मिट रहे हो..दुःख नही मिटता…भगवान को अपना मानो और अपने  को भगवान का मानो तो दुःख टिकेगा नही और सुख  मिटेगा नही…..पक्की बात है….आप को लगता है मुझे दुःख है?
 
सदा दिवाली संत कि आठों प्रहर आनंद
अकलमता कोई उपजा गिने इंद्र को रंक
 
 
संतो को जो आत्मसुख मिलता है उसके सामने इन्द्र का सुख  भी कुछ नही…
“तिन टूक कोफिन की भाजी बिना लूण
तुलसी ह्रदय रघुबीर बसें तो इंद्र बापुडा कुण?”
 
सदगुरुदेव  ने ladies कि तमाम समस्याओ के लिए ये उपाय बताया और जरा जरा बातो मे डरने की आवश्यकता नही और ऑपरेशन भी नही करे ऐसा भी कहा है..
 
लेडीज  कि प्रोब्लेम्स(मासिक धर्म कि समस्याये) के लिए उपाय:-

गुरुदेव ने कहा कि देवियों को मासिक धर्म कि प्रोब्लेम  हो तो पैन किलर /इंजेक्शन न लें, बहुत नुकसान करते हैं…कोई भी स्त्रियों  की गुप्त बिमारी हो, रात को पानी रख लो सवा लीटर, ताम्बे का बरतन हो तो ठीक है, नहीं तो किसी में, सवेरे मंजन कर के, ब्रश  करने से फायदा नहीं होता, मंजन करना चाहिऐ, मैं (गुरुदेव) भी मंजन करता हूँ…मंजन करके तुलसी के ५ पत्ते खा लिए…लेकिन इतवार(सन्डे) को तुलसी नहीं खाना, नहीं तोडना…
५ पत्ते खा लिए और पानी पी लिया…वैसे तो सूरज उगने पर ही पानी पीना चाहिऐ, रात्री को पानी पीना जठरा मन्द करता है…रात्री को देर भोजन करना  बिमारी लाता है॥और दिन में भोजन कर के सोना बिमारी लाएगा…यह बातें समझ लो तो आप निरोग रह सकते हो…तो वोह पानी पी लिया सवा लीटर, थोडा घूमे फिरे, ८ दिन के अन्दर कब्जियात  की बिमारी, पेट साफ नहीं आता तो साफ आने लगेगा…मासिक में  पीड़ा होती है तो पीड़ा मिट जाएगा, जादा/कम आता है तो ठीक हो जाएगा…नहीं आता है, संतान नहीं होती है…आने लगेगा, और संतान का मंत्र भी दे देंगे, संतान भी हो जायेगी…ऐसे लोग थे डॉक्टर  बोलते थे संतान नहीं होगी, ऐसे लोगों के घर में अभी ३-३ संतानें खेल रही हैं…

 
 
सद्गुरुदेव ने और भी बहोत उपाय बताये…और कहा कि ये तो सभी मरनेवाले शरीर
 के उपाय है,जिसे एक दिन समशान  ले जायेंगे और जला देंगे…लेकिन जो मरने के बाद भी रहेगा उसका ज्ञान  कर लो….
 
 
हरि ॐ!जय सदगुरूदेव की!!!!!
(गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे..)
 

About these ads
Explore posts in the same categories: Uncategorized

3 Comments on “Mantra jaap ke adbhut Labh:satsang_live(Ujjain)”

  1. vikram Says:

    it was my good luck to see this site by the grace of god and gurukrupa only!! i was searching sites just to get some mantra to get rid of debt on me, however i could not!! i would like to request guruji to help me to come out of this situation. i do not have much money, i need to know some sadhana to get both the ends meet and there should be no debt on me.

    can guruji help me??

    with due respect to guruji,

    vikram.

  2. vishnu lodha Says:

    shri ram jai ram jaiajai ram

    jay ho guru dev ki jay ho………………………hari om hari om


  3. I just like the helpful info you supply on your articles. I’ll bookmark your blog and check once more right here regularly. I am quite certain I’ll be told many new stuff right right here! Good luck for the next!


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 20,190 other followers

%d bloggers like this: